Latest News Site

News

दुबई से संचालित आतंकी गिरोह से जुड़े झारखंड के गुलाम मुस्तफा सहित 24 अपराधी गिरफ्तार

दुबई से संचालित आतंकी गिरोह से जुड़े झारखंड के गुलाम मुस्तफा सहित 24 अपराधी गिरफ्तार
January 22
09:26 2020
  • आतंकी संगठन से जुड़े हैं रेल टिकट के दलाल

Insightonlinenews Team

रांची: अपराधियों और आतंकियों से अब देश का कोई कोना सुरक्षित नहीं रह गया है। सरकार और सुरक्षा बलों की सतर्कता के लाख दावों के बावजूद अपराधी तत्वों का जाल फैलता ही जा रहा है। ऐसे ही एक गिरोह के 24 अभियुक्त गिरफ्तार हुए हैं जिनमें गिरोह में सक्रिय झारखंड के गिरिडीह का गुलाम मुस्तफा भी शामिल है।

इस गिराहे से रेल टिकट के दलाल जुड़े हैं जिनके सरगना द्वारा देश से बाहर दुबई से आपराधिक संचालन किये जाने की जानकारी मिली है। यह गिराहे आतंकी संगठन तबलीगी जमात से जुड़ है।
अधिकृत सूचना के अनुसार अवैध साॅफ्टवेयर से तत्काल श्रेणी के रेल टिकटों की कालाबाजारी से जुड़े मामले में रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) को बड़ी सफलता हाथ लगी है। आरपीएफ ने दलालों के ऐसे गिरोह को दबोचा है, जिसके तार टिकटों की कालाबाजारी के साथ आतंकियों से भी जुड़े हैं। गिरफ्तार दलालों में गिरिडीह (झारखंड) का रहने वाला मुख्य सूत्रधार गुलाम मुस्तफा समेत 24 लोग शामिल हैं। ये सभी आरोपी क्रिप्टो करंसी और हवाला (मनी लाॅन्ड्रिंग) के जरिए पैसा विदेश भेज रहे थे। मुस्तफा की गिरफ्तारी ओडिशा से की गई। वह बेंगलुरू से टिकटों की कालाबाजारी करता था।

इधर, आरपीएफ के महानिदेशक अरुण कुमार के अनुसार इस गिरोह के पास उपलब्ध उन्नत तकनीक के बारे में भी पता चला है। इस गिरोह में 20 हजार से अधिक एजेंटों वाले 200 से 300 पैनल देश भर में सक्रिय हैं। इसका मास्टरमाइंड हामिद अशरफ दुबई में बैठा है। वह बीते साल गोंडा स्कूल में धमाका करने के मामले से भी जुड़ा है। यह गिरोह पाकिस्तान के प्रतिबंधित संगठन तब्लीगी जमात से जुड़ा है। इसमें बेंगलुरु की एक सॉफ्टवेयर कंपनी भी साझीदार है और गुरुजी के कोडनेम वाला एक उच्च तकनीक में माहिर गिरोह को सक्रिय मदद देता है। इस खुलासे के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए), केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई), खुफिया ब्यूरो (आईबी), प्रवर्तन निदेशालय, कर्नाटक पुलिस की विशेष जांच इकाई भी जांच में जुड़ गई हैं।

टिकटों की कालाबाजारी में शामिल गिरोह का प्रमुख सदस्य गुलाम मुस्तफा हाल ही में भुवनेश्वर से पकड़ा गया था। उससे पूछताछ में इस पूरे नेटवर्क का खुलासा हुआ। गिरोह के पास फर्जी आधार कार्ड एवं फर्जी पैन कार्ड बनाने की तकनीक है और बंगलादेश से लोगों को अवैध रूप से लाने एवं यहां बसाने का काम भी कर रहा था।

इस पूरे कालाबाजारी को हैंडल करने वाला दुबई में बैठा हामिद अशरफ मूलरूप से उत्तरप्रदेश का रहने वाला है। वह 2019 के गोंडा बम विस्फोट का आरोपी भी है। वर्ष 2016 में आरपीएफ ने हामिद अशरफ को टिकट की कालाबाजारी में गिरफ्तार किया था। तत्काल टिकटों की कालाबाजारी से वह हर माह 15 करोड़ रुपए दुबई में बैठे-बैठे पाता है। अशरफ का सीधा कनेक्शन गुलमा मुस्तफा के साथ है।

मुस्तफा की शुरुआती पढ़ाई-लिखाई ओडिशा के केंद्रपाड़ा स्थित मदरसों से हुई है। बाद में वह यहां से बेंगलुरु चला गया। वहां उसने 2015 में रेलवे टिकट की दलाली शुरू की। इस काम में माहिर होने के लिए उसने ई-टिकटों के साॅफ्टवेयर की ट्रेनिंग ली फिर ई-टिकट की कालाबाजारी से जुड़ गया। इस दौरान दूसरे शहरों में भी अपने साथी तैयार कर ई-टिकटों की कालाबजारी का नेटवर्क बना लिया।

गुलाम मुस्तफा के साथ कई साॅफ्टवेयर डेवलपर भी जुड़े हुए हैं। इनके नीचे 200-300 लोगों का पैनल है। यही लोग झारखंड सहित देशभर के 20 हजार टिकट एजेंट से संपर्क में रहते हैं। आरपीएफ के अनुसार, अब तक की जांच से पता चला है कि हर माह करीब 10 से 15 करोड़ रुपए देश से बाहर अलग-अलग तरीकों से भेजे जा रहे थे। काले कारोबार की कमाई एक साॅफ्टवेयर कंपनी में निवेश भी की गई है।

आम तौर पर टिकट बुकिंग की पूरी प्रक्रिया में तीन मिनट तक का समय लगता है। लेकिन इस गिरोह ने ऐसा साॅफ्टवेयर बनाया है, जिससे एक मिनट में तीन टिकट बुक हो जाते हैं। इसी तकनीक के पकड़ में आने से आरपीएफ को गड़बड़ी का शक हुआ। जब इन टिकटों की जांच हुई तो ओडिशा से मुस्तफा की गिरफ्तारी हुई। उसके बाद इस काले कारोबार से जुड़े 23 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया। अन्य जांच एजेंसियों से भी इस नेटवर्क का भंडाफोड़ करने में सहयोग लिया जा रहा है।

अधिकृत सूचनाअनुसार गिरोह के भंडाफोड़ से देश में अन्य प्रकार से भी सक्रिय आतंकी गिरोह की धड़-पकड़ के लिए व्यापक स्तर पर छानबीन की जा रही है तथा पूछताछ और प्राप्त जानकारी के आधार पर सूक्ष्मता से सभी सरकारी सुरक्षा एजेंसियों ऐसे तत्वों केे विरूद्ध नजर रखने के लिए सतर्क और सक्रिय कर दिया गया है।

झारखण्ड : पत्थरगढ़ी का विरोध करने वाले सात ग्रामीणों के शव बरामद

TBZ
G.E.L Shop Association
Novelty Fashion Mall
Status
Akash
Swastik Tiles
Reshika Boutique
Paul Opticals
Metro Glass
Krsna Restaurant
Motilal Oswal
Chotanagpur Handloom
Kamalia Sales
Home Essentials
Raymond

About Author

Prashant Kumar

Prashant Kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    Rajnath strongly rebukes politics of communalism

Rajnath strongly rebukes politics of communalism

Read Full Article