Latest News Site

News

श्रावणी मेले की तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन

श्रावणी मेले की तैयारियों में जुटा जिला प्रशासन
May 19
20:10 2020

देवघर, 19 मई(हि.स.)। कोरोना संक्रमण काल के बावजूद देवघर जिला प्रशासन आगामी 6 जुलाई से आरम्भ होने वाले विश्व प्रसिद्ध श्रावणी मेले के तैयारियों में जुटा।

मंदिर प्रशासक सह उपायुक्त नैंसी सहाय के निर्देश पर अभियंताओं के एक दल ने मंदिर परिसर का जायज़ा लिया और बिजली,पानी,साफ-सफाई, आंशिक मरम्मती सहित अन्य जरूरी सुविधाओं को सूचीबद्ध करते हुए इसके दुरुस्त करने संबंधी मामलों से उपायुक्त को अवगत कराया।
अभियंताओं के दल में विशेष प्रमंडल सहित जिला अभियन्ता विजय कुमार शर्राफ, राणा विजय कुमार सिंह उदित नारायण सिंह समेत अन्य शामिल थे।

ज्ञात हो कि बाबा बैद्यनाथ मंदिर परिसर स्थित सभी 22 मंदिरों का रँग-रोगन,क्षतिग्रस्त रेम्प की मरम्मती,चदरा बदलने , स्टील गेट बदलने, बिजली की उच्च प्रवाहगामी तारों का बदलाव सहित अन्य सभी बड़ी जरूरतों को दुरुस्त किया जाना है।

मंदिर परिसर के सभी नलों के बदलाव सहित एसी आदि की व्यवस्था द्रुत गति से ठीक करवाया जाना आवयश्क बताया गया है।

उल्लेखनीय है कि पुरातन काल से द्वादश ज्योतिर्लिंगों में से एक बाबा बैद्यनाथ की इस नगरी में उत्तरवाहिनी मन्दाकिनी ,सुल्तानगंज बिहार से कांवड़ के माध्यम से जल लेकर पैदल-पाँव लाकर बाबा के जलाभिषेक का नियम रहा है जिसका निर्वहन सावन-भादों के इन दो महीनों में तकरीबन 70 लाख से ज्यादा लोगों का आगमन यहां होता है।

अब जबकि कोविड-19 के कारण जारी लॉक डाउन की वजह से मंदिरों में आम जनों का प्रवेश निषिद्ध किया जा चुका है ऐसी अवस्था में 6 जुलाई से आरम्भ हो रहे श्रावणी मेले की तैयारियों से उम्मीद बढ़ी है कि शायद मानकों का इस्तेलाल कर आपदाकाल में भी जलाभिषेक के इस धार्मिक अनुष्ठान को जारी रखने के प्रति जिला प्रशासन गम्भीरता से प्रयास कर रहा है।

प्रासंगिक है कि श्रावणी मेला न सिर्फ धार्मिक कृत्य है बल्कि यह देवघर समेत आस-पास के क्षेत्रों के लिए आर्थिक उन्नयन की दिशा में सबसे बड़ा कार्य है क्योंकि इसी श्रावणी मेला पर संपूर्ण क्षेत्र की व्यापारिक अर्थव्यवस्था टिकी हुई है।

सबसे बड़ी बात है कि जब इन दिनों देवघर में मानव समुंदर उमड़ता हो तब सामाजिक दूरियों का अनुपालन कैसे किया जाना संभव होगा।यदि अरघा सिस्टम से मंदिर परिसर से व्यवस्था संचलन किया जाय तब भी लाखों-लाख को नियंत्रित करना अत्यंत कठिन कार्य प्रतीत हो रहा है।

बावजूद,जिला प्रशासन की गम्भीरता से उम्मीद तो बढ़ ही गया है।

हिंदुस्थान समाचार

[slick-carousel-slider design="design-6" centermode="true" slidestoshow="3"]

About Author

Bhusan kumar

Bhusan kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    Congress leader to SC: No plan to address migrant crisis

Congress leader to SC: No plan to address migrant crisis

Read Full Article