Get Latest News In English And Hindi – Insightonlinenews

News

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा
July 13
00:27 2020

जन्मदिन 13 जुलाई

मुंबई। बॉलीवुड में प्रकाश मेहरा ने अपनी सुपरहिट फिल्मों के जरिये दर्शकों के दिलों पर खास पहचान बनायी है लेकिन करियर के शुरुआती दौर में वह अभिनेता बनना चाहते थे।

13 जुलाई 1939 को उत्तर प्रदेश के बिजनौर में जन्में प्रकाश मेहरा अपने करियर के शुरुआती दौर में अभिनेता बनना चाहते थे। साठ के दशक में अपने इसी सपने को पूरा करने के लिये वह मुंबई आ गये। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत में उजाला और प्रोफेसर जैसी फिल्मों में बतौर अभिनेता काम किया।

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा 4

वर्ष 1968 में प्रदर्शित फिल्म हसीना मान जायेगी बतौर निर्देशक प्रकाश मेहरा की पहली फिल्म थी। इस फिल्म में शशि कपूर ने दोहरी भूमिका निभाई थी। वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म जंजीर प्रकाश मेहरा के साथ ही अमिताभ के करियर के लिये मील का पत्थर सबित हुयी। बताया जाता है धर्मेन्द्र और प्राण के कहने पर प्रकाश मेहरा ने अमिताभ को जंजीर में काम करने का मौका दिया और उन्हें साइंनिग अमाउंट एक रुपया दिया था।

प्रकाश मेहरा अमिताभ को प्यार से ..लल्ला..कहकर बुलाते थे। जंजीर की सफलता के बाद अमिताभ और प्रकाश मेहरा की सुपरहिट फिल्मों का कारवां काफी दूर तक चला। इस दौरान लावारिस, मुकद्दर का सिकंदर, नमक हलाल, शराबी, हेराफेरी जैसी कई फिल्मों ने बॉक्स ऑफिस पर सफलता का परचम लहराया।

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा 5

प्रकाश मेहरा एक सफल फिल्मकार के अलावा गीतकार भी रहे और उन्होंने अपनी कई फिल्मों के लिये सुपरहिट गीतों की रचना की थी। इन गीतों में ..ओ साथी रे तेरे बिना भी क्या जीना, लोग कहते है मैं शराबी हूँ, जिसका कोई नही उसका तो खुदा है यारो, जवानी जाने मन हसीन दिलरूबा, जहां चार यार मिल जाये वहां रात हो गुलजार, इंतहा हो गयी इंतजार की ,दिल तो है दिल दिल का ऐतबार क्या कीजे , दिलजलो का दिलजला के क्या मिलेगा दिलरूबा ,दे दे प्यार दे ,और इस दिल में क्या रखा है ,अपनी तो जैसे तैसे कट जायेगी और रोते हुये आते है सब हंसता हुआ जो जायेगा आदि शामिल है।

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा 6

बताया जाता है मुंबई में अपने संघर्ष के दिनो में प्रकाश मेहरा को अपने जीवन यापन के लिये केवल पचास रुपये में गीतकार भरत व्यास को “तुम गगन के चंद्रमा हो मैं धरा की धूल हूं” गीत बेचने के लिये विवश होना पड़ा था।

प्रकाश मेहरा ने अपने सिने करियर में 22 फिल्मों का निर्देशन और 10 फिल्मों का निर्माण किया। वर्ष 2001 में प्रदर्शित फिल्म मुझे मेरी बीबी से बचाओ प्रकाश मेहरा के सिने करियर की अंतिम फिल्म साबित हुयी। फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी।

अभिनेता बनना चाहते थे प्रकाश मेहरा 7

प्रकाश मेहरा अपने जिंदगी के अंतिम पलो में अमिताभ को लेकर ..गाली..नामक एक फिल्म बनाना चाह रहे थे लेकिन उनका यह सपना अधूरा ही रहा और अपनी फिल्म के जरिये दर्शकों का भरपूर मनांरजन करने वाले प्रकाश मेहरा 17 मई 2009 को इस दुनिया को अलविदा कह गये।

वार्ता

About Author

Prashant Kumar

Prashant Kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad


LATEST ARTICLES

    कोरोना: रूस ने बना ली दुनिया की पहली वैक्सीन : राष्ट्रपति पुतिन

कोरोना: रूस ने बना ली दुनिया की पहली वैक्सीन : राष्ट्रपति पुतिन

Read Full Article