Latest News Site

News

आदिवासियों के बीच साढ़े तीन दशक से काम कर रहे शिक्षाविद् डा.खेड़ा का निधन

September 23
08:15 2019

बिलासपुर 23 सितम्बर : छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में अचानकमार के जंगलों में साढ़े तीन दशक से आदिवासियों के उत्थान में लगे दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर डा.प्रभुदत्त खेड़ा का आज यहां निधन हो गया।

डा.खेड़ा काफी समय से बीमार चल रहे थे,और उनका उपचार यहां के अपोलो अस्पताल में इलाज चल रहा था।आज सुबह उन्होने वहीं पर अन्तिम सांस ली।उन्हे पिछले वर्ष दिल का दौरा पड़ा था जिसके बाद से वह अस्वस्थ चल रहे थे।

दिल्ली विश्वविद्यालय में 15 साल तक समाजशास्त्र पढ़ाने वाले डा.खेड़ा 1985 से अचानकमार टाईगर रिजर्व के लमनी छपरवा में झोपड़ी बनाकर रहते थे।बताया जाता है कि 1983-84 में एक दोस्त की शादी में बिलासपुर उनका आना हुआ।उसी दौरान वह जंगल घूमने गए।वहां उन्होने रेस्ट हाउस में रुककर वहां बसने वाले बैगा जनजाति के लोगों के रहन सहन को देखा। इन लोगों की हालत और सरकार की बेरुखी देखकर प्रो.खेड़ा का मन इतना व्यथित हुआ कि उन्होंने प्रोफ़ेसर की नौकरी छोड़ दी और दिल्ली का ऐशो आराम छोड़कर लमनी के जंगलों में ही आ बसे।

डा.खेड़ा जीवनपर्यन्त वह आदिवासियों के उत्थान में लगे रहे।उनके प्रयासों से इस क्षेत्र में आदिवासियों में शिक्षा के प्रति काफी जागरूकता आई।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने डा.खेड़ा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।उन्होने ट्वीट कर कहा कि..अचानकमार के घने जंगलों के बीच 30 साल तक कुटिया बनाकर बैगा आदिवासियों के बीच शिक्षा का उजियारा फैलाने वाले, दिल्ली विश्वविद्यालय के पूर्व प्रोफेसर डॉ. प्रभुदत्त खेड़ा के निधन की खबर सुनकर मन दुःखी है..। डॉ खेड़ा त्याग, संकल्प और नि:स्वार्थ सेवा की प्रतिमूर्ति थे..।

वार्ता

 

[slick-carousel-slider design="design-6" centermode="true" slidestoshow="3"]

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    Actionable: Buy ICICI Bank, Reliance Industries, JSW

Actionable: Buy ICICI Bank, Reliance Industries, JSW

Read Full Article