Online News Channel

News

कामुक मूर्तियों की नगरी खजुराहो हुई ‘गर्म’

कामुक मूर्तियों की नगरी खजुराहो हुई ‘गर्म’
June 02
10:11 2019

संदीप पौराणिक

खजुराहो (मध्य प्रदेश), 2 जून । विश्व प्रसिद्ध पर्यटन नगरी खजुराहो की पहचान कामुक मूर्तियों के कारण है। यहां का जीवन दर्शन युवाओं और नव युगल में नई ऊर्जा का संचार कर देता है, मगर इन दिनों यह नगरी नव युगलों को देने वाली ऊर्जा से कहीं ज्यादा ‘गर्म’ है। यहां तापमान 47 डिग्री सेल्सियस को पार कर गया है।

मई माह की शुरुआत तक यहां प्रतिदिन औसतन 50 युगल पहुंचते थे, वर्तमान में यह संख्या घटकर लगभग 30 रह गई है। इनमें घरेलू पर्यटकों की संख्या बहुत कम है।

पर्यटन कारोबार से जुड़े अजय कश्यप ने कहा कि बीते 20 दिनों में यहां आने वाले पर्यटकों की संख्या में 40 फीसदी गिरावट आई है और यह सभी युवा कपल होते हैं।

मध्य प्रदेश के समस्याग्रस्त बुंदेलखंड इलाके की इस ऐतिहासिक नगरी के मंदिर हर वर्ग के आकर्षण का केंद्र है। यहां देश और दुनिया के पर्यटकों की आमद बनी रहती है, मगर इन दिनों यहां का नजारा दीगर मौसमों की तुलना में जुदा है। सड़कों पर सन्नाटा पसरा पड़ा है, पर्यटकों की संख्या नगण्य है और यहां का पर्यटन कारोबार बुरी तरह प्रभावित है।

Khajuraho-1

स्थानीय गाइड सचिन द्विवेदी कहते हैं, “खजुराहो के मंदिरों को लेकर आमजन में धारणा है कि यहां सिर्फ कामसूत्र पर आधारित मूर्तियां हैं, मगर पूरी तरह ऐसा नहीं है। यह बात सही है कि बड़ी संख्या में कामुक मूर्तियां हैं, इसकी वजह भी है क्योंकि इंसान के जीवन दर्शन में भी तो काम का हिस्सा है। इसके बिना इंसानी जीवन अधूरा है।”

Friends IT Solution

द्विवेदी कहते हैं, “खजुराहो के मंदिरों पर उकेरी गई मूर्तियां नव युगल के जीवन में नया रस भरने का काम करती है। खजुराहो की स्थापत्य कला को लेकर लोगों में खास जिज्ञासा होती है और इसी के चलते देशी-विदेशी नव युगलों का बड़ी संख्या में यहां आना होता है। कई बार तो नव युगल इन मूर्तियों को अपने जीवन से जोड़ लेते हैं, और लंबा विमर्श तक कर जाते हैं। इन दिनों वैसे नजारे देखने को कम ही मिल रहे हैं, इसकी वजह मूर्तियों से मिलने वाली ऊर्जा से कहीं ज्यादा यहां का वातावरण गर्म जो है।”

Khajuraho-3

खजुराहो के मंदिरों का इतिहास लगभग 1000 साल पुराना है। इन मंदिरों का निर्माण चंदेल राजाओं के काल में हुआ। दरबारी कवि चंदबरदाई ने ‘पृथ्वीराज रासो’ में चंदेल वंश की उत्पत्ति के बारे में बताया है कि काशी के राजपंडित की बेटी हेमवती बेहद खूबसूरत थी, वह गíमयों के मौसम में रात के समय कमल-पुष्पों से भरे एक तालाब में नहा रही थी तो भगवान चन्द्र उनकी ओर आकíषत हो गए और उन्होंने धरती पर मानव रूप धारण कर हेमवती का हरण कर लिया। हेमवती एक विधवा थी। उसने चन्द्रदेव पर चरित्र हनन करने और जीवन को नष्ट करने का आरोप लगाया।

पृथ्वीराज रासो में आगे लिखा है कि चन्द्रदेव को अपनी गलती का पश्चाताप हुआ और उन्होंने हेमवती को वचन दिया कि वह एक वीर पुत्र की मां बनेगी। चन्द्रदेव के कहने पर हेमवती ने पुत्र को जन्म देने के लिए अपना घर छोड़ दिया। इसके बाद उसने एक छोटे से गांव में पुत्र को जन्म दिया। उसका नाम चंद्रवर्मन रखा गया। चन्द्रवर्मन को चंद्रदेव ने पारस पत्थर भेंट किया और उसको खजुराहो का राजा बना दिया। चंद्रवर्मन ने कई युद्घों में जीत हासिल की। उसने अपने उत्तराधिकारियों के साथ मिलकर खजुराहो में तालाबों और उद्यानों से घिरे हुए 85 अद्वितीय मंदिरों का निर्माण करवाया। वर्तमान में 25 मंदिर ही पूर्ण रूप में अस्तित्च में हैं।

 

खजुराहो के पश्चिमी समूह के मंदिर पर्यटकों के खास आकर्षण का केंद्र होते हैं। होटल कारोबार से जुड़े शैलेंद्र उपाध्याय ने कहा, “इन दिनों खजुराहो आने वाले पर्यटकों की संख्या नगण्य है। सप्ताह में सिर्फ तीन दिन ही हवाई उड़ान है और एक उड़ान से औसत तौर पर 15 से 20 पर्यटक ही आते हैं। इस तरह एक सप्ताह में हवाई मार्ग से 100 से भी कम पयर्टकों की आमद हो रही है। अन्य पर्यटक सड़क और रेल मार्ग से आते हैं, उनकी भी संख्या बहुत कम है।”

उपाध्याय कहते हैं कि, जहां तक यहां की गर्मी की बात करें तो आम तौर पर गर्मी में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस के आसपास होता है। इस बार अभी तक तापमान 47.5 डिग्री सेल्सियस तक चला गया है। ऐसे में पर्यटक कम ही पहुंच रहे हैं। जो पर्यटक आते हैं, वे सुबह और शाम को ही मंदिरों को निहार पाते हैं। अन्य मौसम में तो नव युगल व पर्यटक घंटों मंदिरों के आसपास नजर आते हैं। वैसा नजारा इन दिनों नहीं है।

पानी के संरक्षण के लिए काम करने वाले जल-जन जोड़ो अभियान के राष्ट्रीय संयोजक संजय सिंह का कहना है, “खजुराहो वनाच्छादित और जल संग्रहण का नायाब उदाहरण हुआ करता था। तब तालाबों और पेड़ों के बीच से होकर आने वाली हवाएं पर्यटकों को रोमांचित कर देती थी, साथ ही गर्मी का असर कम महसूस होता था। अब स्थितियां बदल गई हैं, तालाबों में पानी नहीं है, कई तालाब अस्तित्व खो चुके हैं, जंगल का तो नामोनिशान नहीं है। इन स्थितियों में मंदिर पर्यटकों के बीच प्राकृतिक सम्मोहन पैदा करने में सफल नहीं हो पाते।”

इस बार की गर्मियों में खजुराहो का तापमान 47.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है, बीते साल 28 मई 2018 को तापमान 48.6 डिग्री सेल्सियस को छू गया था। गर्मी का प्रभाव लगातार बढ़ता जा रहा है, आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित है, ऐसे में जो पर्यटक यहां आ भी रहे हैं, उनका ज्यादा समय होटलों के भीतर ही गुजर रहा है।

–आईएएनएस

 

PUBG: Uninstall the game before it kills ’em young

kallu
Novelty Fashion Mall
Fly Kitchen
Harsha Plastics
Status
Prem-Industries
Friends IT Solution
Tanishq
Akash
Swastik Tiles
Reshika Boutique
Paul Opticals
New Anjan Engineering Works
The Raymond Shop
Metro Glass
Krsna Restaurant
Motilal Oswal
Chotanagpur Handloom
S_MART
Home Essentials
Abhushan
Raymond

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Write a Comment

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 जून की प्रमुख घटनाएं

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 21 जून की प्रमुख घटनाएं

0 comment Read Full Article

Subscribe to Our Newsletter