कोविड-19: ‘उत्पत्ति की रिपोर्ट अभी पूर्ण निष्कर्ष से दूर’

मनुष्यों में कोविड-19 वायरस का फैलाव कैसे शुरू हुआ, इसकी जाँच करने के लिये, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा चुने गई अन्तरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम की रिपोर्ट, मंगलवार को प्रकाशित हुई. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख ने इसे स्वागत योग्य क़दम क़रार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि यह अब भी सही निष्कर्ष से बहुत दूर है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक, टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा, “यह रिपोर्ट एक बहुत ही महत्वपूर्ण शुरुआत है, लेकिन यह अन्त नहीं है.”
“हमें अभी तक वायरस का स्रोत नहीं मिला है, और हमें विज्ञान के ज़रिये खोज जारी रखनी होगी और हम ऐसा करने में कोई क़सर बाक़ी नहीं छोड़ेंगे.”
34 सदस्यों वाली टीम ने, जनवरी 2021 में, चीन के वुहान शहर का दौरा किया था, जहाँ 2019 के अन्त में कोरोनोवायरस के संक्रमण के शुरूआती मामले सामने आए थे.
यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के महानिदेशक ने टीम द्वारा तैयार रिपोर्ट के निष्कर्षों का स्वागत किया. 
लेकिन उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि यह रिपोर्ट, कुल मिलाकर अनेक “अन्य प्रश्न खड़े करती है, जिन्हें और अध्ययनों के ज़रिये समझने करने की आवश्यकता होगी, जैसा कि टीम ने रिपोर्ट में भी कहा है.”
उन्होंने कहा कि यद्यपि बहुत से आँकड़े पेश किये गए हैं,लेकिन जल्द से जल्द मामलों की समझ के लिये, “कम से कम सितम्बर 2019 से, जैविक नमूनों सहित अन्य डेटा” हासिल करने होंगे जोकि चीन के अधिकारियों से मिल सकते हैं.
उन्होंने कहा, “टीम के साथ मेरी चर्चा के दौरान, उन्होंने बताया कि डेटा हासिल करने में उन्हें बेहद कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. मुझे उम्मीद है कि भविष्य के अध्ययनों में अधिक सामयिक और व्यापक डेटा साझा किया जाएगा.”

Press briefing by the international team studying the origins of the #COVID19 virus https://t.co/aH27YG8kGD— World Health Organization (WHO) (@WHO) March 30, 2021

पशु बाज़ारों की भूमिका,’अब भी अस्पष्ट’
डॉक्टर टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने, शुरुआती मानव और सामूहिक संक्रमण के मामलों को समझने और वुहान व उसके आसपास के बाज़ारों में बेचे जाने वाले जानवरों का पता लगाने के लिये, और ज़्यादा अध्ययनों के लिये सिफ़ारिशों का स्वागत किया, लेकिन “पशु बाज़ारों की भूमिका अब भी स्पष्ट नहीं है.”
टीम ने पुष्टि की कि हुआनन का बड़ा बाज़ार व्यापक स्तर पर दूषित था, लेकिन इस दूषण के स्रोत का निर्धारण नहीं किया जा सका.
“एक बार फिर, मैं आगे के अनुसन्धान की सिफ़ारिशों का स्वागत करता हूँ, जिसमें वुहान में, बाज़ारों में जानवरों और उत्पादों के व्यापार का पूर्ण विश्लेषण शामिल है, विशेष रूप से जो शुरुआती मानव मामलों से जुड़े हैं.”
उन्होंने सहमति व्यक्त की कि किसानों, आपूर्तिकर्ताओं और उनके जान-पहचान वालों से बातचीत की जानी चाहिये, और “वुहान व उससे आगे के बाज़ारों में वायरस फैलाने में जानवरों की क्या भूमिका रही होगी, यह जानने के लिये और अधिक अध्ययन की आवश्यकता थी.”
लैब रिसाव मत से भी इनकार नहीं 
महानिदेशक ने यह भी बताया कि टीम ने वुहान में कई प्रयोगशालाओं का दौरा किया और इस सम्भावना पर भी विचार किया कि किसी प्रयोगशाला में दुर्घटना के परिणामस्वरूप वायरस का मानव आबादी में प्रवेश हुआ होगा. 
उन्होंने कहा, “हालाँकि, मैं आश्वस्त नहीं हूँ कि यह आकलन पर्याप्त है. अधिक मज़बूत निष्कर्ष तक पहुँचने के लिये अधिक आँकड़ों और अध्ययनों की आवश्यकता होगी.”
“हालाँकि टीम का मानना है कि प्रयोगशाला से रिसाव होने की  सम्भावना कम ही है, लेकिन इसके लिये विशेषज्ञों के अतिरिक्त मिशन के साथ और ज़्यादा जाँच की आवश्यकता है, और  मैं इसके लिये विशेषज्ञ नियुक्त करने के लिए तैयार हूँ.”
उन्होंने जिनीवा में सदस्य देशों को जानकारी देते हुए कहा, जहाँ तक विश्व स्वास्त्य संगठन का सम्बन्ध है “हम सभी अनुमानों पर काम कर रहे हैं.” 
“वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने में समय लगता है और हमारा कर्तव्य है कि हम दुनिया के लिये इसका स्रोत खोजें, ताकि दोबारा ऐसे संक्रमण से बचने के जोखिम को कम करने की दिशा में क़दम उठाए जा सकें. किसी इकलौती शोध यात्रा से सारे जवाब नहीं मिल सकते हैं.”, मनुष्यों में कोविड-19 वायरस का फैलाव कैसे शुरू हुआ, इसकी जाँच करने के लिये, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा चुने गई अन्तरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम की रिपोर्ट, मंगलवार को प्रकाशित हुई. संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख ने इसे स्वागत योग्य क़दम क़रार दिया, लेकिन साथ ही कहा कि यह अब भी सही निष्कर्ष से बहुत दूर है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक, टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा, “यह रिपोर्ट एक बहुत ही महत्वपूर्ण शुरुआत है, लेकिन यह अन्त नहीं है.”

“हमें अभी तक वायरस का स्रोत नहीं मिला है, और हमें विज्ञान के ज़रिये खोज जारी रखनी होगी और हम ऐसा करने में कोई क़सर बाक़ी नहीं छोड़ेंगे.”

34 सदस्यों वाली टीम ने, जनवरी 2021 में, चीन के वुहान शहर का दौरा किया था, जहाँ 2019 के अन्त में कोरोनोवायरस के संक्रमण के शुरूआती मामले सामने आए थे.

यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के महानिदेशक ने टीम द्वारा तैयार रिपोर्ट के निष्कर्षों का स्वागत किया. 

लेकिन उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि यह रिपोर्ट, कुल मिलाकर अनेक “अन्य प्रश्न खड़े करती है, जिन्हें और अध्ययनों के ज़रिये समझने करने की आवश्यकता होगी, जैसा कि टीम ने रिपोर्ट में भी कहा है.”

उन्होंने कहा कि यद्यपि बहुत से आँकड़े पेश किये गए हैं,लेकिन जल्द से जल्द मामलों की समझ के लिये, “कम से कम सितम्बर 2019 से, जैविक नमूनों सहित अन्य डेटा” हासिल करने होंगे जोकि चीन के अधिकारियों से मिल सकते हैं.

उन्होंने कहा, “टीम के साथ मेरी चर्चा के दौरान, उन्होंने बताया कि डेटा हासिल करने में उन्हें बेहद कठिनाइयों का सामना करना पड़ा. मुझे उम्मीद है कि भविष्य के अध्ययनों में अधिक सामयिक और व्यापक डेटा साझा किया जाएगा.”

पशु बाज़ारों की भूमिका,’अब भी अस्पष्ट’

डॉक्टर टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने, शुरुआती मानव और सामूहिक संक्रमण के मामलों को समझने और वुहान व उसके आसपास के बाज़ारों में बेचे जाने वाले जानवरों का पता लगाने के लिये, और ज़्यादा अध्ययनों के लिये सिफ़ारिशों का स्वागत किया, लेकिन “पशु बाज़ारों की भूमिका अब भी स्पष्ट नहीं है.”

टीम ने पुष्टि की कि हुआनन का बड़ा बाज़ार व्यापक स्तर पर दूषित था, लेकिन इस दूषण के स्रोत का निर्धारण नहीं किया जा सका.

“एक बार फिर, मैं आगे के अनुसन्धान की सिफ़ारिशों का स्वागत करता हूँ, जिसमें वुहान में, बाज़ारों में जानवरों और उत्पादों के व्यापार का पूर्ण विश्लेषण शामिल है, विशेष रूप से जो शुरुआती मानव मामलों से जुड़े हैं.”

उन्होंने सहमति व्यक्त की कि किसानों, आपूर्तिकर्ताओं और उनके जान-पहचान वालों से बातचीत की जानी चाहिये, और “वुहान व उससे आगे के बाज़ारों में वायरस फैलाने में जानवरों की क्या भूमिका रही होगी, यह जानने के लिये और अधिक अध्ययन की आवश्यकता थी.”

लैब रिसाव मत से भी इनकार नहीं 

महानिदेशक ने यह भी बताया कि टीम ने वुहान में कई प्रयोगशालाओं का दौरा किया और इस सम्भावना पर भी विचार किया कि किसी प्रयोगशाला में दुर्घटना के परिणामस्वरूप वायरस का मानव आबादी में प्रवेश हुआ होगा. 

उन्होंने कहा, “हालाँकि, मैं आश्वस्त नहीं हूँ कि यह आकलन पर्याप्त है. अधिक मज़बूत निष्कर्ष तक पहुँचने के लिये अधिक आँकड़ों और अध्ययनों की आवश्यकता होगी.”

“हालाँकि टीम का मानना है कि प्रयोगशाला से रिसाव होने की  सम्भावना कम ही है, लेकिन इसके लिये विशेषज्ञों के अतिरिक्त मिशन के साथ और ज़्यादा जाँच की आवश्यकता है, और  मैं इसके लिये विशेषज्ञ नियुक्त करने के लिए तैयार हूँ.”

उन्होंने जिनीवा में सदस्य देशों को जानकारी देते हुए कहा, जहाँ तक विश्व स्वास्त्य संगठन का सम्बन्ध है “हम सभी अनुमानों पर काम कर रहे हैं.” 

“वायरस की उत्पत्ति का पता लगाने में समय लगता है और हमारा कर्तव्य है कि हम दुनिया के लिये इसका स्रोत खोजें, ताकि दोबारा ऐसे संक्रमण से बचने के जोखिम को कम करने की दिशा में क़दम उठाए जा सकें. किसी इकलौती शोध यात्रा से सारे जवाब नहीं मिल सकते हैं.”

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *