कोविड-19: ऐहतियाती पाबन्दियों के दौरान ऑनलाइन ख़रीदारी में बढ़ोत्तरी

वैश्विक महामारी कोविड-19 की शुरुआत से अब तक विश्व अर्थव्यवस्था के कुछ हिस्सों में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है, जबकि अच्छा प्रदर्शन कर रहे अर्थव्यवस्था के क्षेत्रों में,  महामारी के फैलाव से हालात उलट गए हैं. संयुक्त राष्ट्र के अर्थशास्त्रियों ने आवाजाही पर पाबन्दियों व अर्थव्यवस्था पर उनके असर का आकलन करने के लिये किये गए एक अध्ययन में यह बात कही है.

व्यापार एवं विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) के विशेषज्ञों के मुताबिक़ ई-कॉमर्स क्षेत्र में फ़ुटकर बिक्री के मामलों में नाटकीय वृद्धि देखी गई है.
वर्ष 2020 में यह 16 फ़ीसदी थी, जो बढ़कर 19 प्रतिशत तक पहुँच गई.  

#eCommerce’s dramatic rise amid #COVID19 restrictions pushed the share of retail sales done online from 16% to 19% in 2020, according to new @UNCTAD estimates. https://t.co/89tc4ctZtB pic.twitter.com/z8bRdP6tIP— UNCTAD (@UNCTAD) May 3, 2021

डिजिटल फ़ुटकर अर्थव्यवस्था में सबसे अधिक बढ़ोत्तरी कोरिया गणराज्य में दर्ज की गई है.
वर्ष 2019 में हर पाँच में से एक बिक्री (20 प्रतिशत), इण्टरनेट के ज़रिये होती थी, मगर पिछले वर्ष यह हर चार में से एक (25 प्रतिसत) लेनदेन के आँकड़े पर पहुँच गई.
यूएन एजेंसी में टैक्नॉलॉजी और लॉजिस्टिक विभाग की निदेशिका शामिका सिरीमाने ने बताया, “ये आँकड़े ऑनलाइन गतिविधियों के बढ़ते महत्व को दर्शाते हैं.”
“यह, कोविड-19 महामारी से अर्थव्यवस्थों के पुनर्निर्माण में जुटे, देशों के लिये इस प्रकार की आवश्यकताओं के होने की ज़रूरत की ओर भी इशारा करते हैं, विशेष रूप से विकासशील देशों में.”
अध्ययन के अनुसार, ब्रिटेन ने इसी अवधि में ऑनलाइन कारोबार में तेज़ बढ़ोत्तरी देखी गई है – 15.8 प्रतिशत से 23.3 फ़ीसदी तक.
चीन में यह वृद्धि 20.7 से 24.9 प्रतिशत रही, अमेरिका में 11 प्रतिशत से 14 प्रतिशत, ऑस्ट्रेलिया में 6.3 से 9.4 प्रतिशत और कैनेडा में 3.6 प्रतिशत से 6.2 प्रतिशत.
दुनिया की शीर्ष 13 कम्पनियों के लिये व्यवसायों और ग्राहकों (Business-to-consumer) के बीच ऑनलाइन कारोबार वर्ष 2020 में 2.9 ट्रिलियन डॉलर आँका गया.
उतार-चढ़ाव भरा सफ़र
यूएन एजेंसी के अनुसार ई-कॉमर्स के लिये दुनिया की 13 बड़ी कम्पनियाँ, मुख्यत: यात्रा व सवारी-सम्बन्धी सेवाएँ मुहैया कराने वाली कम्पनियों के लिये चुनौतीपूर्ण समय रहा है.
अधिकतर कम्पनियाँ अमेरिका और चीन की हैं.
इनमें छुट्टियों के दौरान यात्राओं के लिये इस्तेमाल होने वाली वेबसाइट ‘Expedia’ भी है.
वर्ष 2019 में यह पाँचवे स्थान पर थी, मगर 2020 में इसका स्थान गिरकर 11वें पर पहुँच गया. ‘Booking Holdings’ और ‘Airbnb’ को भी इसी तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा है.
इनकी तुलना में, ऑनलाइन ग्राहकों को विविध प्रकार की सेवाएँ और वस्तुएँ उपलब्ध कराने वाली ई-कम्पनियों का प्रदर्शन बेहतर रहा है.
जिन शीर्ष 13 कम्पनियों ने अपनी बिक्री में बढ़ोत्तरी दर्ज की है, उनमें ‘Shopify’ और ‘Walmart’ भी हैं, जिनके मुनाफ़े में पिछले वर्ष क्रमश: 95 प्रतिशत और 72 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई है.
नए अनुमान दर्शाते हैं कि वैश्विक ई-कॉमर्स कारोबार वर्ष 2019 में 26 ट्रिलियन डॉलर से ज़्यादा हो गया, जोकि वर्ष 2018 की तुलना में चार फ़ीसदी अधिक है.
ग्राहकों द्वारा की जाने वाली ऑनलाइन ख़रीदारी के अतिरिक्त, ये आँकड़े व्यवसाय से व्यवसाय (Business-to-Business/B2B) में होने वाले कारोबार को भी दर्शाते हैं, जिसे दो वर्ष पहले वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 30 प्रतिशत आँका गया है., वैश्विक महामारी कोविड-19 की शुरुआत से अब तक विश्व अर्थव्यवस्था के कुछ हिस्सों में बढ़ोत्तरी देखने को मिली है, जबकि अच्छा प्रदर्शन कर रहे अर्थव्यवस्था के क्षेत्रों में,  महामारी के फैलाव से हालात उलट गए हैं. संयुक्त राष्ट्र के अर्थशास्त्रियों ने आवाजाही पर पाबन्दियों व अर्थव्यवस्था पर उनके असर का आकलन करने के लिये किये गए एक अध्ययन में यह बात कही है.

व्यापार एवं विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) के विशेषज्ञों के मुताबिक़ ई-कॉमर्स क्षेत्र में फ़ुटकर बिक्री के मामलों में नाटकीय वृद्धि देखी गई है.

वर्ष 2020 में यह 16 फ़ीसदी थी, जो बढ़कर 19 प्रतिशत तक पहुँच गई.  

डिजिटल फ़ुटकर अर्थव्यवस्था में सबसे अधिक बढ़ोत्तरी कोरिया गणराज्य में दर्ज की गई है.

वर्ष 2019 में हर पाँच में से एक बिक्री (20 प्रतिशत), इण्टरनेट के ज़रिये होती थी, मगर पिछले वर्ष यह हर चार में से एक (25 प्रतिसत) लेनदेन के आँकड़े पर पहुँच गई.

यूएन एजेंसी में टैक्नॉलॉजी और लॉजिस्टिक विभाग की निदेशिका शामिका सिरीमाने ने बताया, “ये आँकड़े ऑनलाइन गतिविधियों के बढ़ते महत्व को दर्शाते हैं.”

“यह, कोविड-19 महामारी से अर्थव्यवस्थों के पुनर्निर्माण में जुटे, देशों के लिये इस प्रकार की आवश्यकताओं के होने की ज़रूरत की ओर भी इशारा करते हैं, विशेष रूप से विकासशील देशों में.”

अध्ययन के अनुसार, ब्रिटेन ने इसी अवधि में ऑनलाइन कारोबार में तेज़ बढ़ोत्तरी देखी गई है – 15.8 प्रतिशत से 23.3 फ़ीसदी तक.

चीन में यह वृद्धि 20.7 से 24.9 प्रतिशत रही, अमेरिका में 11 प्रतिशत से 14 प्रतिशत, ऑस्ट्रेलिया में 6.3 से 9.4 प्रतिशत और कैनेडा में 3.6 प्रतिशत से 6.2 प्रतिशत.

दुनिया की शीर्ष 13 कम्पनियों के लिये व्यवसायों और ग्राहकों (Business-to-consumer) के बीच ऑनलाइन कारोबार वर्ष 2020 में 2.9 ट्रिलियन डॉलर आँका गया.

उतार-चढ़ाव भरा सफ़र

यूएन एजेंसी के अनुसार ई-कॉमर्स के लिये दुनिया की 13 बड़ी कम्पनियाँ, मुख्यत: यात्रा व सवारी-सम्बन्धी सेवाएँ मुहैया कराने वाली कम्पनियों के लिये चुनौतीपूर्ण समय रहा है.

अधिकतर कम्पनियाँ अमेरिका और चीन की हैं.

इनमें छुट्टियों के दौरान यात्राओं के लिये इस्तेमाल होने वाली वेबसाइट ‘Expedia’ भी है.

वर्ष 2019 में यह पाँचवे स्थान पर थी, मगर 2020 में इसका स्थान गिरकर 11वें पर पहुँच गया. ‘Booking Holdings’ और ‘Airbnb’ को भी इसी तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा है.

इनकी तुलना में, ऑनलाइन ग्राहकों को विविध प्रकार की सेवाएँ और वस्तुएँ उपलब्ध कराने वाली ई-कम्पनियों का प्रदर्शन बेहतर रहा है.

जिन शीर्ष 13 कम्पनियों ने अपनी बिक्री में बढ़ोत्तरी दर्ज की है, उनमें ‘Shopify’ और ‘Walmart’ भी हैं, जिनके मुनाफ़े में पिछले वर्ष क्रमश: 95 प्रतिशत और 72 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई है.

नए अनुमान दर्शाते हैं कि वैश्विक ई-कॉमर्स कारोबार वर्ष 2019 में 26 ट्रिलियन डॉलर से ज़्यादा हो गया, जोकि वर्ष 2018 की तुलना में चार फ़ीसदी अधिक है.

ग्राहकों द्वारा की जाने वाली ऑनलाइन ख़रीदारी के अतिरिक्त, ये आँकड़े व्यवसाय से व्यवसाय (Business-to-Business/B2B) में होने वाले कारोबार को भी दर्शाते हैं, जिसे दो वर्ष पहले वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 30 प्रतिशत आँका गया है.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *