कोविड-19: संयुक्त राष्ट्र परिवार की भारत के साथ एकजुटता

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भारत में वैश्विक महामारी कोविड-19 के भीषण फैलाव से उपजे हालात के मद्देनज़र भारतीय जनता के साथ एकजुटता व्यक्त की है. यूएन प्रमुख ने भरोसा दिलाया है कि उनका संगठन इस घड़ी में भारत के लिये अपने समर्थन का दायरा और स्तर बढ़ाने के लिये तत्पर है.

भारत में पिछले 24 घण्टों में, कोविड-19 संक्रमण के तीन लाख, 79 हज़ार से ज़्यादा नए मामलों की पुष्टि हुई है और तीन हज़ार 600 से अधिक लोगों की मौत हुई है.
पिछले कई दिनों से देश में प्रतिदिन लगातार, संक्रमण के तीन लाख से ज़्यादा मामले सामने आ रहे हैं.

With the entire @UN family, I stand in solidarity with the people of India as they face a horrific #COVID19 outbreak.The UN stands ready to step up our support.— António Guterres (@antonioguterres) April 29, 2021

भारत में अब तक कोरोनावायरस के एक करोड़ 83 लाख संक्रमणों की पुष्टि हुई है और दो लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.
यूएन महासचिव ने गुरुवार को अपने ट्वीट सन्देश में कहा, “मैं, सम्पूर्ण संयुक्त राष्ट्र परिवार के साथ, कोविड-19 के भयावह फैलाव का सामना कर रहे भारत के लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा हूँ.”
“संयुक्त राष्ट्र हमारे समर्थन को बढ़ाने के लिये बिलकुल तैयार है.”
इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने भारत मे कोविड-19 की दूसरी लहर को ऐसी ‘हृदय विदारक’ स्थिति बताया था, जिसे बयान नहीं किया जा सकता.
भारत में यूएन की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर रेनाटा डेज़ालियन के नेतृत्व में, यूएन प्रणाली महामारी पर जवाबी कार्रवाई के तहत, स्थानीय एजेंसियों की मदद प्रदान कर रही हैं.
रेनाटा डेज़ालियन ने कहा है, “भारत में ज़रूरत की इस घड़ी में, संयुक्त राष्ट्र, केन्द्र सरकार व प्रान्तों को, अति महत्वपूर्ण उपकरण और चिकित्सा सामान तेज़ी से उपलब्ध कराने में यथासम्भव प्रयास कर रहा है.”
इन प्रयासों के तहत उपकरण व ज़रूरी चिकित्सा सामग्री प्रदान किये गए हैं.
विश्व स्वास्थ्य संगठन और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष  ने सात हज़ार ऑक्सीजन कॉन्सनट्रेटर और नाक के ज़रिये ऑक्सीजन देने में काम आने वाले 500 उपकरण उपलब्ध कराए हैं.
साथ ही ऑक्सीजन उत्पादन संयन्त्र, कोविड-19 टैस्टिंग किट और अन्य निजी बचाव किटों के सिलसिले में सहायता दी जा रही है.  
यूएन एजेंसी, कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई के इस चुनौतीपूर्ण चरण में, भारत को सहयोग दे रही है, जिसके तहत टैस्टिंग के लिये ज़रूरी लैब सामग्री की आपूर्ति की जा रही है ताकि इसकी भारी मांग को पूरा किया जा सके.
संगठन की तरफ़ से, अस्पतालों में अतिरिक्त बिस्तरों और महत्वपूर्ण उपकरणों की व्यवस्था करने के उद्देश्य से, 20-30 बिस्तरों की क्षमता वाले सचल फ़ील्ड अस्पतालों का इन्तज़ाम किया जा रहा है.
इन्हें अधिकतर प्रभावित इलाक़ों में तैनात किये जाने की योजना है. आवश्यकता होने पर इन अस्पतालों की क्षमता को 50 बिस्तरों तक बढ़ाया जा सकता है., संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भारत में वैश्विक महामारी कोविड-19 के भीषण फैलाव से उपजे हालात के मद्देनज़र भारतीय जनता के साथ एकजुटता व्यक्त की है. यूएन प्रमुख ने भरोसा दिलाया है कि उनका संगठन इस घड़ी में भारत के लिये अपने समर्थन का दायरा और स्तर बढ़ाने के लिये तत्पर है.

भारत में पिछले 24 घण्टों में, कोविड-19 संक्रमण के तीन लाख, 79 हज़ार से ज़्यादा नए मामलों की पुष्टि हुई है और तीन हज़ार 600 से अधिक लोगों की मौत हुई है.

पिछले कई दिनों से देश में प्रतिदिन लगातार, संक्रमण के तीन लाख से ज़्यादा मामले सामने आ रहे हैं.

भारत में अब तक कोरोनावायरस के एक करोड़ 83 लाख संक्रमणों की पुष्टि हुई है और दो लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हुई है.

यूएन महासचिव ने गुरुवार को अपने ट्वीट सन्देश में कहा, “मैं, सम्पूर्ण संयुक्त राष्ट्र परिवार के साथ, कोविड-19 के भयावह फैलाव का सामना कर रहे भारत के लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा हूँ.”

“संयुक्त राष्ट्र हमारे समर्थन को बढ़ाने के लिये बिलकुल तैयार है.”

इससे पहले, विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने भारत मे कोविड-19 की दूसरी लहर को ऐसी ‘हृदय विदारक’ स्थिति बताया था, जिसे बयान नहीं किया जा सकता.

भारत में यूएन की रैज़िडेण्ट कोऑर्डिनेटर रेनाटा डेज़ालियन के नेतृत्व में, यूएन प्रणाली महामारी पर जवाबी कार्रवाई के तहत, स्थानीय एजेंसियों की मदद प्रदान कर रही हैं.

रेनाटा डेज़ालियन ने कहा है, “भारत में ज़रूरत की इस घड़ी में, संयुक्त राष्ट्र, केन्द्र सरकार व प्रान्तों को, अति महत्वपूर्ण उपकरण और चिकित्सा सामान तेज़ी से उपलब्ध कराने में यथासम्भव प्रयास कर रहा है.”

इन प्रयासों के तहत उपकरण व ज़रूरी चिकित्सा सामग्री प्रदान किये गए हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष  ने सात हज़ार ऑक्सीजन कॉन्सनट्रेटर और नाक के ज़रिये ऑक्सीजन देने में काम आने वाले 500 उपकरण उपलब्ध कराए हैं.

साथ ही ऑक्सीजन उत्पादन संयन्त्र, कोविड-19 टैस्टिंग किट और अन्य निजी बचाव किटों के सिलसिले में सहायता दी जा रही है.  

यूएन एजेंसी, कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई के इस चुनौतीपूर्ण चरण में, भारत को सहयोग दे रही है, जिसके तहत टैस्टिंग के लिये ज़रूरी लैब सामग्री की आपूर्ति की जा रही है ताकि इसकी भारी मांग को पूरा किया जा सके.

संगठन की तरफ़ से, अस्पतालों में अतिरिक्त बिस्तरों और महत्वपूर्ण उपकरणों की व्यवस्था करने के उद्देश्य से, 20-30 बिस्तरों की क्षमता वाले सचल फ़ील्ड अस्पतालों का इन्तज़ाम किया जा रहा है.

इन्हें अधिकतर प्रभावित इलाक़ों में तैनात किये जाने की योजना है. आवश्यकता होने पर इन अस्पतालों की क्षमता को 50 बिस्तरों तक बढ़ाया जा सकता है.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *