जर्मनी: बहुपक्षवाद के लिये प्रतिबद्धता पर यूएन प्रमुख का आभार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि जर्मनी, चुनौतियों से भरे वर्ष 2020 के दौरान पूरे समय, एक भरोसेमन्द, दरियादिल और बहुपक्षवाद का एक असाधारण दोस्त रहा है. यूएन प्रमुख ने गुरूवार को, बर्लिन में राष्ट्रीय संसद की इमारत में, पत्रकार वार्ता में ये बात कही है. 

यूएन प्रमख ने एंतोनियो गुटेरेश ने जर्मन संसद भवन में, जर्मन विदेश मन्त्री हीको माआस के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता में, संयुक्त राष्ट्र के एक वैश्विक सर्वेक्षण को याद किया जिसमें लगभग 15 लाख लोगों ने शिरकत की.
इस सर्वेक्षण में, लगभग 99 प्रतिशत जर्मन भागीदारों ने बहुपक्षवाद और अन्तरराष्ट्रीय सहयोग के लिये अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की थी, जिसके ज़रिये आज के दौर की समस्याओं का हल निकाला जा सके… ये संख्य, किसी भी देश में, अभी तक की सबसे ज़्यादा है.
उन्होंने कहा, “और इससे, उन मूल्यों के लिये जर्मन लोगों की प्रतिबद्धता झलकती है जिनका प्रतिनिधित्व संयुक्त राष्ट्र करता है.”
यूएन प्रमुख ने, इसी सन्दर्भ को, इस नाटकीय घटनाओं वाले वर्ष में, अपनी अन्तिम गतिविधि के रूप में, जर्मन संसद भवन की यात्रा करने का प्रमुख कारण बताया.
जर्मनी अग्रिम मोर्चे पर
एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि विश्व संगठन की 75वीं वर्षगाँठ मनाने, कोविड-19 महामारी से उत्पन्न हुई तकलीफ़ों और जलवायु परिवर्तन से लेकर, असमानता, साइबर दुनिया में क़ानून की मौजूदगी के अभाव, और तमाम ऐसी चुनौतियाँ और मुद्दे जो हमारी दुनिया को कमज़ोर बनाते हैं, उन सभी की पहचान करने और उन्हें स्वीकार करने में जर्मनी, सभी यूएन गतिविधियों में अग्रिम पंक्ति में रहा है.
यूएन प्रमुख ने कहा, “जर्मनी ने, पिछले दो वर्षों के दौरान, सुरक्षा परिषद के माध्यम से, बहुपक्षवाद और मानवाधिकारों से लेकर, शान्ति व सुरक्षा के लिये, संयुक्त राष्ट्र के कामकाज के लिये अपनी सिद्धान्तपूर्ण विदेश नीति के ज़रिये, अपनी दृढ़ प्रतिबद्धता दर्शाई है…”
उन्होंने कहा कि वो पैरामैडिक्स, सुरक्षा, युद्धों व संघर्षों में यौन हिंसा, अन्तरराष्ट्रीय मानवीय सहायता क़ानून और निरस्त्रीकरण के मुद्दों सहित, संयुक्त राष्ट्र के शान्ति निर्माण कोष को उदारतापूर्ण सहायता देने जैसे महत्वपूर्ण योगदान की आहमियत समझते हैं.
यूएन प्रमुख ने कहा, “मैं, मानवीय सहायता और विकास कार्यों में, समर्थन व सहायता देने के लिये, जर्मन सरकार और वहाँ के लोगों का आभार प्रकट करता हूँ.”
 , संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि जर्मनी, चुनौतियों से भरे वर्ष 2020 के दौरान पूरे समय, एक भरोसेमन्द, दरियादिल और बहुपक्षवाद का एक असाधारण दोस्त रहा है. यूएन प्रमुख ने गुरूवार को, बर्लिन में राष्ट्रीय संसद की इमारत में, पत्रकार वार्ता में ये बात कही है. 

यूएन प्रमख ने एंतोनियो गुटेरेश ने जर्मन संसद भवन में, जर्मन विदेश मन्त्री हीको माआस के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता में, संयुक्त राष्ट्र के एक वैश्विक सर्वेक्षण को याद किया जिसमें लगभग 15 लाख लोगों ने शिरकत की.

इस सर्वेक्षण में, लगभग 99 प्रतिशत जर्मन भागीदारों ने बहुपक्षवाद और अन्तरराष्ट्रीय सहयोग के लिये अपनी प्रतिबद्धता की फिर से पुष्टि की थी, जिसके ज़रिये आज के दौर की समस्याओं का हल निकाला जा सके… ये संख्य, किसी भी देश में, अभी तक की सबसे ज़्यादा है.

उन्होंने कहा, “और इससे, उन मूल्यों के लिये जर्मन लोगों की प्रतिबद्धता झलकती है जिनका प्रतिनिधित्व संयुक्त राष्ट्र करता है.”

यूएन प्रमुख ने, इसी सन्दर्भ को, इस नाटकीय घटनाओं वाले वर्ष में, अपनी अन्तिम गतिविधि के रूप में, जर्मन संसद भवन की यात्रा करने का प्रमुख कारण बताया.

जर्मनी अग्रिम मोर्चे पर

एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि विश्व संगठन की 75वीं वर्षगाँठ मनाने, कोविड-19 महामारी से उत्पन्न हुई तकलीफ़ों और जलवायु परिवर्तन से लेकर, असमानता, साइबर दुनिया में क़ानून की मौजूदगी के अभाव, और तमाम ऐसी चुनौतियाँ और मुद्दे जो हमारी दुनिया को कमज़ोर बनाते हैं, उन सभी की पहचान करने और उन्हें स्वीकार करने में जर्मनी, सभी यूएन गतिविधियों में अग्रिम पंक्ति में रहा है.

यूएन प्रमुख ने कहा, “जर्मनी ने, पिछले दो वर्षों के दौरान, सुरक्षा परिषद के माध्यम से, बहुपक्षवाद और मानवाधिकारों से लेकर, शान्ति व सुरक्षा के लिये, संयुक्त राष्ट्र के कामकाज के लिये अपनी सिद्धान्तपूर्ण विदेश नीति के ज़रिये, अपनी दृढ़ प्रतिबद्धता दर्शाई है…”

उन्होंने कहा कि वो पैरामैडिक्स, सुरक्षा, युद्धों व संघर्षों में यौन हिंसा, अन्तरराष्ट्रीय मानवीय सहायता क़ानून और निरस्त्रीकरण के मुद्दों सहित, संयुक्त राष्ट्र के शान्ति निर्माण कोष को उदारतापूर्ण सहायता देने जैसे महत्वपूर्ण योगदान की आहमियत समझते हैं.

यूएन प्रमुख ने कहा, “मैं, मानवीय सहायता और विकास कार्यों में, समर्थन व सहायता देने के लिये, जर्मन सरकार और वहाँ के लोगों का आभार प्रकट करता हूँ.”
 

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *