Latest News Site

News

झारखण्ड विधानसभा चुनाव बहुत दिलचस्प है दूसरे चरण का मतदान

December 05
11:40 2019
  • मुख्यमंत्री, स्पीकर, मंत्री, प्रदेश अध्यक्ष आदि की लोकप्रियता और जीत दावं पर

श्याम किशोर चौबे

रांची: झारखंड विधानसभा चुनाव-2019 का दूसरा चरण एक तो अपेक्षाकृत विस्तृत इलाके में है, दूसरे इसी चरण में सर्वाधिक बीस सीटों पर मतदान होना है, तीसरी बात यह कि इसी दौर में मुख्यमंत्री रघुवर दास, स्पीकर दिनेश उरांव, मंत्री सरयू राय, नीलकंठ सिंह मुंडा, रामचंद्र सहिस सहित भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू जैसी हस्तियों की लोकप्रियता का परीक्षण होना है।

पूर्व  मुख्यमंत्री रहे अर्जुन मुंडा और मधु कोड़ा के क्षेत्र में भी मतदान होना है। झारखंड गठन के बाद यह पहला अवसर है, जब कोड़ा परिवार का कोई सदस्य चुनाव मैदान में नहीं है। पूर्व मंत्री चंपई सोरेन, जोबा मांझी और बन्ना गुप्ता के भी क्षेत्र में इसी दौर में मतदान होना है।

चर्चित पूर्व मंत्री एनोस एक्का और बिमला प्रधान इस बार चुनाव मैदान से बाहर हैं। एनोस ने अपनी बेटी को मौका दिया है, जबकि बिमला को भाजपा ने बेटिकट कर दिया है। पूर्व मंत्री गोपाल कृष्ण पातर पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा की हत्या के मामले में जेल में रहते हुए विशेष अनमुति लेकर चुनाव मैदान में हैं तो दुर्दांत नक्सली कुंदन पाहन भी जेल में रहते हुए अदालत से आदेश प्राप्त कर चुनाव लड़ रहा है।

सीनियर आइपीएस अधिकारी रेजी डुंगडुंग नौकरी छोड़कर इसी दौर में अपना राजनीतिक वजन आंक रहे हैं, जबकि राज्य के गृह सचिव रहे जेबी तुबिद दूसरी बार यही आजमाइश कर रहे हैं। उन्होंने  2014 में ही सिविल सेवा को त्याग कर राजनीतिक मैदान में कूदे थे लेकिन जीत नहीं मिली थी।

दुसरे चरण का मतदान बहरागोड़ा से लेकर सिमडेगा तक होना है, जिसमें राज्य के संपूर्ण यूरेनियम, स्वर्ण तत्व, लौह अयस्क व मैंगनीज जैसी अत्यंत कीमती धातुओं की खदानें हैं। मुंडा, हो तथा खडि़या जनजातियों के वास स्थल वाले ये इलाके ऐतिहासिक क्षेत्र हैं। एशिया का सबसे बड़ा जंगल सारंडा और सौ साल से अधिक पुराना टाटा स्टील कारखाना भी इसी क्षेत्र में है। जमशेदपुर खुद ही मिनी भारत माना जाता है। दल बदलकर चुनाव लड़ रहे नेताओं की भी इस दौर में खासी संख्या है।

यह भी सच है कि राज्य की कुल जमा 81 विधानसभा सीटों में से इस दौर की एक सीट जमशेदपुर पूर्वी पर सबकी निगाहें टंगी हुई हैं। इस क्षेत्र से मुख्यमंत्री रघुवर दास भाजपा के प्रत्याशी हैं। वे यह सीट पूर्व में लगातार पांच मर्तबा जीत चुके हैं। इस बार उनको भाजपा के ही बागी मंत्री सरयू रायचुनौती दे रहे हैं। सरयू राय हाल-फिलहाल तक रघुवर कैबिनेट में मंत्री थे।

रघुवर मूलतः छत्तीसगढ़ के निवासी हैं, जबकि सरयू बिहार के। दोनों ने आरंभिक काल से भाजपा की राजनीति की। सरयू इसके पूर्व जमशेदपुर पश्चिमी क्षेत्र से चुनाव लड़ते रहे थे। पिछले पांच वर्षों में दोनों में तल्खी इतनी बढ़ी कि उसे भाजपा का शीर्ष नेतृत्व भी सुलझा न सका।

अंततः सरयू भाजपा का दामन त्याग कर बतौर निर्दलीय प्रत्याशी रघुवर को चुनौती दे रहे हैं। महाभारत का दृश्य उपस्थित हो गया है। शायद यही कारण है कि मंगलवार को जमशेदपुर की चुनावी सभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यहां तक कहना पड़ा कि जहां ‘कमल’ है, वहां मैं हूं और जहां मैं हूं वहीं ‘कमल’ है।

इस पंक्ति के कई मायने लगाये जा रहे हैं, लेकिन स्थिति कितनी विकट है, इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस क्षेत्र को लेकर भाजपा प्रमुख अमित शाह को अलग से बैठक करनी पड़ी।

जाहिरा तौर पर सबसे अधिक रोमांचक लड़ाई इसी सीट पर है। दूसरी ओर मई में लोकसभा चुनाव गवां कर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ चक्रधरपुर में फंसे हुए हैं।

भाजपा के स्टार प्रचारकों में शुमार मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष तक को सुपर स्टार प्रचारकों का सहारा लेना ही साबित कर रहा है कि इस दौर का चुनाव बहुत कठिन है। यूं, प्रथम चरण की वोटिंग वाली पलामू, गढ़वा, लातेहार, चतरा, लोहरदगा और गुमला की 13 सीटों ने पूर्वापेक्षा वोट प्रतिशत बढ़ाकर एक ट्रेंड बना दिया है। हालांकि अंतिम परिणाम सामूहिक तौर पर 23 दिसंबर को आएगा।

इनसाइट ऑनलाइन न्यूज़

झारखंड विधानसभा चुनाव: ये चुनाव नहीं आसां, बस इतना समझ लीजे
[slick-carousel-slider design="design-6" centermode="true" slidestoshow="3"]

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    Salman Khan cleans up his Panvel farmhouse to mark Environment Day

Salman Khan cleans up his Panvel farmhouse to mark Environment Day

Read Full Article