टिगरे में संकट दूर करने के लिये तत्काल प्रयासों की ज़रूरत, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इथियोपिया के टिगरे क्षेत्र में जारी संकट पर गम्भीर चिन्ताएँ व्यक्त की हैं और जोखिम का सामना कर रही आबादी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये तत्काल प्रयासों की आवश्यकता पर बल दिया है. 

यूएन महासचिव के प्रवक्ता द्वारा मंगलवार को जारी वक्तव्य में कहा गया है कि यूएन प्रमुख टिगरे क्षेत्र में जारी स्थिति पर गम्भीर रूप से चिन्तित हैं, जहाँ लाखों लोगों के लिये मानवीय सहायता की बहुत आवश्यकता है.  

Secretary-General @antonioguterres voices serious concern over situation in Ethiopia’s Tigray, reiterating the need for urgent steps to alleviate the humanitarian situation and extend the necessary protections to those at risk.https://t.co/2WZRQ6mV0d— UN Spokesperson (@UN_Spokesperson) February 2, 2021

वक्तव्य में, यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, तमाम प्रभावित आबादी की मानवीय सहायता की ज़रूरतें पूरी करने के लिये, इथियोपिया सरकार और संयुक्त राष्ट्र के बीच मज़बूत साझेदारी की महत्ता पर भी ज़ोर दिया है.
वक्तव्य में कहा गया है कि यूएन प्रमुख ने मानवीय स्थिति में बेहतरी लाने, और जोखिम के दायरे में फँसे लोगों को सुरक्षा व संरक्षा मुहैया कराने के लिये तत्काल क़दम उठाए जाने की ज़रूरत पर भी ज़ोर दिया है.
एंतोनियो गुटेरेश ने, संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों की हाल की यात्रा के दौरान, इथियोपिया सरकार के सकारात्मक रुख़ का भी स्वागत किया है. इनमें यूएन शरणार्थी एजेंसी के प्रमुख फ़िलिपो ग्रैण्डी, विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डेविड बीज़ली सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी शामिल थे. 
अत्यन्त गम्भीर स्थिति
यूएन शरणार्थी उच्चायुक्त फ़िलिपो ग्रैण्डी ने हाल ही में इथियोपिया की यात्रा करने के बाद, टिगरे क्षेत्र की स्थिति को “अत्यन्त गम्भीर” बताया है.
उन्होने सोमवार को, इथियोपिया से रवाना होने से पहले, राजधानी अदिस अबाबा में, एक प्रेस सम्मेलन में कहा कि टिगरे क्षेत्र में लोगों को हर तरह की सहायता की आवश्यकता है: खाद्य सामग्री, अन्य उत्पाद व सामग्री, दवाइयाँ, साफ़ पानी, आश्रय. बैंक प्रणाली और दूर संचार प्रणालियाँ बन्द किये जाने के कारण हज़ारों लोगों की मुश्किलें और भी ज़्यादा बढ़ गई हैं.
फ़िलिपो ग्रैण्डी ने कहा कि वैसे तो, टिगरे क्षेत्र में, इथियोपिया सरकार ने हालात में कुछ बेहतरी होने की ख़बरें दी हैं, मगर अब भी अलग-अलग कुछ घटनाएँ हो रही हैं… और कुछ इलाक़ों में तो विभिन्न सशस्त्र तत्वों और उपद्रवियों व चरमपंथियों द्वारा हिंसा किया जाना जारी है… इसके परिणामस्वरूप, लूटपाट, हिंसा, यौन हिंसा और बलात्कार के मामले भी देखे गए हैं.
उन्होंने बताया कि इन घटनाओं में, हाल के सप्ताहों में, कम से कम छह मानवीय सहायता कर्मियों की भी मौत हो गई है.
यूएन शरणार्थी उच्चायुक्त ने बताया कि उन्होंने इथियोपिया सरकार के साथ अपनी ये बात बेबाकी के साथ रखी है कि स्थिति का आकलन और लोगों तक सहायता पहुँचाने के लिये, संयुक्त राष्ट्र व ग़ैर सरकारी संगठनों के सहायता कर्मियों की निर्बाध पहुँच बहुत ज़रूरी है., संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इथियोपिया के टिगरे क्षेत्र में जारी संकट पर गम्भीर चिन्ताएँ व्यक्त की हैं और जोखिम का सामना कर रही आबादी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये तत्काल प्रयासों की आवश्यकता पर बल दिया है. 

यूएन महासचिव के प्रवक्ता द्वारा मंगलवार को जारी वक्तव्य में कहा गया है कि यूएन प्रमुख टिगरे क्षेत्र में जारी स्थिति पर गम्भीर रूप से चिन्तित हैं, जहाँ लाखों लोगों के लिये मानवीय सहायता की बहुत आवश्यकता है.  

वक्तव्य में, यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, तमाम प्रभावित आबादी की मानवीय सहायता की ज़रूरतें पूरी करने के लिये, इथियोपिया सरकार और संयुक्त राष्ट्र के बीच मज़बूत साझेदारी की महत्ता पर भी ज़ोर दिया है.

वक्तव्य में कहा गया है कि यूएन प्रमुख ने मानवीय स्थिति में बेहतरी लाने, और जोखिम के दायरे में फँसे लोगों को सुरक्षा व संरक्षा मुहैया कराने के लिये तत्काल क़दम उठाए जाने की ज़रूरत पर भी ज़ोर दिया है.

एंतोनियो गुटेरेश ने, संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों की हाल की यात्रा के दौरान, इथियोपिया सरकार के सकारात्मक रुख़ का भी स्वागत किया है. इनमें यूएन शरणार्थी एजेंसी के प्रमुख फ़िलिपो ग्रैण्डी, विश्व खाद्य कार्यक्रम के कार्यकारी निदेशक डेविड बीज़ली सहित अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी शामिल थे. 

अत्यन्त गम्भीर स्थिति

यूएन शरणार्थी उच्चायुक्त फ़िलिपो ग्रैण्डी ने हाल ही में इथियोपिया की यात्रा करने के बाद, टिगरे क्षेत्र की स्थिति को “अत्यन्त गम्भीर” बताया है.

उन्होने सोमवार को, इथियोपिया से रवाना होने से पहले, राजधानी अदिस अबाबा में, एक प्रेस सम्मेलन में कहा कि टिगरे क्षेत्र में लोगों को हर तरह की सहायता की आवश्यकता है: खाद्य सामग्री, अन्य उत्पाद व सामग्री, दवाइयाँ, साफ़ पानी, आश्रय. बैंक प्रणाली और दूर संचार प्रणालियाँ बन्द किये जाने के कारण हज़ारों लोगों की मुश्किलें और भी ज़्यादा बढ़ गई हैं.

फ़िलिपो ग्रैण्डी ने कहा कि वैसे तो, टिगरे क्षेत्र में, इथियोपिया सरकार ने हालात में कुछ बेहतरी होने की ख़बरें दी हैं, मगर अब भी अलग-अलग कुछ घटनाएँ हो रही हैं… और कुछ इलाक़ों में तो विभिन्न सशस्त्र तत्वों और उपद्रवियों व चरमपंथियों द्वारा हिंसा किया जाना जारी है… इसके परिणामस्वरूप, लूटपाट, हिंसा, यौन हिंसा और बलात्कार के मामले भी देखे गए हैं.

उन्होंने बताया कि इन घटनाओं में, हाल के सप्ताहों में, कम से कम छह मानवीय सहायता कर्मियों की भी मौत हो गई है.

यूएन शरणार्थी उच्चायुक्त ने बताया कि उन्होंने इथियोपिया सरकार के साथ अपनी ये बात बेबाकी के साथ रखी है कि स्थिति का आकलन और लोगों तक सहायता पहुँचाने के लिये, संयुक्त राष्ट्र व ग़ैर सरकारी संगठनों के सहायता कर्मियों की निर्बाध पहुँच बहुत ज़रूरी है.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *