Get Latest News In English And Hindi – Insightonlinenews

News

देश में कोरोना के मामले आठ लाख के पार, रिकवरी दर 62 फीसदी से अधिक

July 10
23:25 2020

नयी दिल्ली, 10 जुलाई : देश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के मामले शुक्रवार को को आठ लाख के आंकड़े को पार कर गये लेकिन राहत की बात यह है कि मरीजों के स्वस्थ होने की दर 62 फीसदी से अधिक हो गयी है और अब तक पांच लाख से अधिक लोग इस महामारी से निजात पा चुके हैं।

देश में आज मरीजों के स्वस्थ होने की दर बढ़कर 62.42 फीसदी पहुंच गयी जबकि कोरोना संक्रमितों के उपचार में केंद्र और राज्य सरकारों की तत्परता के कारण मृत्यु दर महज 2.72 प्रतिशत रही। गुरुवार को संक्रमितों के स्वस्थ होने की दर 62.37 रही। बुधवार को संक्रमितों के स्वस्थ होने की दर 62.02 फीसदी रही जबकि मृत्यु दर महज 2.75 प्रतिशत रही। पिछले एक सप्ताह में मरीजों के स्वस्थ होने की दर में करीब तीन फीसदी का इजाफा हुआ है।

देश में तीन मई को कोरोना रिकवरी दर 26.59 प्रतिशत थी जो 31 मई को बढ़कर 47.40 प्रतिशत हो गई और इसमें लगातार इजाफा हो रहा है।

इस बीच, कोरोना संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए देश के विभिन्न हिस्सों में संपूर्ण लॉकडाउन अथवा जनता कर्फ्यू लागू किया जा रहा है। पूरे उत्तर प्रदेश में 10 जुलाई रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक 55 घंटों का संपूर्ण लॉकडाउन लागू करने की घोषणा की गयी है। पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी को देखते हुए राजधानी कोलकाता समेत कई इलाकों में भी लॉकडाउन लागू किया गया है। महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में कोरोना वायरस (कोविड-19) के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आज से नौ दिनों के जनता कर्फ्यू को लागू किया गया है। इसके अलावा देश के कई अन्य हिस्सों में भी कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए लॉकडाउन लगाया जा रहा है।

देश में कोरोना वायरस की जांच की गति तेजी से बढ़ाई जा रही है। फिलहाल देश के 1169 लैब कोरोना नमूनों की जांच कर रहे हैं। इन सभी लैब ने मिलकर पिछले 24 घंटे में 2,83,659 नमूनों की जांच की । इस तरह अब तक कोरोना में 1,10,24,491 लोगों के स्वाब के नमूनों की जांच हो चुकी है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों पर आज कहा कि बढ़ती संख्या से चिंतित होने की जरुरत नहीं है। कोरोना जांच की गति तेज करने से अधिक मामले सामने आ सकते हैं। अभी यह देखना चाहिए कि उपचार के बाद ज्यादा से ज्यादा लोग स्वस्थ हो रहे हैं। देश में कोविड-19 प्रबंधन का मुख्य ध्यान मृत्युदर को कम करना है, जो यहां दुनिया के कई देशों की तुलना में कम है।

देश में सर्वाधिक कोरोना मरीज लद्दाख में ठीक हुए हैं। यहां कोरोना रिकवरी दर 86.73 प्रतिशत है। इसके बाद उत्तराखंड में रिकवरी दर 80.85 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ में 78.99 प्रतिशत, चंडीगढ़ में 77.06 प्रतिशत, दिल्ली में 76.81 प्रतिशत, राजस्थान में 75.65 प्रतिशत, त्रिपुरा में 75.34 प्रतिशत, हरियाणा में 74.91 प्रतिशत, हिमाचल प्रदेश में 74.21 प्रतिशत, गुजरात में 70.72 प्रतिशत और बिहार में 70.40 प्रतिशत है। इसके अलावा पंजाब, झारखंड, मिजोरम, ओडिशा और उत्तर प्रदेश में रिकवरी दर 65 प्रतिशत है।

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि कोविड-19 संक्रमितों के बेहतर उपचार उपलब्ध कराने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों के प्रतिबद्धता के कारण देश के 30 राज्यों तथा केंद्रशासित प्रदेश में कोरोना मृत्युदर राष्ट्रीय औसत मृत्युदर 2.72 प्रतिशत से भी कम है। मणिपुर, नागालैंड, दादर नगर हवेली, दमन दीव, मिजोरम, अंडमान निकोबार और सिक्किम में कोरोना के कारण एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है।

(वार्ता)

About Author

Bhusan kumar

Bhusan kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad


LATEST ARTICLES

    नेपाल ने भगवान राम के बाद भगवान बुध को लेकर खड़ा किया बखेड़ा

नेपाल ने भगवान राम के बाद भगवान बुध को लेकर खड़ा किया बखेड़ा

Read Full Article