Online News Channel

News

धार्मिक अनुष्ठानों के साथ मना रहे पर्युषण पर्व, अनन्त चतुर्दशी को होगा समापन

September 22
07:54 2018

छतरपुर, 22 सितंबर : मध्यप्रदेश के छतरपुर में जैन धर्मावलंबियों के दस दिवसीय पर्युषण पर्व पर नगर के सभी जैन मंदिरों में सुबह सात बजे से ही धार्मिक प्रभावना से ओतप्रोत श्री जी के सामूहिक पूजन-अभिषेक,शांतिधारा जैसे धार्मिक अनुष्ठान प्रारंभ हो जाते हैं।

श्रद्धालु शुद्ध पीले वस्त्र पहन कर मंदिरों में श्री जी के समक्ष धार्मिक विधि विधान से अष्ठ द्रव्यों से पूरे मनोयोग के साथ पूजन अभिषेक करते हैं। इसके साथ ही प्रतिदिन दशलक्षण पर्व पर विद्वानों के प्रवचन एवं रात्रि में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। प्रतिदिन सायंकाल किसी न किसी मंदिर में होने वाली श्री जी आरती एवं भजनों के कार्यक्रम में श्रद्धालु बड़ी संख्या में उपस्थित रह कर धर्मलाभ लेते हैं।

यह जानकारी देते हुए डॉ सुमति प्रकाश जैन ने बताया कि सृष्टि प्रारंभ होने के प्रतीक के रूप में भाद्रमास की पंचमी से अनन्त चतुर्दशी तक पर्युषण पर्व, जिसे दशलक्षण पर्व भी कहते हैं, मनाया जाता है। धर्म के ये दस लक्षण उत्तम क्षमा, उत्तम मार्दव, उत्तम आर्जव, उत्तम शौच, उत्तम सत्य, उत्तम सयंम, उत्तम तप, उत्तम त्याग, उत्तम आकिंचन्य एवं उत्तम ब्रह्मचर्य हैं।

नगर के अतिशय क्षेत्र डेरापहाडी, श्री नेमिनाथ जिनालय, बड़े जैन मंदिर, दूर के मंदिर,चेतगिरि जैन मंदिर, ग्रीन एवेन्यू जैन मंदिर, श्री अजितनाथ जिनालय एवं चैत्यालय जी सागर रोड में प्रतिदिन सुबह सात बजे से श्री जी का मंगल अभिषेक, शांतिधारा एवं पूजन धार्मिक प्रभावना के साथ सम्मिलित रूप से किया जाता है। 14 सितंबर से प्रारंभ हुए पर्युषण पर्व का समापन 23 सितम्बर को होगा। इसके बाद क्षमावाणी पर्व मनाया जाएगा, जिसमें विगत में हुई भूलों के लिए जैन एवं जैनेतर बन्धु परस्पर क्षमायाचना करते हैं। 27 सितम्बर को पालकी महोत्सव मनाया जाएगा, जिसमें प्रातः साढ़े सात बजे श्री नेमिनाथ जिनालय से श्री जी की पालकी नगर के प्रमुख मार्गों से होते हुए अतिशय क्षेत्र डेरापहाडी पहुंचेगी एवं यहां धार्मिक विधि विधान से श्री जी का अभिषेक-पूजन होगा।

अतिशय क्षेत्र डेरापहाडी में धर्मकेन्द्रित सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम मची है। यहां अभी तक भजन प्रतियोगिता, प्रश्नमंच, अतिशय एक मिनिट, अंत्याक्षरी, बच्चों का सरस कवि सम्मेलन आदि कार्यक्रमों का आनंद दर्शकों ने उठाया। कु0 नम्रता जैन एवं अयनदीप जैन के संयोजन व संचालन ने बच्चों के कवि सम्मेलन को यादगार बना दिया। बच्चों ने भी आत्मविश्वास के साथ माइक के सामने कविता पाठ किया। आज डेरापहाडी पर पाठशाला के बच्चों की सांस्कृतिक प्रस्तुतियां एवं 23 सितंबर की श्री सुधीर जैन व श्री विजय जैन के संयोजन में कवि सम्मेलन होगा।

26 सितम्बर को क्षमावाणी तथा पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न होगा। 27 सितम्बर को श्री जी का पालकी महोत्सव धूमधाम से मनाया जाएगा। जैन समाज के अध्यक्ष जयकुमार जैन एवं महामंत्री स्वदेश जैन ने श्रद्धालुओं से सभी कार्यक्रमों में भाग लेने की अपील की है।

वार्ता

जातिगत आरक्षण राष्ट्र के विकास में बाधा: नरेन्द्र गिरी

 

Home Essentials
Abhushan
Sri Alankar
Raymond

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Write a Comment

Subscribe to Our Newsletter

LATEST ARTICLES

    Google Cloud expands partnership with Palo Alto Networks

Google Cloud expands partnership with Palo Alto Networks

0 comment Read Full Article