नाइजीरिया में कथित पुलिस क्रूरता पर रोक लगाने की मांग

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि नाइजीरिया में घटनाक्रम पर वह नज़दीकी नज़र रख रहे हैं. ग़ौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में देश में प्रदर्शनकारियों के हताहत होने की ख़बरें मिली हैं जिनके बाद यूएन महासचिव ने कथित रूप से पुलिस क्रूरता और दुर्व्यवहार पर लगाम लगाने की माँग की है.

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश के प्रवक्ता ने एक बयान जारी करके 20 अक्टूबर को लागोस में हिंसा भड़कने की निन्दा की है जिसमें अनेक लोगों की मौत हुई है और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए है.

As a Nigerian mother, I am deeply saddened by yet another tragedy risking the hopes of youth, for a future of dignity, justice, peace & unity. Yet we must stand in solidarity to reject all violence and protect the cause of justice, lest all lives lost be in vain. pic.twitter.com/fre5CkB4ZG— Amina J Mohammed (@AminaJMohammed) October 21, 2020

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक नाइजीरियाई सुरक्षा बलों ने मंगलवार रात अफ़्रीका के सबसे बड़े शहर लागोस में हुए प्रदर्शनों के दौरान गोलीबारी की.
ये प्रदर्शन एक ऐसी पुलिस यूनिट (Special Anti-Robbery Squad) के विरोध में किये गए जिस पर लोगों को भरोसा नहीं था.
अब ये यूनिट भंग कर दी गई है.
सरकार ने आगामी दिनों में पुलिस सुधार लागू करने और पुलिस की जवाबदेही प्रक्रिया को बेहतर बनाने की माँग की है.
लागोस और नाइजीरिया के अन्य हिस्सों में कर्फ़्यू लगा दिया गया है लेकिन बुधवार को भी तनाव की भी रिपोर्टें मिली हैं.
पुलिस द्वारा अनेक इलाक़ों में सड़कों पर ना उतरने के आदेश की अवहेलना कर रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिये हवा में गोलियाँ चलाने की ख़बरें मिली हैं.
यूएन प्रमुख ने मृतकों के परिजनों के प्रति अपनी सम्वेदना व्यक्त की है और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.
अधिकतम संयम की अपील
महासचिव गुटेरेश ने नाइजीरियाई सरकार से सभी मामलों की जाँच करने और दोषियों की जवाबदेही तय करने का आग्रह किया है.
उन्होंने सुरक्षा बलों से हर समय अधिकतम संयम बरतने की अपील की है और प्रदर्शनकारियों का आहवान किया है कि हिंसा से दूरी रखते हुए शान्तिपूर्ण ढँग से प्रदर्शनों में हिस्सा लें.
“महासचिव नाइजीरिया प्रशासन को हालात में तनाव दूर करने के लिये तत्काल उपायों पर विचार करने के लिये प्रोत्साहित करते हैं.”
साथ ही संयुक्त राष्ट्र इस मुद्दे का शान्तिपूर्ण समाधान तलाश करने के राष्ट्रीय प्रयासों को सहारा देने के लिये तैयार है.
इस बीच संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने भी लागोस में नाइजीरिया सुरक्षा बलों द्वारा अत्यधिक और ग़ैरआनुपातिक बल प्रयोग किये जाने की कड़े शब्दों में निन्दा की है.
उन्होंने नाइजीरिया प्रशासन से कहा है कि सुरक्षा बलों के हाथों लोगों के अधिकारों का उल्लंघन किये जाने के मामलों की समस्या से निर्णायक रूप से निपटा जाना होगा.
उन्होंने कहा कि लागोस के लेक्की टोल प्लाज़ा में गोलीबारी में हताहतों की संख्या का अभी पूरा अन्दाज़ा नहीं है लेकिन इसमें कोई सन्देह नहीं है कि ज़रूरत से ज़्यादा बल प्रयोग किया गया, जिससे नाइजीरिया सुरक्षा बलों की गोलीबारी से ग़ैरक़ानूनी ढँग से लोगों की मौत हुई.
यूएन मानवाधिकार प्रमुख ने गोलीबारी से पहले सीसीटीवी कैमरा और रौशनी बन्द किये जाने की ख़बरों पर चिन्ता जताई है.
उन्होंने कहा है कि अगर इन समाचारों की पुष्टि होती है तो फिर इसे शान्तिपूर्ण ढँग से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पहले से सोच-समझ कर सुनियोजित व समन्वित ढँग से निन्दनीय हमले के रूप में देखा जाएगा., संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि नाइजीरिया में घटनाक्रम पर वह नज़दीकी नज़र रख रहे हैं. ग़ौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में देश में प्रदर्शनकारियों के हताहत होने की ख़बरें मिली हैं जिनके बाद यूएन महासचिव ने कथित रूप से पुलिस क्रूरता और दुर्व्यवहार पर लगाम लगाने की माँग की है.

महासचिव एंतोनियो गुटेरेश के प्रवक्ता ने एक बयान जारी करके 20 अक्टूबर को लागोस में हिंसा भड़कने की निन्दा की है जिसमें अनेक लोगों की मौत हुई है और बड़ी संख्या में लोग घायल हुए है.

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक नाइजीरियाई सुरक्षा बलों ने मंगलवार रात अफ़्रीका के सबसे बड़े शहर लागोस में हुए प्रदर्शनों के दौरान गोलीबारी की.

ये प्रदर्शन एक ऐसी पुलिस यूनिट (Special Anti-Robbery Squad) के विरोध में किये गए जिस पर लोगों को भरोसा नहीं था.

अब ये यूनिट भंग कर दी गई है.

सरकार ने आगामी दिनों में पुलिस सुधार लागू करने और पुलिस की जवाबदेही प्रक्रिया को बेहतर बनाने की माँग की है.

लागोस और नाइजीरिया के अन्य हिस्सों में कर्फ़्यू लगा दिया गया है लेकिन बुधवार को भी तनाव की भी रिपोर्टें मिली हैं.

पुलिस द्वारा अनेक इलाक़ों में सड़कों पर ना उतरने के आदेश की अवहेलना कर रहे प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिये हवा में गोलियाँ चलाने की ख़बरें मिली हैं.

यूएन प्रमुख ने मृतकों के परिजनों के प्रति अपनी सम्वेदना व्यक्त की है और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.

अधिकतम संयम की अपील

महासचिव गुटेरेश ने नाइजीरियाई सरकार से सभी मामलों की जाँच करने और दोषियों की जवाबदेही तय करने का आग्रह किया है.

उन्होंने सुरक्षा बलों से हर समय अधिकतम संयम बरतने की अपील की है और प्रदर्शनकारियों का आहवान किया है कि हिंसा से दूरी रखते हुए शान्तिपूर्ण ढँग से प्रदर्शनों में हिस्सा लें.

“महासचिव नाइजीरिया प्रशासन को हालात में तनाव दूर करने के लिये तत्काल उपायों पर विचार करने के लिये प्रोत्साहित करते हैं.”

साथ ही संयुक्त राष्ट्र इस मुद्दे का शान्तिपूर्ण समाधान तलाश करने के राष्ट्रीय प्रयासों को सहारा देने के लिये तैयार है.

इस बीच संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने भी लागोस में नाइजीरिया सुरक्षा बलों द्वारा अत्यधिक और ग़ैरआनुपातिक बल प्रयोग किये जाने की कड़े शब्दों में निन्दा की है.

उन्होंने नाइजीरिया प्रशासन से कहा है कि सुरक्षा बलों के हाथों लोगों के अधिकारों का उल्लंघन किये जाने के मामलों की समस्या से निर्णायक रूप से निपटा जाना होगा.

उन्होंने कहा कि लागोस के लेक्की टोल प्लाज़ा में गोलीबारी में हताहतों की संख्या का अभी पूरा अन्दाज़ा नहीं है लेकिन इसमें कोई सन्देह नहीं है कि ज़रूरत से ज़्यादा बल प्रयोग किया गया, जिससे नाइजीरिया सुरक्षा बलों की गोलीबारी से ग़ैरक़ानूनी ढँग से लोगों की मौत हुई.

यूएन मानवाधिकार प्रमुख ने गोलीबारी से पहले सीसीटीवी कैमरा और रौशनी बन्द किये जाने की ख़बरों पर चिन्ता जताई है.

उन्होंने कहा है कि अगर इन समाचारों की पुष्टि होती है तो फिर इसे शान्तिपूर्ण ढँग से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पहले से सोच-समझ कर सुनियोजित व समन्वित ढँग से निन्दनीय हमले के रूप में देखा जाएगा.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *