Latest News Site

News

तीन दिवसीय निरंकारी संत समागम सम्पन्न , सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने सभी सद्गुरुओं का स्मरण किया

तीन दिवसीय निरंकारी संत समागम सम्पन्न , सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने सभी सद्गुरुओं का स्मरण किया
November 22
10:24 2019

तीन दिवसीय निरंकारी संत समागम सम्पन्न

संत निरंकारी मिशन की सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज के सानिध्य में मिशन का 72वां तीन दिवसीय निरंकारी संत समागम विस्तृत समालखा मैदान में पूर्ण आध्यात्मिक वातावरण में पूर्ण श्रध्दा और समर्पण के साथ सम्पन्न हो गया।

इस अवसर पर सद्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने मिशन के विगत 90 वर्ष के स्वर्णिम इतिहास को याद करते हुए अब तक के सद्गुरुओं के प्रति श्रद्धा अभिव्यक्त की और उनके पुनीत योगदान को अक्षुण बताया।

उन्होंने समागम के समापन उद्बोधन में साध-संगत को अहंकार त्याग कर अन्तः करण को निर्मल बनाने का संदेश दिया। उन्होंने मार्मिक एवं भाव प्रवण शब्दों में यह भी स्पष्ट किया कि सुख-दुख से उपर उठकर सहज अवस्था में आनंदपूर्ण जीवन जीने का नाम ही भक्ति है। उन्होंने भक्ति की उपलब्धियों का बखान करते हुए यह भी संदेश दिया कि भक्ति में ब्रह्मज्ञान द्वारा आत्मा और परमात्मा का मिलन होता है।

माता जी ने यह भी कहा कि संत निरंकारी मिशन प्रेम और परोपकार का मिशन है। यह आध्यात्मिक संगठन विगत 90 वर्षों से सत्य, प्रेम और एकत्व का संदेश देते रहा है। उन्होंने पूर्व सद्गुरु ब्रह्मलीन माता सविन्दर जी महाराज का भी विशेष स्मरण किया।

हरियाणा के जीटी रोड पर अवस्थित समालखा में सम्पन्न इस संत समागम में देश ही नहीं विदेशों से भी असंख्य साध-संगतों ने भाग लेकर मिशन के संदेशों को गरिमापूर्ण भाव से श्रवण किया और समर्पण भाव से सेवा भी दी। निरंकारी मिशन के संत समागम के आयोजन में मिशन के साथ-साथ संत निरंकारी चैरिटेबल ट्रस्ट तथा संत निरंकारी मंडल का भी पूर्ण योगदान रहा।

समस्त साध-संगत ने सत्संग के साथ लंगर का भी स्वाद लिया। समागम की सफलता के लिए विविध प्रकारसे आवश्यक प्रबंध किए गए। तीन दिवसीय समागम में सेवादल के हजारों सदस्यों ने शामिल होकर अपनी निष्ठा और सेवा से एक अलग प्रभाव डाला। सेवादल की प्रभावोत्पादक रैली में माता सुदीक्षा जी ने उनकी सेवा को सराहा।

वस्तुतः मानव के समग्र आध्यात्मिक विकास के लिए मिशन द्वारा प्रतिवर्ष इस तरह से निरंकारी संतसमागम का सिलसिला शुरू हुआ था जो सम्पूर्ण देश में विगत 72 वर्षों से जारी है। समागम में माता सद्गुरु सुदीक्षा जी ने कहा कि जिस प्रकार बाबा बूटा सिंह, बाबा अवतार सिंह, माता बुद्धवंती, बाबा गुरुवचन सिंह, राजमाता कुलवंत सिंह ने मानवता के उत्थान के लिए कार्य किया उसी तरह से बाबा हरदेव सिंह एवं माता सविन्दर सिंह ने भी मिशन के माध्यम से अपना सम्पूर्ण जीवन मानवता की सेवा में समर्पित कर दिया।

माता सुदीक्षा जी ने 72वें संत समागम में अपने प्रवचन में यह संदेश भी दिया कि ‘सत्य के बोध के बाद जब हम अपने कार्य में निरंतर प्रचु के एहसास को शामिल कर लेते हैं और ईश्वर के कृपा भाव को अपना लेते हैं तो वह भक्ति बन जाती है।’

उन्होंने कहा कि ब्रह्मलीन सद्गुरु माता सविन्दर सिंह ने 36 वर्षों तक सद्गुरु बाबा हरदेव सिंह जी के साथ कदम से कदम मिलाकर मिशन के कार्यों को जन-जन तक फैलाया। उन्होंने यह सिद्धांत स्थापित किया कि आध्यात्मिक ज्ञान से युक्त मनुष्य ही अपने परिवार में प्रेम, नम्रता और सहनशीलता जैसे दिव्य गुणों का संस्कार भर सकता है। ऐसे परिवार के सदस्य समाज में जहां भी विचरण करते हैं वहां इसी तरह का प्यार भरा व्यवहार करते हैं।’

समागम स्थल पर लगाई गई भव्य निरंकारी प्रदर्शनी आकर्षण का केन्द्र बनी रही। इस प्रदर्शनी में मिशन के 90 वर्षों के इतिहास और दर्शन के साथ समाज एवं मानवता की सेवा की गतिविधियों को विविध प्रकार से दर्शाया गया था।

समागम के अंतिम दिवस पर बहुभाषी कवि सम्मेलन का आयोजन सम्पन्न हुआ, जिसमें विविध भाषाओं के कवियों ने अपनी रचनाओं के माध्यम से मिशन के संदेश को उजागर किया।

संत निरंकारी मिशन का तीन दिवसीय 72वां वार्षिक संत समागम 16 नवम्बर से शुरू

Annie’s Closet
TBZ
G.E.L Shop Association
Novelty Fashion Mall
Status
Akash
Swastik Tiles
Reshika Boutique
Paul Opticals
Metro Glass
Krsna Restaurant
Motilal Oswal
Chotanagpur Handloom
Kamalia Sales
Home Essentials
Raymond

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    रक्षामंत्री की दो अंडर-पास बनाने की घोषणा पर त्रिवेंद्र ने आभार जताया

रक्षामंत्री की दो अंडर-पास बनाने की घोषणा पर त्रिवेंद्र ने आभार जताया

Read Full Article