Get Latest News In English And Hindi – Insightonlinenews

News

भारतीय एवं विश्व इतिहास में 13 मई की प्रमुख घटनाएं

July 13
00:27 2020

नयी दिल्ली। भारतीय एवं विश्व इतिहास में 13 जुलाई की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं:
1534- ऑटोमन सेना ने फारस में ताबरिज पर कब्जा किया।
1803- राजा राम मोहन राय और अलेक्जेंडर डफ ने पांच छात्रों के साथ स्कॉटिश चर्च कॉलेज शुरू किया।
1908- लंदन में चौथे आधुनिक ओलंपिक खेल शुरू।
1905- कलकत्ता के साप्ताहिक समाचार पत्र ‘संजीवनी’ ने सर्वप्रथम ब्रिटिश उत्पादों के बहिष्कार का सुझाव दिया।
1913- उद्योगपति तुलसी प्रसाद खेतान का जन्म।
1929- क्रांतिकारी यतीन्द्रनाथ दास ने भूख हड़ताल शुरू की।
1932 – हिन्दी फ़िल्मों की प्रसिद्ध अभिनेत्री बीना राय का जन्म।
1942- हिन्दी और अंग्रेज़ी की आधुनिक कहानीकार एवं उपन्यासकार सुनीता जैन का जन्म।
1974- हेडिंग्ले में भारत ने अपना पहला एकदिवसीय क्रिकेट मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेला।
2000 – फिजी में महेन्द्र चौधरी समेत 18 बंधक रिहा।
2001- वर्ष 2008 के ओलम्पिक खेलों की मेजबानी चीन (बीजिंग) को सौंपी गई।
2004- रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने साइबेरिया और देश के सुदूर पूर्ववर्ती इलाकों के विकास के लिए भारत से और मज़बूत संबंधों की इच्छा व्यक्त की।
2006 – ईरान का परमाणु बम निर्माण सम्बन्धी मसला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को सुपुर्द।
2011- देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के झवेरी बाजार, ओपेरा हाउस और दादर में बम धमाके हुए।
2016- ब्रिटेन की कंजर्वेटिव पार्टी के सांसदों द्वारा थेरेसा मे को प्रधानमंत्री चुना गया।
2017- चीन के प्रमुख राजनीतिक कैदी नोबेल शांति पुरस्कार विजेता लियू शियाओबो का 61 वर्ष की आयु में कैंसर से निधन।
2018- संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने दक्षिण सूडान में गृह युद्ध शुरू होने के करीब पांच वर्ष बाद वहां हथियारों के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगाया।
2019- रूस के प्रोटॉन-एम रॉकेट ने एक नई अंतरिक्ष दूरबीन स्पैक्ट्र-आरजी को सफलतापूर्वक कक्षा में पहुंचाया।

वार्ता

About Author

Prashant Kumar

Prashant Kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad


LATEST ARTICLES

    नेपाल ने भगवान राम के बाद भगवान बुध को लेकर खड़ा किया बखेड़ा

नेपाल ने भगवान राम के बाद भगवान बुध को लेकर खड़ा किया बखेड़ा

Read Full Article