Latest News Site

News

भारत-भूटान संबंधों का इतिहास जितना गौरवशाली है, उतना ही आशाजनक भविष्य : मोदी

August 17
17:50 2019

थिम्पू /नई दिल्ली, 17  अगस्त  (हि.स.) । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत-भूटान संबंधों का इतिहास जितना गौरवशाली है, उतना ही इसका आशाजनक भविष्य है।

अपनी दो दिवसीय भूटान यात्रा के पहले दिन मेजबान प्रधानमंत्री डॉ लोटे त्शेरिंग के साथ प्रेस वार्ता में मोदी ने कहा कि भारत और भूटान के सम्बन्ध दोनों देशों के लोगों की प्रगति, सम्पन्नता और सुरक्षा के साझा हितों पर आधारित हैं।

अपने दूसरे कार्यकाल में अपनी पहली भूटान को महत्वपूर्ण बताते हुए मोदी ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों के दिलों में भूटान एक विशेष स्थान रखता है। उन्होंने कहा कि अपने पहले कार्यकाल के दौरान पहली यात्रा उन्होंने भूटान का किया था। भारत की जनता के निर्णायक जनादेश ने उन्हें यह अवसर प्रदान किया है कि की वह भूटान के साथ संबंधों को और मजबूत बनाएं। इस यात्रा के दौरान उन्हें भूटान नरेश जिग्मे खेसर नामग्येल वांगचुक और प्रधानमंत्री डॉ लोटे त्शेरिंग के साथ द्विपक्षीय साझेदारी के बारे में चर्चा करने का अवसर मिला।

मोदी ने भूटान नरेश की प्रशंसा करते हुए कहा कि उनकी बुद्धिमत्ता और दूरदर्शिता ने बहुत लम्बे समय से  द्विपक्षीय संबंधों का मार्गदर्शन किया है । यही नहीं, उनके विज़न ने भूटान को पूरी दुनिया के सामने एक ऐसे अनूठे उदाहरण के रूप में प्रस्तुत किया है, जहां विकास को आंकड़ों से नहीं खुशहाली से नापा जाता है। भूटान ऐसा देश है जहां आर्थिक विकास परम्परा और पर्यावरण के साथ-साथ आगे बढ़ता है। ऐसा मित्र और ऐसा पड़ोसी कौन नहीं चाहेगा।

भूटान के विकास में भारत के योगदान का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा, “यह भारत का सौभाग्य है कि हम भूटान के विकास में प्रमुख भागीदार हैं। भूटान की पंचवर्षीय योजनाओं में भारत का सहयोग आपकी इच्छाओं और प्राथमिकताओं के आधार पर आगे भी जारी रहेगा।”

हिमालयी देश में जलविद्युत उत्पादन क्षमता का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा, “हाइड्रो-पॉवर हमारे दोनों देशों के बीच सहयोग का महत्वपूर्ण क्षेत्र है। दोनों देशों ने मिलकर भूटान की नदियों की शक्ति को बिजली में ही नहीं, पारस्परिक समृद्धि में भी बदला है। आज हमने मांगदेछु परियोजना के उद्घाटन के साथ इस यात्रा का एक और ऐतिहासिक मुकाम हासिल किया है। दोनों देशों के सहयोग से भूटान में हाइड्रो-पॉवर उत्पादन क्षमता 2000 मेगावाट को पार कर गयी है। मुझे विश्वास है कि हम अन्य परियोजनाओं को भी तेज़ी से आगे ले जाएंगे।”

उन्होंने घोषणा की कि भूटान को स्वच्छ ईंधन उपलब्ध कराने के लिए  भारत से एलपीजी की आपूर्ति 700 से बढ़ाकर 1000 मीट्रिक टन प्रति माह की जा रही है। इससे गांवों तक रसोई गैस के रूप में स्वच्छ ईंधन पहुंचाने में मदद मिलेगी ।

मोदी ने उपग्रह प्रोद्यौगिकी के क्षेत्र में भूटान को सहयोग देने का भरोसा दिलाया। शिक्षा क्षेत्र में सहयोग की चर्चा करते हुए मोदी ने कहा कि भारत के राष्ट्रीय ज्ञान नेटवर्क के साथ कनेक्शन भूटान के छात्रों और शोधकर्ताओं को भारतीय विश्वविद्यालयों के नए साधनों से जोड़ेगा। यह दोनों देशों के बीच साझा ज्ञानमूलक समाज की स्थापना के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, जो विशेष रूप से हमारे युवाओं को लाभान्वित करेगा। रॉयल भूटान विश्वविद्यालय और भारत के आईआईटी और कुछ अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों के बीच सहयोग और संबंध, शिक्षा और टेक्नोलॉजी के लिए आज की आवश्यकताओं के अनुरूप है।

भूटान में स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के लिए मोदी ने पेशकश की कि भूटान में बहुविषयी अति विशेषज्ञता वाले हॉस्पिटल की स्थापना में भारत हर संभव सहयोग करेगा।

आर्थिक क्षेत्र में सहयोग के एक बड़े कदम के रूप में मोदी ने कहा कि दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) करेंसी स्वैप फ्रेमवर्क के तहत भूटान के लिए करेंसी स्वैप की सीमा बढ़ाने के लिए भारत का  नज़ारिया सकारात्मक है। उन्होंने कहा कि विदेशी मुद्रा की आवश्यकता को पूरा करने के लिए स्टैंडबाय स्वैप व्यवस्था के तहत अतिरिक्त 100 मिलियन डॉलर भूटान को उपलब्ध होंगे।

मोदी ने भूटान में रुपे कार्ड का शुभारम्भ भी किया। इससे डिजिटल भुगतान, व्यापार तथा पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। मोदी ने नालंदा विश्वविद्यालय में भूटान के लिए स्नातकोत्तर छत्रवृत्तियों की संख्या दो से बढ़ाकर पांच करने की घोषणा भी की।

हिन्दुस्थान समाचार

[slick-carousel-slider design="design-6" centermode="true" slidestoshow="3"]

About Author

admin_news

admin_news

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad

SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS SPONSORED ADS

LATEST ARTICLES

    Rahul speaks up for poor migrants, asks govt for finacial help

Rahul speaks up for poor migrants, asks govt for finacial help

Read Full Article