Get Latest News In English And Hindi – Insightonlinenews

News

भीम ने की थी यहां विशालकाय शिवलिंग की स्थापना

July 12
19:19 2020

गोण्डा ,12 जुलाई :भगवान शिव के प्रिय मास श्रावण में हमेशा श्रद्धालुओं से गुलजार रहने वाले महाभारत कालीन सिद्ध पृथ्वीनाथ मंदिर में कोरोना संक्रमण के चलते इस बार सन्नाटा पसरा हुआ है।

गोंडा जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर खरगूपुर बाजार से पश्चिम दिशा की ओर स्थित मंदिर में साढ़े पांच फुट ऊंचे शिवलिंग के दर्शन के लिये हर साल श्रावण मास शुरू होते ही श्रद्धालुओं का तांता लगा जाता है हालांकि इस बार हालात तनिक जुदा है। कोरोना वायरस फैलने के कारण श्रावण मास में मंदिर के कपाट बंद है और परिसर में सन्नाटा पसरा हुआ हैं।

मंदिर के महंत राम मनोहर तिवारी ने ‘यूनीवार्ता’ को बताया कि मान्यताओं के अनुसार , द्वापर युग के महाभारत काल में अज्ञातवास के दौरान महाबली भीम ने धरती से करीब 54 फीट नीचे से छह अर्धाओ का निर्माण कर अर्धा पर ही भव्य मंदिर का निर्माण कर शिव आराधना की थी लेकिन कालान्तर में ये शिवलिंग पूरी तरह धरती में समा गया।

किवदंतियों के अनुसार इसी क्षेत्र का निवासी पृथ्वी नामक एक किसान अपना घऱ बनवाने के लिये गड्ढा खोदवा रहा था कि शिवलिंग वाले स्थान के ऊपर की धरती से अचानक रक्त की फुहार निकलने लगी जिसे देख पृथ्वी अचम्भित रह गया। रात्रि में उसे स्वप्न में जमीन के नीचे शिवलिंग होने का आभास हुआ। भोर होते ही पृथ्वी ने सारी बात खरगूपुर के राजा गुमान सिंह को बतायी। राजा ने जमीन की खुदाई करवाकर शिवलिंग के अर्ध्य पर विशाल मंदिर का निर्माण कराया और तभी से इस दिव्य पौराणिक मंदिर को पृथ्वीनाथ मंदिर के नाम से पुकारा जाने लगा।

उन्होने बताया कि एशिया का अनूठा मंदिर वास्तुकला का सबसे अच्छा उदाहरण है। पृथ्वीनाथ को ‘लिंगम’ कहा जाता है। मंदिर में आने के बाद सभी भक्तो को शांति मिलती हैं। शिवमंदिर के केवल दर्शनमात्र सभी पीड़ितों के क्लेश दूर हो जाते हैं। भक्तों का विश्वास इस स्थान के महत्व को दर्शाता है।

पुजारी ने बताया कि श्रावण मास में शिव भक्त अयोध्या धाम व कर्नलगंज में बह रही सरयू नदी से जल भरकर बाबा पृथ्वीनाथ मंदिर में स्थित विशाल शिवलिंग पर ऐड़ी के बल चढ़ाते है। इसके अलावा दूर दराज से आये लाखों महिला एवं पुरुष श्रद्धालु बेलपत्र , धतूरा , भांग , कमल , भस्म, दुग्ध , मधु , चन्दन व अन्य पूजन सामग्रियों से भोलेनाथ का अभिषेक कर उन्हें प्रसन्न करके मनोकामना मांगते है।

फिलहाल लॉकडाउन के दौरान गर्भगृह में सोशल डिस्टेंसिंग संग मंदिर समिति के पांच सदस्य ही बाबा पृथ्वीनाथ का श्रृंगार कर रहे हैं और आम भक्तों को जलाभिषेक व पूजन की अनुमति नहीं हैं।

सं प्रदीप

वार्ता

About Author

Bhusan kumar

Bhusan kumar

Related Articles

0 Comments

No Comments Yet!

There are no comments at the moment, do you want to add one?

Write a comment

Only registered users can comment.

Sponsored Ad


LATEST ARTICLES

    701 से 1,400 किमी के दायरे में कोयला ढुलाई पर छूट दे रेलवे:कोल इंडिया

701 से 1,400 किमी के दायरे में कोयला ढुलाई पर छूट दे रेलवे:कोल इंडिया

Read Full Article