मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद – यूएन महासभा के नए अध्यक्ष

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद को यूएन महासभा के 76वें सत्र के लिये नए अध्यक्ष चुने पर बधाई दी है. सोमवार को जनरल असेम्बली के अगले प्रमुख के चुनाव में अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ज़लमई रसूल को 48 मत मिले, जबकि अब्दुल्ला शाहिद को 143 वोट प्राप्त हुए.

यूएन प्रमुख के मुताबिक अब्दुल्ला शाहिद के लम्बे कूटनैतिक अनुभव ने उन्हें मौजूदा वैश्विक चुनौतियों से निपटने में बहुपक्षवाद की अहमियत के प्रति गहरी समझ दी है.

The result of the election for the President of the 76th session of the UN General Assembly..#UNGA 🇺🇳 pic.twitter.com/kKZTXo3LsK— Volkan BOZKIR (@volkan_bozkir) June 7, 2021

उन्होंने कहा कि नवनिर्वाचित अध्यक्ष एक लघु द्वीपीय विकासशील देश से हैं, और ग्लासगो में इस वर्ष नवम्बर में आयोजित होने वाले वार्षिक यूएन जलवायु सम्मेलन की तैयारियों के दौरान उनकी अनूठे अनुभव व अंतर्दृष्टि अहम होंगे.
“मैं महामहिम डॉक्टर ज़लमई रसूल के प्रति गहरा आभार व्यक्त करना चाहता हूँ और इस गतिशील प्रक्रिया में योगदान देने के लिये उन्हें धन्यवाद देता हूँ.”
इस वर्ष सितम्बर में जनरल असेम्बली सभागार में पहली सीट के लिये, ड्रॉ से निकाले गए नाम के तहत, सूरीनाम को चुना गया है.
यूएन महासचिव ने महासभा के 75वें सत्र के लिये अध्यक्ष वोल्कान बोज़किर को उनके असाधारण नेतृत्व के लिये सराहना की है.
“हमारे सबसे अधिक प्रतिनिधिक अंग के रूप में, महासभा संयुक्त राष्ट्र में हमारे सभी कार्यों की नींव है और एक संगठन के तौर पर हमारी कारगरता के लिये आवश्यक है.”
“2021 में दुनिया को उस कारगरता की पहले से कहीं अधिक ज़रूरत है.”
यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाते हुए कहा कि महासभा के 76वें सत्र को, संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के तीन अहम कार्य स्तम्भों पर हुए असर से निपटना होगा: टिकाऊ विकास, शान्ति, मानवाधिकार.
उन्होंने नवनिर्वाचित अध्यक्ष को भरोसा दिलाया है कि साझा लक्ष्यों व सार्वभौमिक मूल्यों को बरक़रार रखने के कार्य में यूएन सचिवालय का पूर्ण समर्थन उनके साथ है.
6 मई को यूएन महासभा के मौजूदा अध्यक्ष वोल्कान बोज़किर ने जनरल असेम्बली हॉल में, प्रस्ताव 71/323 के तहत एक अनौपचारिक सम्वाद का आयोजन किया था.
इस दौरान, महासभा अध्यक्ष पद के लिये उम्मीदवारों ने नागरिक समाज व अन्य प्रतिनिधियों द्वारा भेजे गए प्रश्नों के उत्तर दिये.
वोल्कान बोज़किर ने मालदीव के विदेश मंत्री को महासभा अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई देते हुए कहा है कि नवनिर्वाचित अध्यक्ष, लघु द्वीपीय देशों के लिये एक मज़बूत आवाज़ रहे हैं.
यूएन महासभा प्रमुख ने अफ़ग़ानिस्तान के उम्मीदवार ज़लमई रसूल के बहुपक्षीय कूटनीति में लम्बे अनुभव व दूरदृष्टि की सराहना की है.
उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि देश के इतिहास में इस महत्वपूर्ण समय में, लोकतंत्र की दिशा में अफ़ग़ानिस्तान की लम्बी यात्रा के लिये अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का समर्थन हमेशा की तरह आवश्यक है., संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद को यूएन महासभा के 76वें सत्र के लिये नए अध्यक्ष चुने पर बधाई दी है. सोमवार को जनरल असेम्बली के अगले प्रमुख के चुनाव में अफ़ग़ानिस्तान के पूर्व विदेश मंत्री ज़लमई रसूल को 48 मत मिले, जबकि अब्दुल्ला शाहिद को 143 वोट प्राप्त हुए.

यूएन प्रमुख के मुताबिक अब्दुल्ला शाहिद के लम्बे कूटनैतिक अनुभव ने उन्हें मौजूदा वैश्विक चुनौतियों से निपटने में बहुपक्षवाद की अहमियत के प्रति गहरी समझ दी है.

The result of the election for the President of the 76th session of the UN General Assembly..#UNGA 🇺🇳 pic.twitter.com/kKZTXo3LsK

— Volkan BOZKIR (@volkan_bozkir) June 7, 2021

उन्होंने कहा कि नवनिर्वाचित अध्यक्ष एक लघु द्वीपीय विकासशील देश से हैं, और ग्लासगो में इस वर्ष नवम्बर में आयोजित होने वाले वार्षिक यूएन जलवायु सम्मेलन की तैयारियों के दौरान उनकी अनूठे अनुभव व अंतर्दृष्टि अहम होंगे.

“मैं महामहिम डॉक्टर ज़लमई रसूल के प्रति गहरा आभार व्यक्त करना चाहता हूँ और इस गतिशील प्रक्रिया में योगदान देने के लिये उन्हें धन्यवाद देता हूँ.”

इस वर्ष सितम्बर में जनरल असेम्बली सभागार में पहली सीट के लिये, ड्रॉ से निकाले गए नाम के तहत, सूरीनाम को चुना गया है.

यूएन महासचिव ने महासभा के 75वें सत्र के लिये अध्यक्ष वोल्कान बोज़किर को उनके असाधारण नेतृत्व के लिये सराहना की है.

“हमारे सबसे अधिक प्रतिनिधिक अंग के रूप में, महासभा संयुक्त राष्ट्र में हमारे सभी कार्यों की नींव है और एक संगठन के तौर पर हमारी कारगरता के लिये आवश्यक है.”

“2021 में दुनिया को उस कारगरता की पहले से कहीं अधिक ज़रूरत है.”

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाते हुए कहा कि महासभा के 76वें सत्र को, संयुक्त राष्ट्र प्रणाली के तीन अहम कार्य स्तम्भों पर हुए असर से निपटना होगा: टिकाऊ विकास, शान्ति, मानवाधिकार.

उन्होंने नवनिर्वाचित अध्यक्ष को भरोसा दिलाया है कि साझा लक्ष्यों व सार्वभौमिक मूल्यों को बरक़रार रखने के कार्य में यूएन सचिवालय का पूर्ण समर्थन उनके साथ है.

6 मई को यूएन महासभा के मौजूदा अध्यक्ष वोल्कान बोज़किर ने जनरल असेम्बली हॉल में, प्रस्ताव 71/323 के तहत एक अनौपचारिक सम्वाद का आयोजन किया था.

इस दौरान, महासभा अध्यक्ष पद के लिये उम्मीदवारों ने नागरिक समाज व अन्य प्रतिनिधियों द्वारा भेजे गए प्रश्नों के उत्तर दिये.

वोल्कान बोज़किर ने मालदीव के विदेश मंत्री को महासभा अध्यक्ष चुने जाने पर बधाई देते हुए कहा है कि नवनिर्वाचित अध्यक्ष, लघु द्वीपीय देशों के लिये एक मज़बूत आवाज़ रहे हैं.

यूएन महासभा प्रमुख ने अफ़ग़ानिस्तान के उम्मीदवार ज़लमई रसूल के बहुपक्षीय कूटनीति में लम्बे अनुभव व दूरदृष्टि की सराहना की है.

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि देश के इतिहास में इस महत्वपूर्ण समय में, लोकतंत्र की दिशा में अफ़ग़ानिस्तान की लम्बी यात्रा के लिये अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का समर्थन हमेशा की तरह आवश्यक है.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES