यूनीसेफ़ प्रमुख की पुकार – वैक्सीन की अतिरिक्त ख़ुराकों वाले देश ज़रूरतमन्दों को दें

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने सोमवार को आगाह करने के अन्दाज़ में कहा है कि अगर कमज़ोर हालात वाले देशों को वैक्सीन उपलब्ध नहीं हुई तो कोविड-19 महामारी का ख़तरनाक फैलाव जिस तरह भारत में तेज़ी से हुआ है, उसी तरह अन्य देशों में भी फैल सकता है.

यूनीसेफ़ की कार्यकारी निदेशक हेनरिएटा फ़ोर ने धनी देशों से, कोविड-19 वैक्सीन की अतिरिक्त ख़ुराकें, अन्य ज़रूरतमन्द देशों को उपलब्ध कराने की पुकार के तहत ये बात कही है.

The COVAX Facility will deliver its 65 millionth vaccine dose this week. It should have been at least its 170 millionth. The longer #COVID19 continues to spread unchecked, the higher the risk of more deadly or contagious variants emerging. The time to donate excess doses is now.— Henrietta H. Fore (@unicefchief) May 17, 2021

उन्होंने न्यूयॉर्क में एक वक्तव्य जारी करके ये बात ऐसे अवसर पर कही है जब धनी देशों के संगठन जी7 के नेता, अगले महीने ब्रिटेन में अपने अगले सम्मेलन की तैयारी कर रहे हैं.
इस सन्दर्भ में ये भी महत्वपूर्ण है कि भारत, कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादक देश होने के बावजूद, अपने यहाँ कोविड-19 के मामलों में अत्यधिक वृद्धि से जूझ रहा है.
चेतावनी पर ध्यान दें
यूनीसेफ़, दुनिया भर में समानता के आधार पर वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिये शुरू किये गए वैश्विक कोवैक्स कार्यक्रम में एक साझीदार संगठन है. इस कार्यक्रम के तहत इस सप्ताह लगभग साढ़े 6 करोड़ ख़ुराकें मुहैया कराई जाएंगी. 
हेनरिएटा फ़ोर ने अलबत्ता कहा है कि ये मात्रा कम से कम 17 करोड़ होनी चाहिये थी.
उन्होंने कहा कि जब तक जी7 देशों की बैठक होगी तब तक कमी की ये खाई बढ़कर 19 करोड़ तक हो चुकी होगी, जबकि कोविड-19 की घातक दूसरी लहर, पूरे भारत में और उसके अनेक पड़ोसी देशों में जारी रहने की आशंका है.
यूनीसेफ़ प्रमुख ने कहा, “हमने अपनी चौकसी में कोताही बरतने और निम्न व मध्य आय वाले देशों को सर्वसुलभ वैक्सीन, टेस्ट और उपचार के उपायों के बिना छोड़ दिये जाने के जोखिमों के बारे में बारम्बार चेतावनियाँ जारी की हैं.”
“हम ये देखकर बहुत चिन्तित हैं कि बारत में महामारी का घातक फैलाव, उस स्थिति की एक बानगी है जो इन चेतावनियों को अनसुना कर दिये जाने के कारण उत्पन्न हो सकती है.”
भारत संकट अकेला नहीं
यूएन बाल एजेंसी की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने कहा कि निसन्देह भारत की स्थिति बहुत त्रासदीपूर्ण है, मगर “यह स्थिति अपने आप में अकेली नहीं है”.
नेपाल, श्रीलंका, मालदीव्स, अर्जेंटीना और ब्राज़ील जैसे देशों में भी कोविड-19 के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी गई है और उनकी स्वास्थ्य प्रणालियाँ अत्यधिक बोझ से जूझ रही हैं. 
उन्होंने इस तरफ़ भी ध्यान दिलाया कि अगर वायरस बेक़ाबू होकर यूँ ही फैलता रहा तो इस वायरस के और भी अधिक घातक रूपों या प्रकारों (Variants) उभरने का जोखिम बरक़रार रहेगा., संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने सोमवार को आगाह करने के अन्दाज़ में कहा है कि अगर कमज़ोर हालात वाले देशों को वैक्सीन उपलब्ध नहीं हुई तो कोविड-19 महामारी का ख़तरनाक फैलाव जिस तरह भारत में तेज़ी से हुआ है, उसी तरह अन्य देशों में भी फैल सकता है.

यूनीसेफ़ की कार्यकारी निदेशक हेनरिएटा फ़ोर ने धनी देशों से, कोविड-19 वैक्सीन की अतिरिक्त ख़ुराकें, अन्य ज़रूरतमन्द देशों को उपलब्ध कराने की पुकार के तहत ये बात कही है.

The COVAX Facility will deliver its 65 millionth vaccine dose this week. It should have been at least its 170 millionth. The longer #COVID19 continues to spread unchecked, the higher the risk of more deadly or contagious variants emerging. The time to donate excess doses is now.

— Henrietta H. Fore (@unicefchief) May 17, 2021

उन्होंने न्यूयॉर्क में एक वक्तव्य जारी करके ये बात ऐसे अवसर पर कही है जब धनी देशों के संगठन जी7 के नेता, अगले महीने ब्रिटेन में अपने अगले सम्मेलन की तैयारी कर रहे हैं.

इस सन्दर्भ में ये भी महत्वपूर्ण है कि भारत, कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादक देश होने के बावजूद, अपने यहाँ कोविड-19 के मामलों में अत्यधिक वृद्धि से जूझ रहा है.

चेतावनी पर ध्यान दें

यूनीसेफ़, दुनिया भर में समानता के आधार पर वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिये शुरू किये गए वैश्विक कोवैक्स कार्यक्रम में एक साझीदार संगठन है. इस कार्यक्रम के तहत इस सप्ताह लगभग साढ़े 6 करोड़ ख़ुराकें मुहैया कराई जाएंगी. 

हेनरिएटा फ़ोर ने अलबत्ता कहा है कि ये मात्रा कम से कम 17 करोड़ होनी चाहिये थी.

उन्होंने कहा कि जब तक जी7 देशों की बैठक होगी तब तक कमी की ये खाई बढ़कर 19 करोड़ तक हो चुकी होगी, जबकि कोविड-19 की घातक दूसरी लहर, पूरे भारत में और उसके अनेक पड़ोसी देशों में जारी रहने की आशंका है.

यूनीसेफ़ प्रमुख ने कहा, “हमने अपनी चौकसी में कोताही बरतने और निम्न व मध्य आय वाले देशों को सर्वसुलभ वैक्सीन, टेस्ट और उपचार के उपायों के बिना छोड़ दिये जाने के जोखिमों के बारे में बारम्बार चेतावनियाँ जारी की हैं.”

“हम ये देखकर बहुत चिन्तित हैं कि बारत में महामारी का घातक फैलाव, उस स्थिति की एक बानगी है जो इन चेतावनियों को अनसुना कर दिये जाने के कारण उत्पन्न हो सकती है.”

भारत संकट अकेला नहीं

यूएन बाल एजेंसी की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने कहा कि निसन्देह भारत की स्थिति बहुत त्रासदीपूर्ण है, मगर “यह स्थिति अपने आप में अकेली नहीं है”.

नेपाल, श्रीलंका, मालदीव्स, अर्जेंटीना और ब्राज़ील जैसे देशों में भी कोविड-19 के मामलों में बढ़ोत्तरी देखी गई है और उनकी स्वास्थ्य प्रणालियाँ अत्यधिक बोझ से जूझ रही हैं. 

उन्होंने इस तरफ़ भी ध्यान दिलाया कि अगर वायरस बेक़ाबू होकर यूँ ही फैलता रहा तो इस वायरस के और भी अधिक घातक रूपों या प्रकारों (Variants) उभरने का जोखिम बरक़रार रहेगा.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES