संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन की जमशेदपुर शाखा ने 66 यूनिट रक्तदान की सेवा दी

Insightonlinenews Team

  • कोरोना काल से उत्पन्न संकट में रक्तदान शिविर लगाकर देश में स्थापित 300 से अधिक शाखाओं में रक्तदान द्वारा मानव की सेवा कर रहा है निरंकारी मिशन
  • जमशेदपुर में भी.वी.डी ’’टाटा’’ के सहयोग से दिनांक 26 जुलाई 2020 को 66 यूनिट रक्तदान की सेवा दी गई

संत निरंकारी मंडल जमशेदपुर शाखा (सिदगोड़ा, आदित्यपुर, बागबेड़ा और जमशेदपुर) के तत्वधान में संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा जमशेदपुर में निरंकारी अनुयायीयों एवं उनके सहयोगियों द्वारा 66 यूनिट रक्तदान दिया गया जो एक आदर्श दृष्टांत है।

रक्तदान शिविर पूरे विश्व में निरंकारी मिशन बड़े पैमाने पर आयोजन करता है और निरंकारी मिशन ने ही इस सेवा के कार्य में विश्व स्तरीय पहचान बनाई है उसकी जमशेदपुर शाखा ने कोरोना के संकट काल में इसकी नृतांत आवश्यकता को समझते हुये यह सेवा समर्पण भाव से की।

सर्वविदित है कि कोरोना संकट काल में जमशेदपुर और उसके आसपास के अस्पतालों में स्थापित ब्लड बैंकों में खून की काफी कमी बनी रहती है और संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के सेवादारों के सहयोग से संत निरंकारी मिशन के सिद्धांत मानव एकता को सर्वपरी रखते हुए निरंकारी सत्संग भवन, सिदगोड़ जमशेदपुर में रक्तदान शिविर लगाकर 66 यूनिट ब्लड की सेवा का महत्वपूर्ण योगदान किया।

संत निरंकारी मिशन जमशेदपुर के महात्मा सीपी ददलानी, विजय कुमार, प्रेमसागर झा, जगदीश प्रसाद, निरंजन निरंकारी, विनोद शाह एवं सेवादल की बहनें पूनम तिवारी, प्रिति कटारिया, पुष्पा शाह ने मिलकर इस मानव सेवा के काम को सहयोग देकर संपन्न कराया।इसमें सेवादल के महात्माओं और सेवादल की बहनों ने विशेष भूमिका निभाई।

संत निरंकारी मिशन के अनुयायीयों एवं उनके सहयोगियों का इस कोरोना संकट काल में भी उत्साह रक्तदान के प्रति देखते ही बनता था। उनकी भावना है कि मानव की सेवा ही असली धर्म है और यह बेमिशाल पहचान संत निरंकारी मिशन ने इस कोरोना काल में बनाई है।

निरंकारी मिशन की युक्ति रक्त नालियों में नहीं नाड़ियों में बहना चाहिए और रक्तदान महादान के प्रति निरंकारी सतगुरु माता सुदीक्षा जी महाराज की प्रेरणा से पूरे विश्व में यह सेवा दी जा रही है और उसी की कड़ी में जमशेदपुर ब्रांच द्वारा महात्माओं ने मिलकर 66 यूनिट रक्तदान की सेवा दिनांक 26 जुलाई दिन रविवार की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *