सीरिया में, रासायनिक हथियारों के प्रयोग में, निडरता को ख़त्म करने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष निरस्त्रीकरण अधिकारी इज़ूमी नाकामीत्सू ने ज़ोर देकर कहा है कि सीरिया में जिन तत्वों ने रासायनिक हथियारों का प्रयोग किया है, उनकी ना केवल निशानदेही की जाए, बल्कि उनकी गतिविधियों के लिये उन्हें जवाबदेह भी ठहराया जाए.

यूएन निरस्त्रीकरण मामलों की प्रतिनिधि इज़ूमी नाकामीत्सू ने एक वर्चुअल बैठक में, सुरक्षा परिषद को बताया, “इस तरह की ठोस कार्रवाई के बिना, हम रासायनिक शस्त्रों के, दण्डमुक्ति की भावना के साथ प्रयोग को अनुमति दे रहे हैं.”
उन्होंने कहा, “ये बहुत आवश्यक है कि ये परिषद, ठोस नेतृत्व दिखाते हुए ये सुनिश्चित करे कि रासायनिक हथियारों का प्रयोग करने में दण्डमुक्ति की भावना सहन नहीं की जाएगी.”
निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि इज़ूनी नाकामीत्सू, प्रस्ताव संख्या 2118 पर, के क्रियान्वयन पर, सुरक्षा परिषद के सदस्यों को जानकारी मुहैया करा रही थीं.
इस प्रस्ताव में, वर्ष 2013 में, इस मुद्दे पर आम सहमति बनी थी कि सीरिया में रासायनिक शस्त्रों के किसी भी तरह के प्रयोग की, कड़े से कड़े शब्दों में निन्दा की जानी होगी.
सुरक्षा परिषद ने, इस प्रस्ताव के माध्यम से, अपना ये पक्का इरादा भी व्यक्त किया था कि रासायनिक हथियार प्रयोग करने के लिये ज़िम्मेदार व्यक्तियों या तत्वों को जवाबदेह ठहराया जाए.
कोविड-19 प्रभाव
निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि इज़ूमी नाकामीत्सू ने सुरक्षा परिषद को सूचित किया कि कोरोनावायरस महामारी ने, अलबत्ता, सीरिया में, रासायनिक शस्त्र निरोधक संगठन की तैनाती को प्रभावित करना जारी रखा हुआ है, फिर भी इस संगठन का तकनीकी सचिवालय ने, सीरिया के रासायनिक शस्त्र कार्यक्रम को ख़त्म करने से सम्बन्धित अपनी गतिविधियाँ जारी रखी हुई हैं.
उन्होंने ये भी कहा कि संगठन का तथ्य एकत्रीकरण मिशन ने, सीरिया में, रासायनिक हथियारों के प्रयोग के आरोपों से सम्बन्धित तमाम उपलब्ध जानकारी की जाँच का सिलसिला जारी रखा हुआ है. साथ ही, ये संगठन, सीरिया सरकार और रासायनिक शस्त्र कन्वेन्शन के अन्य सदस्य देशों व पक्षों के साथ भी सम्पर्क बनाए हुए है.
निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि ने कहा, “जैसाकि पहले भी जानकारी दी जा चुकी है, तथ्य एकत्रीकरण मिशन का आगे तैनात किया जाना, कोविड-19 महामारी की स्थिति पर निर्भर करेगा.”
अनसुलझे मुद्दे
इज़ूमी नाकामीत्सू ने संगठन के महानिदेशक द्वारा दिसम्बर 2020 में, सुरक्षा परिषद में पेश की गई जानकारी को याद किया जिसमें बताया गया था कि सीरिया की आरम्भिक घोषणा से सम्बन्धित तीन अनसुलझे मुद्दे बन्द कर दिये गए थे, जबकि 19 मुद्दे अब भी अनसुलझे हैं.
उन्होंने कहा कि एक मुद्दा, सीरिया की रासायनिक हथियार उत्पादन सुविधा के सम्बन्ध में रहा है, जिसके बारे में सीरिया ने कहा है कि ये सुविधा इस तरह के उत्पादन के लिये कभी प्रयोग नहीं की गई.
“अलबत्ता, संगठन ने वर्ष 2014 के बाद से जो जानकारी व सामग्री एकत्र की है, उससे संकेत मिलता है कि इस सुविधा केन्द्र में, रासायनिक हथियारों का उत्पादन या रासायनिक युद्धक विषैले एजेंटों का शस्त्रीकरण किया गया.”
रासायनिक शस्त्र निरोधक संगठन के सचिवालय ने सीरिया से, इन एजेंटों के प्रकार और गुणवत्ता व उन्हें हथियारों में तब्दील किये जाने के बारे में सटीक जानकारी मुहैया कराने का अनुरोध किया है, लेकिन सीरिया ने अभी इस बारे में कोई जानकारी मुहैया नहीं कराई है.
संयुक्त राष्ट्र की निरस्त्रीकरण उच्च प्रतिनिधि ने सीरिया से, संगठन सचिवालय के साथ पूर्ण सहयोग करने का आग्रह किया है.
साथ ही ये भी कहा है कि सीरिया के रासायनिक शस्त्र कार्यक्रम को पूरी तरह से ख़त्म किये जाने के बारे में अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का विश्वास, इस पर निर्भर होगा कि संगठन को अनसुलझे मुद्दों को हल करके बन्द करने का मौक़ा मिले., संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष निरस्त्रीकरण अधिकारी इज़ूमी नाकामीत्सू ने ज़ोर देकर कहा है कि सीरिया में जिन तत्वों ने रासायनिक हथियारों का प्रयोग किया है, उनकी ना केवल निशानदेही की जाए, बल्कि उनकी गतिविधियों के लिये उन्हें जवाबदेह भी ठहराया जाए.

यूएन निरस्त्रीकरण मामलों की प्रतिनिधि इज़ूमी नाकामीत्सू ने एक वर्चुअल बैठक में, सुरक्षा परिषद को बताया, “इस तरह की ठोस कार्रवाई के बिना, हम रासायनिक शस्त्रों के, दण्डमुक्ति की भावना के साथ प्रयोग को अनुमति दे रहे हैं.”

उन्होंने कहा, “ये बहुत आवश्यक है कि ये परिषद, ठोस नेतृत्व दिखाते हुए ये सुनिश्चित करे कि रासायनिक हथियारों का प्रयोग करने में दण्डमुक्ति की भावना सहन नहीं की जाएगी.”

निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि इज़ूनी नाकामीत्सू, प्रस्ताव संख्या 2118 पर, के क्रियान्वयन पर, सुरक्षा परिषद के सदस्यों को जानकारी मुहैया करा रही थीं.

इस प्रस्ताव में, वर्ष 2013 में, इस मुद्दे पर आम सहमति बनी थी कि सीरिया में रासायनिक शस्त्रों के किसी भी तरह के प्रयोग की, कड़े से कड़े शब्दों में निन्दा की जानी होगी.

सुरक्षा परिषद ने, इस प्रस्ताव के माध्यम से, अपना ये पक्का इरादा भी व्यक्त किया था कि रासायनिक हथियार प्रयोग करने के लिये ज़िम्मेदार व्यक्तियों या तत्वों को जवाबदेह ठहराया जाए.

कोविड-19 प्रभाव

निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि इज़ूमी नाकामीत्सू ने सुरक्षा परिषद को सूचित किया कि कोरोनावायरस महामारी ने, अलबत्ता, सीरिया में, रासायनिक शस्त्र निरोधक संगठन की तैनाती को प्रभावित करना जारी रखा हुआ है, फिर भी इस संगठन का तकनीकी सचिवालय ने, सीरिया के रासायनिक शस्त्र कार्यक्रम को ख़त्म करने से सम्बन्धित अपनी गतिविधियाँ जारी रखी हुई हैं.

उन्होंने ये भी कहा कि संगठन का तथ्य एकत्रीकरण मिशन ने, सीरिया में, रासायनिक हथियारों के प्रयोग के आरोपों से सम्बन्धित तमाम उपलब्ध जानकारी की जाँच का सिलसिला जारी रखा हुआ है. साथ ही, ये संगठन, सीरिया सरकार और रासायनिक शस्त्र कन्वेन्शन के अन्य सदस्य देशों व पक्षों के साथ भी सम्पर्क बनाए हुए है.

निरस्त्रीकरण प्रतिनिधि ने कहा, “जैसाकि पहले भी जानकारी दी जा चुकी है, तथ्य एकत्रीकरण मिशन का आगे तैनात किया जाना, कोविड-19 महामारी की स्थिति पर निर्भर करेगा.”

अनसुलझे मुद्दे

इज़ूमी नाकामीत्सू ने संगठन के महानिदेशक द्वारा दिसम्बर 2020 में, सुरक्षा परिषद में पेश की गई जानकारी को याद किया जिसमें बताया गया था कि सीरिया की आरम्भिक घोषणा से सम्बन्धित तीन अनसुलझे मुद्दे बन्द कर दिये गए थे, जबकि 19 मुद्दे अब भी अनसुलझे हैं.

उन्होंने कहा कि एक मुद्दा, सीरिया की रासायनिक हथियार उत्पादन सुविधा के सम्बन्ध में रहा है, जिसके बारे में सीरिया ने कहा है कि ये सुविधा इस तरह के उत्पादन के लिये कभी प्रयोग नहीं की गई.

“अलबत्ता, संगठन ने वर्ष 2014 के बाद से जो जानकारी व सामग्री एकत्र की है, उससे संकेत मिलता है कि इस सुविधा केन्द्र में, रासायनिक हथियारों का उत्पादन या रासायनिक युद्धक विषैले एजेंटों का शस्त्रीकरण किया गया.”

रासायनिक शस्त्र निरोधक संगठन के सचिवालय ने सीरिया से, इन एजेंटों के प्रकार और गुणवत्ता व उन्हें हथियारों में तब्दील किये जाने के बारे में सटीक जानकारी मुहैया कराने का अनुरोध किया है, लेकिन सीरिया ने अभी इस बारे में कोई जानकारी मुहैया नहीं कराई है.

संयुक्त राष्ट्र की निरस्त्रीकरण उच्च प्रतिनिधि ने सीरिया से, संगठन सचिवालय के साथ पूर्ण सहयोग करने का आग्रह किया है.

साथ ही ये भी कहा है कि सीरिया के रासायनिक शस्त्र कार्यक्रम को पूरी तरह से ख़त्म किये जाने के बारे में अन्तरराष्ट्रीय समुदाय का विश्वास, इस पर निर्भर होगा कि संगठन को अनसुलझे मुद्दों को हल करके बन्द करने का मौक़ा मिले.

,

Leave a Reply

Your email address will not be published.