2021: पहली तिमाही में वैश्विक व्यापार में तेज़ सुधार, सेवा क्षेत्र में मन्दी बरक़रार

व्यापार एवँ विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) की नई रिपोर्ट दर्शाती है कि वैश्विक व्यापार, कोविड-19 महामारी के असर से तेज़ी से उबर रहा है. वर्ष 2021 की पहली तिमाही में सामान आधारित व्यापार का मूल्य, महामारी से पहले के स्तर को भी पार कर गया है, मगर सेवा क्षेत्र में कोरोनावायरस संकट का असर अभी जारी है.

बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2021 की पहली तिमाही में व्यापार में आए सुधार के लिये पूर्वी एशियाई अर्थव्यवस्थाओं का निर्यात क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन है.  

World trade’s recovery from the #COVID19 crisis hit a record high in the 1st quarter of 2021, increasing by 10% year-over-year, according to @UNCTAD’s latest Global Trade Update. https://t.co/yqrgTt7tDJ pic.twitter.com/B0oAM9hSix— UNCTAD (@UNCTAD) May 19, 2021

बताया गया है कि महामारी के असर को कम करने में, इन अर्थव्यवस्थाओं को शुरुआती सफलता मिली, जिसके
परिणामस्वरूप, उनके लिये तेज़ी से उबरना सम्भव हो पाया. साथ ही उन्हें कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों के लिये वैश्विक माँग में आई उछाल का भी लाभ मिला.
यूएन एजेंसी के अर्थशास्त्री अलेसान्द्रो निचिता ने कहा, “पिछली दो व्यापार मन्दियों से पुनर्बहाली की तुलना में महामारी की वजह से आई मन्दी से ज़्यादा तेज पुनर्बहाली दर्ज की गई है.”
उन्होंने कहा कि विश्व व्यापार में महामारी-जनित मन्दी की शुरुआत से, महामारी के पूर्व के स्तर तक लौटने में चार तिमाही का समय लगा है.
पाँचवी तिमाही – Q1 2021 – में वैश्विक व्यापार, कोरोनावायरस संकट से पहले के स्तर की तुलना में अधिक हो गया है.
वर्ष 2019 की चौथी तिमाही की तुलना में तीन फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है.
रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2021 की पहली तिमाही में सामान आधारित व्यापार का मूल्य, महामारी के पहले के स्तर से अधिक है. मगर, सेवा आधारित व्यापार अभी औसत से कहीं कम है.
“कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों में वैश्विक व्यापार में, तिमाही के दौरान मज़बूती बनी रही.”
विश्व की कुछ बड़ी व्यापारिक अर्थव्यवस्थाओं में आयात और निर्यात सम्बन्धी रूझान दर्शाते हैं कि कुछ अपवादों को छोड़कर, मुख्य अर्थव्यवस्थाओं में व्यापार वर्ष 2020 में आई गिरावट से उबर गया है.
हालांकि इस बढ़ोत्तरी के लिये, 2020 में व्यापार के निचले स्तर को ज़िम्मेदार बताया गया है. अनेक बड़ी अर्थव्यवस्थाओ में व्यापार अब भी वर्ष 2019 के औसत से कम है.
रिपोर्ट के मुताबिक चीन, भारत और दक्षिण अफ़्रीका का प्रदर्शन, वर्ष 2021 की पहली तिमाही में, अन्य बड़ी अर्थव्यवस्थों की तुलना में बेहतर रहा है.
विषमतापूर्ण पुनर्बहाली
विशेषकर, चीन से होने वाले निर्यात में ना सिर्फ़ 2020 के औसत, बल्कि महामारी के स्तर के पहले की तुलना में भी  मज़बूत बढ़ोत्तरी हुई.
इसके विपरीत, रूस से होने वाला निर्यात 2019 के औसत से कम ही रहा है.
रिपोर्ट के मुताबिक व्यापार में होने वाली पुनर्बहाली असमान है, विशेष रूप से विकासशील देशों में. पूर्वी एशिया में निर्यात क्षेत्र में तेज़ सुधार दिखाई दिया है.
रिपोर्ट दर्शाती है कि संक्रमणकाल से गुज़र रहे देशों की अर्थव्यवस्थाओं के लिये Q1 2021 में निर्यात का मूल्य, औसत से कम रहा – मध्य पूर्व, दक्षिण एशिया और अफ़्रीका में.
दक्षिण अमेरिका के निर्यात में Q1 2020 की अपेक्षा बढ़ोत्तरी हुई, 2019 के स्तर से अभी वो नीचे है.
Q1 2021 में व्यापार में आई तेज़ी, महज़ कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों, जैसेकि औषधि, संचार, कामकाज के लिये ज़रूरी सामग्री तक सीमित नहीं है. खनिज और कृषि-भोजन में भी बेहतरी दर्ज की गई है.
मगर ऊर्जा क्षेत्र अभी पीछे है और परिवहन उपकरणों में अन्तरराष्ट्रीय व्यापार भी औसत से कम नज़र आ रहा है.
रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि व्यापार में वर्ष 2021 में सुधार आगे भी जारी रहेगा और साल की दूसरी छमाही में मज़बूती बनी रहेगी. , व्यापार एवँ विकास पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCTAD) की नई रिपोर्ट दर्शाती है कि वैश्विक व्यापार, कोविड-19 महामारी के असर से तेज़ी से उबर रहा है. वर्ष 2021 की पहली तिमाही में सामान आधारित व्यापार का मूल्य, महामारी से पहले के स्तर को भी पार कर गया है, मगर सेवा क्षेत्र में कोरोनावायरस संकट का असर अभी जारी है.

बुधवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2021 की पहली तिमाही में व्यापार में आए सुधार के लिये पूर्वी एशियाई अर्थव्यवस्थाओं का निर्यात क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन है.  

World trade’s recovery from the #COVID19 crisis hit a record high in the 1st quarter of 2021, increasing by 10% year-over-year, according to @UNCTAD’s latest Global Trade Update. https://t.co/yqrgTt7tDJ pic.twitter.com/B0oAM9hSix

— UNCTAD (@UNCTAD) May 19, 2021

बताया गया है कि महामारी के असर को कम करने में, इन अर्थव्यवस्थाओं को शुरुआती सफलता मिली, जिसके

परिणामस्वरूप, उनके लिये तेज़ी से उबरना सम्भव हो पाया. साथ ही उन्हें कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों के लिये वैश्विक माँग में आई उछाल का भी लाभ मिला.

यूएन एजेंसी के अर्थशास्त्री अलेसान्द्रो निचिता ने कहा, “पिछली दो व्यापार मन्दियों से पुनर्बहाली की तुलना में महामारी की वजह से आई मन्दी से ज़्यादा तेज पुनर्बहाली दर्ज की गई है.”

उन्होंने कहा कि विश्व व्यापार में महामारी-जनित मन्दी की शुरुआत से, महामारी के पूर्व के स्तर तक लौटने में चार तिमाही का समय लगा है.

पाँचवी तिमाही – Q1 2021 – में वैश्विक व्यापार, कोरोनावायरस संकट से पहले के स्तर की तुलना में अधिक हो गया है.

वर्ष 2019 की चौथी तिमाही की तुलना में तीन फ़ीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है.

रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2021 की पहली तिमाही में सामान आधारित व्यापार का मूल्य, महामारी के पहले के स्तर से अधिक है. मगर, सेवा आधारित व्यापार अभी औसत से कहीं कम है.

“कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों में वैश्विक व्यापार में, तिमाही के दौरान मज़बूती बनी रही.”

विश्व की कुछ बड़ी व्यापारिक अर्थव्यवस्थाओं में आयात और निर्यात सम्बन्धी रूझान दर्शाते हैं कि कुछ अपवादों को छोड़कर, मुख्य अर्थव्यवस्थाओं में व्यापार वर्ष 2020 में आई गिरावट से उबर गया है.

हालांकि इस बढ़ोत्तरी के लिये, 2020 में व्यापार के निचले स्तर को ज़िम्मेदार बताया गया है. अनेक बड़ी अर्थव्यवस्थाओ में व्यापार अब भी वर्ष 2019 के औसत से कम है.

रिपोर्ट के मुताबिक चीन, भारत और दक्षिण अफ़्रीका का प्रदर्शन, वर्ष 2021 की पहली तिमाही में, अन्य बड़ी अर्थव्यवस्थों की तुलना में बेहतर रहा है.

विषमतापूर्ण पुनर्बहाली

विशेषकर, चीन से होने वाले निर्यात में ना सिर्फ़ 2020 के औसत, बल्कि महामारी के स्तर के पहले की तुलना में भी  मज़बूत बढ़ोत्तरी हुई.

इसके विपरीत, रूस से होने वाला निर्यात 2019 के औसत से कम ही रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक व्यापार में होने वाली पुनर्बहाली असमान है, विशेष रूप से विकासशील देशों में. पूर्वी एशिया में निर्यात क्षेत्र में तेज़ सुधार दिखाई दिया है.

रिपोर्ट दर्शाती है कि संक्रमणकाल से गुज़र रहे देशों की अर्थव्यवस्थाओं के लिये Q1 2021 में निर्यात का मूल्य, औसत से कम रहा – मध्य पूर्व, दक्षिण एशिया और अफ़्रीका में.

दक्षिण अमेरिका के निर्यात में Q1 2020 की अपेक्षा बढ़ोत्तरी हुई, 2019 के स्तर से अभी वो नीचे है.

Q1 2021 में व्यापार में आई तेज़ी, महज़ कोविड-19 सम्बन्धी उत्पादों, जैसेकि औषधि, संचार, कामकाज के लिये ज़रूरी सामग्री तक सीमित नहीं है. खनिज और कृषि-भोजन में भी बेहतरी दर्ज की गई है.

मगर ऊर्जा क्षेत्र अभी पीछे है और परिवहन उपकरणों में अन्तरराष्ट्रीय व्यापार भी औसत से कम नज़र आ रहा है.

रिपोर्ट में अनुमान जताया गया है कि व्यापार में वर्ष 2021 में सुधार आगे भी जारी रहेगा और साल की दूसरी छमाही में मज़बूती बनी रहेगी. 

,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES