HindiJharkhand NewsNewsPolitics

अभाविप की 76 वर्षों की यात्रा भारत के विकास में योगदान की यात्रा रही है : आशीष चौहान

रांची, 10 जुलाई । अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) रांची महानगरकी ओर से अभाविप के 76 वें स्थापना दिवस के अवसर पर बुधवार को डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के ‘मुख्य सभागार’ में ‘तकनीक के नए परिदृश्य में शिक्षा तथा युवा’ विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। देश-भर में अभाविप के स्थापना दिवस को राष्ट्रीय विद्यार्थी दिवस के रूप में मनाया जाता है।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री आशीष चौहान ने कहा कि अभाविप की 76 वर्षों की यात्रा भारत के विकास में योगदान की यात्रा रही है। ‘ज्ञान, शील, एकता’ ध्येय वाक्य के साथ कार्य करने वाले अभाविप कार्यकर्ताओं ने सदैव ही राष्ट्र प्रथम भावना के साथ कार्य किया है। तकनीक का उचित प्रयोग शिक्षा अनुभव को अधिक प्रभावी बनाने वाला है। तकनीकी उपकरणों का प्रयोग करके प्रोजेक्ट आधारित शिक्षा और अनुरूपण के माध्यम से छात्रों को व्यवहारिक अनुभव प्राप्त हो रहा है। तकनीकी प्लेटफॉर्म्स कैरियर परामर्श और मार्गदर्शन में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं जिससे युवाओं को सही करियर पथ चुनने में मदद मिलती है। तकनीक के नए परिदृश्य में डेटा सुरक्षा डिजिटल विभाजन और मानसिक स्वास्थ्य जैसे चुनौतियों का समाधान करना आवश्यक है ताकि शिक्षा और युवा विकास को सकारात्मक दिशा में आगे बढ़ाया जा सके।
मौके पर अभाविप के राष्ट्रीय महामंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ला ने कहा कि अभाविप आज भारत के प्रत्येक परिसर में मौजूद है और व्यक्तित्व निर्माण से राष्ट्र पुनर्निर्माण के ध्येय को लेकर काम कर रही है। देश के लिए आगामी 25 वर्ष महत्वपूर्ण है। युवा देश की दिशा तय करेंगे। तकनीक के माध्यम से ऑनलाइन शिक्षा का विस्तार हुआ है। तकनीक ने ऑनलाइन शिक्षा को व्यापक रूप से स्वीकार्य और सुलभ बनाया है जिससे विद्यार्थी किसी भी समय और कहीं भी शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं। इंटरनेट के माध्यम से विद्यार्थियों को शैक्षणिक पुस्तक के शोध पत्र और अन्य शैक्षणिक संसाधनों तक आसान पहुंच प्राप्त हुई है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो तपन शांडिल्य ने कहा कि परिषद की कार्यशैली भारतीय समाज की कार्यशैली के अनुरूप सकारात्मक दिशा की ओर कार्य कर रही है। एआई और मशीन लर्निंग तकनीक का उपयोग छात्रों की प्रगति की निगरानी और उनके लिए व्यक्तिगत शिक्षा योजनाएं बनाने में किया जा रहा है।
महानगर अध्यक्ष डॉ उमेश कुमार ने स्वागत भाषण दिया। कार्यक्रम में झारखंड प्रदेश अध्यक्ष डॉ दीप नारायण जायसवाल, महानगर अध्यक्ष डॉ उमेश कुमार एवं महानगर मंत्री ऋतुराज सहदेव सहित अन्य अतिथियों ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। मंच संचालन विभाग की प्रदेश सह मंत्री दिशा दित्या ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *