Ashok Gehlot : सभी विभाग सहयोग एवं समन्वय से कार्य करें ताकि निवेश धरातल पर उतरें : गहलोत

जयपुर, 04 जनवरी : राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोविड की विषम परिस्थितियों से प्रभावित अर्थव्यवस्था को गति देने के साथ ही निवेश एवं रोजगार बढ़ाने में इन्वेस्ट राजस्थान समिट महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी।
श्री गहलोत सोमवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित बैठक में जयपुर के सीतापुरा स्थित जयपुर एक्जीबिशन एंड कन्वेंशन सेंटर (जेईसीसी) में 24-25 जनवरी को आयोजित होने वाली स्टेट इन्वेस्टर समिट ‘इन्वेस्ट राजस्थान 2022‘ की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि सभी विभाग पूर्ण सहयोग एवं समन्वय की भावना से कार्य करें, ताकि अभी तक जो निवेश प्रस्ताव आए हैं वे धरातल पर उतरें। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन सालों में राज्य सरकार ने कई महत्वपूर्ण नीतिगत फैसले लिए हैं, जिससे राजस्थान में निवेश के लिए सकारात्मक माहौल तैयार हुआ है। राज्य सरकार के इन फैसलों का लाभ समिट के दौरान मिले, यह सुनिश्चित किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि समिट की तैयारियां अच्छी हों एवं निवेशकों को विभिन्न स्वीकृतियां प्राप्त करने में आसानी हो, यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने 15 जनवरी तक सम्बन्धित विभागाें से जुड़े एमओयू एवं एलओआई करने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि अभी तक जो एमओयू एवं एलओआई किए गए हैं, उनकी क्रियान्विती समयबद्ध रूप से हो। उन्होंने जिला स्तर पर निवेशकों के साथ एमओयू एवं एलओआई के सफल प्रयोग की सराहना की और कहा कि उद्योगों के लिए जमीन आवंटन के मामले में राजस्व विभाग प्रो-एक्टिव होकर कार्य करे। उन्होंने कहा कि निवेशकाें को विभिन्न स्वीकृतियां मिलने में परेशानी नहीं हो। साथ ही, जिला कलेक्टर के स्तर पर निवेश के प्रस्तावों के जुड़ी प्रक्रिया समय पर पूरी की जाए तथा कलेक्टर के माध्यम से आने वाले निवेश प्रस्तावों की पर्याप्त मॉनिटरिंग हो।

श्री गहलोत ने कहा कि समिट के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग एवं अन्य कोविड प्रोटोकॉल की पालना का ध्यान रखा जाए। उन्होंने इस समिट को वर्चुअल मोड पर भी रखने के निर्देश दिए ताकि अधिक से अधिक निवेशक एवं उद्यमी वर्चुअली भी जुड़ सकें।
बैठक में उद्योग विभाग के सचिव आशुतोष एटी पेडनेकर ने बताया कि अभी तक 6 लाख 16 हजार 462 करोड़ रूपए के कुल एक हजार 454 एमओयू /एलओआई हो चुके हैं, जिनके माध्यम से 4 लाख से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा। समिट के उद्घाटन सत्र में राजस्थान पैट्रो जोन (पीसीपीआईआर), रिडको, फिनटैक पार्क, नए औद्योगिक जोन एवं नए औद्योगिक क्षेत्रों की लॉचिंग होगी। साथ ही निवेश को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार की करीब 13 नई नीतियां लॉन्च की जाएंगी।

श्री पेडनेकर ने बताया कि समिट की पूर्व तैयारियों के तहत पिछले दो माह में देश एवं देश से बाहर संभावित निवेशकों से संपर्क किया गया है। नवंबर माह में दुबई एक्सपो के दौरान दुबई में इन्वेस्टर कनेक्ट कार्यक्रम के साथ ही नए निवेशकों को आमंत्रित करने के लिए चैन्नई, अहमदाबाद, दिल्ली, मुंबई, बैंगलुरू, हैदराबाद एवं कोलकाता में भी कार्यक्रम आयोजित किये गए।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *