अशोक गहलोत ने सोनिया गांधी पर छोड़ा मुख्यमंत्री का फैसला, अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ने से किया इनकार

नई दिल्ली। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री कौन रहेगा, इसका निर्णय सोनिया गांधी के हाथ में है। इसके साथ ही वह कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात करने के बाद फैसला लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से बातचीत की। दो दिन पहले जो कुछ भी हुआ उसने हमें झकझोर कर रख दिया। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष पद की रेस में दिग्विजय सिंह अब शामिल हो गए हैं। दिग्विजय सिंह ने कहा कि अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए कल नामांकन करेंगे। वह आज नामांकन पत्र लेने पहुंचे और उन्होंने कहा, ‘इसे कल दाखिल करूंगा।’प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सूरत में आज 3,400 करोड़ रुपये से अधिक की विभिन्न परियोजनाओं की आधारशिला रखी और उन्हें समर्पित किया। केंद्र सरकार द्वारा PFI और उसके सहयोगियों को पांच वर्षों के लिए बैन किए जाने के बाद, अब कई राज्यों ने इस पर एक्शन लिया है। तमिलनाडु, केरल और महाराष्ट्र सरकार ने इसे गैरकानूनी घोषित करने का आदेश जारी किया है।

अशोक गहलोत ने कहा, मैं कोच्चि में राहुल गांधी से मिला और उनसे कांग्रेस अध्यक्ष के लिए चुनाव लड़ने का अनुरोध किया। जब उन्होंने स्वीकार नहीं किया, तो मैंने कहा कि मैं चुनाव लड़ूंगा लेकिन अब उस घटना के बाद मैंने चुनाव नहीं लड़ने का फैसला किया है। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि मुख्यमंत्री कौन रहेगा, इसका निर्णय सोनिया गांधी के हाथ में है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं लड़ेंगे। उन्होंने सोनिया गांधी से मुलाकात करने के बाद फैसला लिया।

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *