HindiJharkhand NewsNewsPolitics

ज्ञानव्यापी मस्जिद पर टिप्पणी से घिरे असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा

आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन को लेकर शुरू हुई जांच

रामगढ़, 19 मई । ज्ञानव्यापी मस्जिद में मंदिर बनाने की बात को लेकर असम के मुख्यमंत्र हिमंत बिस्वा सरमा विवाद में घिर गए हैं। उनके खिलाफ आदर्श आचार संहिता का मामला दर्ज हो सकता है। रामगढ़ जिला प्रशासन ने इस पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है।

15 मई को हिमंत बिस्वा सरमा रामगढ़ जिले के रजरप्पा सीसीएल ग्राउंड में भाजपा उम्मीदवार मनीष जायसवाल के पक्ष में चुनावी जनसभा को संबोधित करने आए हुए थे। इस दौरान उन्होंने नरेंद्र मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाने की बात कही। साथ ही उन्होंने कहा कि जब 300 सीटें मिली थी तो राम मंदिर बना। अब हमें इतने से ही संतोष नहीं करना है। जब 400 सीटें भाजपा को मिलेंगी, तब श्री कृष्ण जन्मभूमि भी बनेगा, ज्ञानव्यापी मस्जिद में मंदिर बनेगा और पाक अधिकृत कश्मीर भी भारत में शामिल हो जाएगा। उनका यह बयान काफी वायरल हुआ था।

मीडिया में इस बयान की वजह से असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा काफी चर्चे में रहे थे। अब यह मुद्दा चुनाव आयोग तक पहुंच गया है। इस पूरे मामले की जांच शुरू हो गई है। रामगढ़ डीसी चंदन कुमार ने बताया कि जिला प्रशासन उस बयान की पुष्टि के लिए 15 मई को रजरप्पा सीसीएल ग्राउंड में हुई जनसभा की वीडियो रिकॉर्डिंग खंगाल रही है। इस बयान की पुष्टि होती है, तो चुनाव आयोग के निर्देश के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *