Bangladesh Update : बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ भड़की हिंसा में और दो की हत्या, मरने वालों की संख्या 6 हुई

ढाका : बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। आज सुबह कुछ मंदिरों में तोड़-फोड़ की सूचना थी, अब जानकारी मिल रही है कि हिंसा में हमलावरों ने दो हिंदू युवकों की हत्या कर दी गई। पुलिस अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि धार्मिक हिंसा में मरने वालों की संख्या अब तक 6 हो गई है। आरोपियों की तलाश की जा रही है।

बांग्लादेश पुलिस ने बताया कि ताजा हिंसा दक्षिणी शहर बेगमगंज में हुई है। इससे पहले सैंकड़ों की संख्या में बाहुल्य समुदाय के लोगों ने दुर्गा पूजा के अंतिम दिन शुक्रवार की नमाज के बाद सड़क पर जुलूस निकाला। इस दौरान 200 से अधिक प्रदर्शनकारियों ने इस्कॉन मंदिर पर हमला किया हमला उस वक्त हुआ जब हिंदु समुदाय के लोग विजयदशमी पर रैली आयोजित करने वाले थे। अज्ञात हमलावरों ने मंदिर समिति के एक कार्यकारी सदस्य को पीटा और उसे चाकू घोंप दिया।

स्थानीय पुलिस प्रमुख शाहिदुल इस्लाम ने एएफपी को बताया कि शनिवार की सुबह मंदिर के बगल में एक तालाब के पास एक और हिंदू व्यक्ति का शव मिला है। उन्होंने कहा, “कल के हमले के बाद से दो लोगों की मौत हो गई है। हम हमलावरों की तलाश कर रहे हैं।”

बता दें कि बीते कुरान के कथित अपमान के बाद बांग्लादेश में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा बढ़ती जा रही है। पहले बीते बुधवार रात को हाजीगंज में एक हिंदू मंदिर पर 500 हमलावरों ने हमला कर दिया। इस बीच मंदिर में तोड़-फोड़ की गई। इस घटना में चार लोगों की मौत हुई। वहीं, आज सुबह पुलिस ने दो और हिंदु युवकों के शव बरामद किए हैं। जिसके बाद मरने वालों की संख्या 6 हो गई है। इसके अलावा देशभर में हिंदुओं के खिलाफ चल रही हिंसा में 150 से अधिक हिंदू समुदाय के लोग जख्मी हैं।

बीते शुक्रवार को भी राजधानी ढाका में हिंसा भड़क गई। जिसके बाद पुलिस को मुस्लिम प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस और रबर की गोलियां दागनी पड़ी। हिंसा को फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट सेवाओं को बंद कर दिया गया है। बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना ने नेताओं से मुलाकात की। साथ ही लोगों से शांति की अपील की है। वहीं, गृह मंत्री असदुज्जमां खान ने कहा, “अब तक हिंसा में करीब 90 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। हम सभी मास्टरमाइंडों का भी पता लगा रहे हैं।”

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *