बिहार : जनता के दरबार में 50 फरियादियों की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुनी समस्याएं

पटना, 08 अगस्त । मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सोमवार को ‘जनता के दरबार में राज्य के विभिन्न जिलों से आये 50 लोगों की समस्याओं को सुना।जनता के दरबार में मुख्यमंत्री’ कार्यक्रम में बेगूसराय से आए एक युवक ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि विकास मित्र के चयन प्रक्रिया में अनियमितता हुई है। मेधा सूची में प्रथम आने के बाद भी बिना आवेदन किए हुए व्यक्ति को नियुक्ति पत्र दे दिया गया। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया |

रोहतास से आए एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री से पंचायत शिक्षा मित्र की बहाली में अनियमितता की शिकायत की तो वहीं कटिहार से आयी एक दिव्यांग महिला ने आंगनबाड़ी सेविका के चयन में अनियमितता की शिकायत की। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

समस्तीपुर से आयी एक महिला ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि वर्ष 2021 में कोरोना से उनके पिता की मृत्यु हो गई लेकिन अब तक मुआवजे की राशि नहीं मिली है। वहीं शेखपुरा से आयी एक महिला ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि उनके पति का कोरोना संक्रमण के कारण वर्ष 2021 में पटना के एनएमसीएच में मृत्यु हो गई थी । सरकार द्वारा मिलनेवाली मुआवजे की राशि अब तक नहीं मिल पायी है। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

भोजपुर जिला के जगदीशपुर केके मंडल कॉलेज से आयी छात्रा ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मैं वर्ष 2020 में स्नातक कर चुकी हूं लेकिन अब तक हमें प्रोत्साहन राशि नहीं मिली है। वहीं भागलपुर के गोपालपुर से आए एक युवक ने बताया कि वर्ष 2016 में मैट्रिक उत्तीर्ण करने के बाद भी अब तक मुख्यमंत्री छात्रवृत्ति योजना की राशि नहीं मिल पायी है। मुख्यमंत्री ने शिक्षा विभाग को उचित कार्रवाई का निर्देश दिया।

सीवान से आए एक युवक ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि मेरे भाई की नगर निगम की गाड़ी से दुर्घटना में मृत्यु हो गई थी, लेकिन अब तक किसी प्रकार का मुआवजा नहीं मिला है। मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारी से उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

बक्सर जिला के सिमरी से आए एक व्यक्ति ने अपने गांव में अतिरिक्त स्वास्थ्य केंद्र के निर्माण में विलंब होने की शिकायत की। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

पटना के पुनपुन से आए एक दिव्यांग राज्यस्तरीय खिलाड़ी ने मुख्यमंत्री से गुहार लगाते हुए कहा कि उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है, उन्हें तीरंदाजी खेल के लिए आधुनिक प्रशिक्षण दिलाने की सुविधा प्रदान की जाए। मुख्यमंत्री ने कला, संस्कृति एवं युवा विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

मोतिहारी से आए एक व्यक्ति ने राष्ट्रीय पोषण मिशन के अंतर्गत प्रखंड समन्वयक की बहाली में अनियमितता की शिकायत की। वहीं किशनगंज के ठाकुरगंज में ऊर्दू विषय के स्नातक कोटि में शिक्षक नियोजन में अनियमितता की शिकायत की। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को समुचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

सीतामढ़ी के सोनबरसा से आए एक व्यक्ति ने बाढ़ राहत का पैसा उनकी जगह दूसरे के खाते में भेजे जाने की शिकायत की। मुख्यमंत्री ने संबंधित विभाग को उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया।

उल्लेखनीय है कि आज ‘जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम में सामान्य प्रशासन विभाग, स्वास्थ्य विभाग, शिक्षा विभाग, समाज कल्याण विभाग, पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, वित्त विभाग, संसदीय कार्य विभाग, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग, विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग, सूचना प्रावैधिकी विभाग, कला, संस्कृति एवं युवा विभाग, श्रम संसाधन विभाग तथा आपदा प्रबंधन विभाग से संबंधित मामलों की सुनवाई हुयी ।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.