Bihar Election: हमारा काम पसंद है तो मौका दीजिये, नहीं तो फैसला आपका: नीतीश कुमार

  • -जदयू के चुनाव अभियान का हो गया आगाज
  • -बिना नाम लिए विपक्ष पर साधा निशाना, पूछा- क्या दलितों का उत्थान नहीं चाहता विपक्ष
  • -युवाओं से कहा, हर किसी को नहीं मिलती सरकारी नौकरी

पटना, 12 अक्टूबर । बिहार विधानसभा चुनाव के लिए जदयू की ओर से सोमवार को चुनाव अभियान का आगाज कर दिया गया । अभियान की शुरुआत करते हुए जदयू अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने भाषण में विकास की चर्चा की और लालू-राबड़ी राज पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने दलितों की हत्या होने पर परिवार वालों को नौकरी देने का प्रावधान किया है। इस पर भी कुछ लोग सवाल उठा रहे हैं। क्या दलितों का उत्थान वह नहीं चाहते ? उन्होंने कहा कि हमें संविधान में जो अधिकार मिले थे, उसे नियम बनाकर लागू किया गया तो इसमें भी उनको परेशानी हो रही है। उन लोगों का वोट लेना ही मकसद है। आज तक तो वे लोग सिर्फ वोट लेकर बेवकूफ बनाते रहे हैं। हमारी सरकार महादलितों के लिए काम कर रही तो कुछ लोगों को परेशानी है। हम वोट की चिंता नहीं करते, सेवा ही हमारा धर्म है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजकल देख रहे हैं कि कुछ लोग बिहार के बारे में आर्टिकल लिख रहे हैं। लेकिन यह नहीं देख रहे कि हमारी विकास दर 10 प्रतिशत से अधिक है। यह सही है कि यहाँ कोई बड़ा उद्योग-धंधा नहीं लगा लेकिन छोटे स्तर पर कई उद्योग लगाए गए हैं। हमारे यहां ज्यादा बड़ा उद्योग नहीं लग सकता। हमलोगों ने काफी कोशिश की लेकिन बिहार में बड़े उद्योगपति नहीं आये। वे लोग समुद्री किनारे वाले राज्यों को पसंद करते हैं, लेकिन आजकल लोग कुछ भी बोलते रहते हैं। नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में लालू-राबड़ी राज पर बड़ा हमला बोला। उन्होंने कहा कि पहले कुछ काम होता था क्या ? पहले आपदा में क्या होता था? आज जो लोग बोल रहे हैं, उनके राज में कुछ होता था क्या? लिस्ट बनते ही रह जाता था, लेकिन पीड़ित परिवार को कुछ नहीं मिलता था। उन्होंने कहा कि हमारी जब सरकार आई तो हमने कह दिया कि सरकारी खजाने पर पहला हक आपदा पीड़ितों का है। बिहार में कोरोना संकट हो या फिर बाढ़ की स्थित , हर समय हमारी सरकार ने आपदा पीड़ितों की सेवा की है।

करीब एक घंटे के भाषण में नीतीश कुमार ने एक बार भी राजद नेता और महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव का नाम नहीं लिया। उन्होंने लालू प्रसाद और राबड़ी देवी के शासन काल के 15 साल की चर्चा कई बार की। नीतीश ने लोगों से कहा कि आप काम देखकर फैसला करिए, अगर हमरा काम पसंद है तो हमें फिर से मौका दीजिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता मालिक है। काम के आधार पर वोट दीजिए। हमारा काम पसंद है तो मौका दीजिए अगर काम पसंद नहीं है तो फैसला करने का अधिकार आपका है। पर इतना जान लीजिए कि दूसरे लोगों में दम नहीं है। वे लोग सिर्फ जुबान चलाते हैं।

हर किसी को सरकारी नौकरी कहां मिलती है भाई?
मुख्यमंत्री ने इस दौरान बिना नाम लिए नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के रोजगार देने के वादे पर व्यंग्य किया। उन्होंने कहा कि कुछ लोग बेरोजगारी पर बहुत बात करते हैं। कहते हैं कि कैबिनेट की मीटिंग कर इतना रोजगार दे देंगे। अरे भाई, पहले बताइये कि आपके परिवार के 15 साल के शासन में कभी कैबिनेट की मीटिंग होती थी क्या? और, दुनिया में कौन से देश में हर किसी को सरकारी नौकरी मिलती है? ये संभव है क्या? इसलिए कहते हैं, सचेत रहिए। इससे पहले उन्होंने रोजगार के आंकड़े बताते हुए कहा कि हमने पिछले 15 वर्षों में कुल 6,08,893 युवाओं को सरकारी नौकरी में भर्ती किया है। शिक्षकों में 3।98 लाख पद, पुलिस सेवाओं में 51, 241 पदों पर और विभिन्न अन्य सेवाओं में 1,59, 652 पदों पर नियुक्ति हुई है। लगभग 65 हजार पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने 15 साल के राजद शासनकाल के आंकड़े बताते हुए कहा कि तब 95,734 पदों पर भर्ती हुई। इनमें 10 सालों में नियुक्तियां तब के संयुक्त बिहार में हुई थीं , जिसमें झारखण्ड भी था।

जदयू ने की निश्चयी नीतीश अभियान की शुरुआत
जदयू ने बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर सोमवार को अपने ‘निश्चयी नीतीश अभियान’ की भी शुरूआत कर दी है। इस अभियान के अंतर्गत बिहार के युवाओं को पार्टी से डिजिटल माध्यम से जोड़ा जाएगा। सोमवार को जदयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व लोकसभा में जदयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने इस अभियान की शुरुआत की। निश्चयी नीतीश अभियान से जुड़ने के लिए ललन सिंह ने मोबाइल नंबर 85879-85879 भी जारी किया है। इस मोबाइल नम्बर पर पर मिस्ड कॉल देकर कोई भी जदयू से जुड़ सकता है। सांसद ललन सिंह ने ‘निश्चयी नीतीश अभियान’ की शुरुआत के साथ ही वोट फॉर नीतीश डाट कॉम (Votefornitish.com) पोर्टल भी लांच किया है। इसपर भी कोई अपनी जानकारी देकर जदयू से जुड़ सकता है। इस मौके पर ललन सिंह ने आह्वान किया कि 15 सालों में नीतीश कुमार ने बिहार के विकास के लिए जो काम किया है उसे बिहार के हर वर्ग के लोग नीतीश जी के डिजिटल साथी बन कर जन-जन तक पहुंचायंगे।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *