Bihar Election : महागठबंधन के लिए आसान नहीं है प्रत्याशियों का चयन करना

बेगूसराय, 19 सितम्बर। बेगूसराय जिले में महागठबंधन और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की डोर राज्य स्तर से ढीली नहीं हुई है। कौन सा दल कहां-कहां से चुनाव लड़ेगा, यह अभी तक स्पष्ट नहीं हुआ है। इस तस्वीर की धुंध साफ होने में अभी कुछ और समय लग सकता है। ऐसे में उम्मीदवारों की धड़कनें तेज होती जा रही हैंं। समीकरण रोज-रोज बदल रहे हैं, दावेदारी की रस्साकशी चरम पर है। जिले की सात सीटों को लेकर दोनों गठबंधनों के बीच अभी तक सीटों के बंटवारे को लेकर कोई मुकम्मल बात नहीं बन सकी है।

भाजपा से जुड़े सूत्रों के अनुसार जिले में भाजपा कम से कम तीन सीटों पर चुनाव लड़ेगी। इनमें बखरी, बेगूसराय और तेघड़ा या साहेबपुर कमाल में से एक सीट शामिल है। जदयू के सूत्रों के अनुसार एनडीए में जदयू तीन सीटों मटिहानी, चेरियाबरियारपुर और तेघड़ा या साहेबपुर कमाल में से एक सीट पर चुनाव लड़ सकती है। लोजपा भी तीन सीटों बछवाड़ा, साहेबपुर कमाल और चेरिया बरियारपुर पर दावेदारी कर रही है। कम से कम दो सीटों पर लोजपा मजबूत दावेदारी के साथ मैदान में प्रत्याशी उतारने की तैयारी में है। लेकिन मात्र सात सीट ही रहने के कारण हो सकता है कि अंत तक जिले में लोजपा को एक सीट ही मिले और वह हो बछवाड़ा या साहेबपुर कमाल।

महागठबंधन में कांग्रेस जिले की तीन सीटों बेगूसराय, बछवाड़ा और मटिहानी पर दावेदारी कर रही है। बेगूसराय और बछवाड़ा उसकी सीटिंग सीट है। मटिहानी में 2010 में कांग्रेस दूसरे स्थान पर रही थी। जिले में राजद बखरी और साहेबपुर कमाल की सीटिंग सीट के अलावा चेरिया बरियारपुर की सीट से चुनाव लड़ना चाहता है जबकि, सीपीआई के लिए महागठबंधन में तेघड़ा सीट छोड़ी जा सकती है‌। लेकिन, सीपीआई बखरी और बछवाड़ा सीट भी चाहती है जबकि, बखरी राजद और बछवाड़ा कांग्रेस की सीटिंग सीट है।

अब देखना यह होगा कि सीटों को लेकर अंतिम परिदृश्य गठबंधन में बंटवारे के बाद कैसा उभरता है या फिर कोई पेंच फंसता है। कांग्रेस और राजद के साथ जिले में सीपीआई के शामिल होने से महागठबंधन का वोट बैंक बढ़ सकता है और जिले के चार-पांच क्षेत्रों में यह एनडीए के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है जबकि, चेरिया बरियारपुर और साहेबपुल कमाल में राजद का आधार वोट बैंक मजबूत है। फिलहाल महागठबंधन के अंदर दलों की दावेदारी से घमासान मचा हुआ है।

यह कहना मुश्किल है कि यहां की सात सीट में से किस सीट पर महागठबंधन के किस दल का कौन प्रत्याशी होगा। सभी जगहों पर महागठबंधन के सभी दल तैयारी में हैं। ऐसे में किसी महागठबंधन के लिए सीट शेयरिंग और प्रत्याशी का चयन करना बहुत ही मुश्किल है। महागठबंधन के दलों में टिकट मिलने और टिकट कटवाने की होड़ लगी हुई है। जो हालात बने हुए हैं उसमें महागठबंधन में शामिल दलों के आलाकमान के लिए प्रत्याशी का चयन करना बहुत ही मुश्किल है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *