भाजपा कह रही-अल्पमत में है गहलोत सरकार, लागू हो राष्ट्रपति शासन

जयपुर, 26 सितंबर। राजस्थान कांग्रेस में नए मुख्यमंत्री के नाम तय करने को लेकर मचे सियासी बवाल के बीच भाजपा ने मौजूदा गहलोत सरकार को अल्पमत में बता कर प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है। गुलाबचंद कटारिया और उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ समेत अन्य नेताओं ने ट्वीट कर यह मांग की है।

नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कांग्रेस में चल रहे इस घटनाक्रम को मुख्यमंत्री की कुर्सी की लड़ाई बताया। कटारिया ने कहा कि कांग्रेस विधायकों की खींचतान पर हम नजरें जमाए हुए हैं और कांग्रेस जब पूरी तरह से टूटेगी तो फिर इस घटनाक्रम में हमारी भी एंट्री हो सकती है। कटारिया के अनुसार जब गहलोत समर्थित विधायकों ने अपना इस्तीफा विधानसभा अध्यक्ष को सौंप दिया है, तब यह साफ हो चुका है कि प्रदेश की सरकार अल्पमत में आ चुकी है। ऐसी स्थिति में राष्ट्रपति शासन लागू हो जाना चाहिए।

उप नेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने भी ट्वीट कर कहा कि जिनके इशारे पर त्यागपत्र देने का खेल चल रहा है, उसे जनता भली-भांति जानती है। उन्होंने लिखा कि इस्तीफे का खेल कर समय जाया न करें। अगर इस्तीफा देना ही है तो मंत्रिमंडल की बैठक बुलाकर विधानसभा भंग का प्रस्ताव राज्यपाल महोदय को तत्काल भेजें। राठौड़ ने कहा कि राजस्थान में मौजूदा राजनीतिक हालात राष्ट्रपति शासन की ओर इशारा कर रही है। राठौड़ ने लिखा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत आप नाटक क्यों कर रहे हो। मंत्रिमंडल के इस्तीफे के बाद अब देरी कैसी आप भी इस्तीफा दे दीजिए। राठौड़ ने इसके अलावा भी अलग-अलग ट्वीट कर कांग्रेस में चल रही इस जंग को अंतर्द्वंद का संघर्ष बताया।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ सतीश पूनियां ने भी मौजूदा घटनाक्रम को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कई ट्वीट किए। पूनियां ने लिखा कि रुझान आना प्रारंभ हो चुके हैं, जय भाजपा-तय भाजपा। एक अन्य ट्वीट में पूनियां ने लिखा कि इतनी अनिश्चितता तो भारत-ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट मैच में भी नहीं है, जितनी राजस्थान की कांग्रेस पार्टी में नेता को लेकर है। विधायकों की बैठकें अलग-अलग चल रही हैं। इस्तीफों का सियासी पाखंड चल रहा है, यह क्या राज चलाएंगे? कहां ले जाएंगे यह राजस्थान को, अब तो भगवान ही बचाए राजस्थान को।

भाजपा के वरिष्ठ नेता वासुदेव देवनानी ने इस घटनाक्रम पर ट्वीट करते हुए लिखा कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर गहलोत की राजस्थान में कांग्रेस तोड़ो शोभा यात्रा शुरू हो चुकी है। प्रदेश नेतृत्व और केंद्रीय नेतृत्व से कांग्रेस विधायकों की बगावत भारत जोड़ो यात्रा का प्रभावी असर राजस्थान में दिख रहा है।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *