Black fungus: इंजेक्शन लगाने के बाद बीमार हुए मरीज

उज्जैन, 07 जून। ब्लैक फंगस के उपचार के लिए करीब 300 रूपये कीमत वाले प्लेन इंजेक्शन को लगाने के बाद शहर के हॉस्पिटल्स में उपचार करवा रहे मरीजों को शनिवार रात्रि में कंपकपी आना, बुखार आना, चक्कर आना तथा किडनी में क्रेटिनीन की मात्रा बढ़ जाने की शिकायत आई। इस पर संबंधित ईएनटी डॉक्टर्स ने तत्काल इन इंजेक्शन को नहीं लगाने के निर्देश अपने हॉस्पिटल्स के पेरा मेडिकल स्टॉफ को दे दिए। यह मामला वहीं ठण्डा नहीं हुआ।

हॉस्पिटल्स के सूत्र बताते हैं कि रविवार को भी इस मामले में कुछ मरीजों की तबियत बिगड़ी और शहर के दो हॉस्पिटल्स में ऐसे मरीजों को आयसीयू में एडमिट किया गया। रविवार को उज्जैन के अलावा यह शिकायतें सागर,जबलपुर और इंदौर में भी आई। इसके बाद शासन-प्रशासन चौंका। हालांकि प्रशासन ने पूरे मामले में चुप्पी साध ली, लेकिन परदे के पिछे कागजी कार्रवाई करते हुए प्रदेश सरकार को भी मामले से अवगत करवाया। ताजा स्थिति यह है कि जिन मरीजों को उक्त इंजेक्शन से रिएक्शन हुआ, तबियत खराब हुई। उनकी हालत में बहुत अधिक सुधार नहीं है। सूत्र बताते हैं कि अब उनका रिएक्शन खत्म करने की दिशा में डॉक्टर्स जुटे हुए हैं।

ब्लैक फंगस के उपचार के लिए एंटी फंगस इंजेक्शन एम्फोटेरेसिन-बी जोकि साढ़े 7 हजार रूपये का एक आता है, उज्जैन में मरीजों को लगाए जा रहे थे। इस इंजेक्शन की आपूर्ति शनिवार को एक दिन के लिए रूकी। शनिवार को इसकी जगह एफीटेरेसिन-बी 50 एमजी नामक इंजेक्शन इंदौर से आए। उज्जैन को 200 वायल मिली जो ब्लेक फंगस का उपचार करनेवाले हॉस्पिटल्स को इश्यु किए गए। करीब 300 रूपये प्रति इंजेक्शन कीमत थी। ये इंजेक्शन लगने के बाद शनिवार रात्रि में मरीजों में रिएक्शन देखने को मिली। रिएक्शन देखने के बाद डॉक्टर्स ने इन इजेक्शन को लगाना बंद कर दिया और ड्रग इंस्पेक्टर को शिकायत की।

हमने ड्रग इंस्पेक्टर को शिकायत की और इंजेक्शन हटा दिए: डॉ.वैद्य
आर डी गार्डी मेडिकल कॉलेज और चेरीटेबल हॉस्पिटल में ब्लैक फंगस का उपचार कर रहे डॉ.सुधाकर वैद्य ने बताया कि शनिवार को रिएक्शन सामने आने के बाद हमने रविवार को ऐसे प्रभावित मरीजों की विशेष केयर की। आज भी रिएक्शन का असर कायम है। किडनी पर भी असर दिखा है। हमने रविवार को ड्रग इंस्पेक्टर धर्मसिंह कुशवाह को सारी जानकारी दी और इंजेक्शन का बैच नम्बर भी दिया। हमने बचे हुए सारे इंजेक्शन हटा दिए हैं। रविवार को पुन: एम्फोटेरेसिन-बी इंजेक्शन आ गए। यह महंगे हैं लेकिन सुरक्षित है। रविवार रात्रि में यही लगाए गए। हमारी जानकारी के अनुसार ऐसे मामले सागर,जबलपुर,इंदौर में भी सामने आए हैं।

रूटिन रिएक्शन है…ऐसा होता ही है…अब हटा दिए हैं: ड्रग इंस्पेक्टर
जब इस संबंध में ड्रग इंस्पेक्टर धर्मसिंह कुशवाह से चर्चा की तो उन्होंने कहाकि डॉ.सुधाकर वैद्य ने शिकायत की थी। हमने वे इंजेक्शन बाजार से हटवा दिए हैं। वह प्लेन इंजेक्शन है,जिसको लेकर डॉक्टर्स को पता है कि उसका रिएक्शन होता ही है। उस इंजेक्शन की सप्लाय केवल शनिवार को हुई। 12 हजार 500 इंजेक्शन इंदौर आए थे। उज्जैन को 200 मिले थे,जो डिमांड अनुसार बांट दिए गए थे। पुन: एम्फोटेरेसिन-बी इंजेक्शन आ रहे हैं। वह महंगा है लेकिन सेफ है,यह बात भी डॉक्टर्स जानते हैं। हमने जिला प्रशासन को अवगत करवा दिया था।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Live Updates COVID-19 CASES