Black Money Of 150 Crore Unearth : 150 करोड़ का कालाधन कानपुर के समाजवादी इत्र बनाने वाले कारोबारी पीयूष जैन के घर: आईटी सूत्र

कानपुर। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबियों पर छापा मारने के बाद इनकम टैक्स विभाग ने गुरुवार को कानपुर में इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों पर रेड मारा था। सूत्रों के मुताबिक छापेमारी के दौरान आयकर विभाग ने करीब 150 करोड़ रुपए बरामद किए हैं। इन रुपयों के गिनती के लिए नोट गिनने की मशीनें मंगवाई गई थी। अब खबर आ रही है कि बरामद किए गए इतने बड़े रकम को ले जाने के लिए डीजीजीआई यानी डायरेक्टर जनरल ऑफ जीएसटी इंटेलिजेंस टीम मुंबई और गुजरात विंग ने 25 बक्से मंगवाए हैं। इन बक्सों में रुपये भर कर ले जाएगा। ये कार्रवाई आज यानी शुक्रवार की सुबह से ही जारी है। इस दौरान पीयूष जैन के ठिकानों के बाहर भारी पुलिस फोर्स की तैनाती है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पीयूष जैन कानपुर के एक बड़े इत्र कारोबारी हैं. वहीं पीयूष जैन के माता-पिता समाजवादी पार्टी के नेता हैं और इन्होंने ही हाल ही सपा परफ्यूम भी लान्च किया था। इससे पहले समाजवादी पार्टी के कई नेताओं के ठिकानों पर आयकर विभाग वाराणसी टीम ने छापेमारी की थी। वहीं पीयूष जैन के कानपुर शहर के जूही थाना स्थित आनंदपुरी में आवास पर आयकर विभाग के अधिकारियों ने छापेमारी की है. साथ ही उनके कन्नौज के स्थित ठिकानों पर भी रेड पड़ा है।

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 से पहले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के करीबी नेताओं के यहां पर आयकर विभाग की छापेमारी हुई थी। सपा नेता जैनेंद्र यादव नीतू, कारोबारी राहुल भसीन और सपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव राय सहित दर्जन भर से अधिक नेताओं के आवास पर आयकर विभाग ने रेड मारी थी। आयकर विभाग की इस छापेमारी पर सपा नेताओं ने कहा था कि उनके यहां से रेड के दौरान कुछ भी नहीं मिला है. हालांकि अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि आईटी की रेड में सपा नेताओं के यहां से क्या बरामदगी हुई है।

  • कालाधन और प्रधानमंत्री मोदी के प्रयास

कालेधन की समाप्ति के लिए प्रधानमंत्री मोदी लगातार प्रयास करते हरे हैं और इसी कड़ी में उन्होंने देश में नोटबंदी भी कराई थी। लेकिन समय-समय पर इनकम टैक्स और ईडी के छापे जो देश के विभिन्न क्षेत्रों में चलाये जा रहे हैं उससे बेशुमार कालेधन की जमाखोरी का पर्दाफाश हो रहा है। आज जो पीयूष गोयल के यहां बेशुमार कालाधन निकल रहा है जिसको किसी एक राजनीतिक दल का संरक्षण प्राप्त है यह सिद्ध करता है कि देश के विभिन्न हिस्सों में बेशुमार कालाधन है और लोग इससे बाज नहीं आ रहे हैं। कालेधन के जमाखोरों को डर नहीं लगता और वो अपने हरकत से बाज नहीं आ रहें। वहीं प्रधानमंत्री मोदी कालेधन की देश में समाप्ति हो इस दिशा में जोरदार कदम उठाने से बाज नहीं आ रहे हैं। दोनों तरफ बाज नहीं आने की प्रतिद्धंदिता चल रही है। एक मुहिम देश को कालेधन से मुक्त कराकर देश की आर्थिक व्यवस्था का शुद्धिकरण करना है और दूसरी ओर आर्थिक व्यवस्था की देश में दुर्गति करनी है। इस संघर्ष में देश की जनता आर्थिक शुद्धिकरण के साथ है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *