Book “Kaun hai” Review : रहस्य व कौतूहल से भरपूर है, उपन्यास “कौन है?”

रहस्य व कौतूहल से भरपूर है दीपक कामी का लिखा उपन्यास “कौन है ?”

कहते है ना कि ”जैसा नाम वैसा काम”। यह मुहावरा प्रकाशित हुए नए ”उपन्यास— कौन है?” पर बिल्कुल फिट बैठता है। ”कौन है?” के रचयिता ”दीपक कामी” उभरते हुए युवा उपन्यासकार है।

इन्होने जिस तरह से सच्ची घटनाओं से प्रेरित होकर एक रहस्यमय दुनिया को अपने पहले ही उपन्यास मे रच कर उपन्यासकारों के बीच जिस तरीके से ”कौन है? को प्रस्तुत किया है। वह काबिले तारीफ है। पहले ही उपन्यास से उपन्यासकारों के बीच ”कौन है? के द्वारा तहलका मचाने वाले ”दीपक कामी” पेशे से पत्रकार है। जैसा इस उपन्यास का नाम है, बिल्कुल उसी तरह यह रहस्य व कौतूहल से भरपूर है।

युवा उपन्यासकार अंत तक पाठक को बांधे रखने में सफल रहे है। इस लिहाज से उपन्यास अपने नाम के मुताबिक पाठकों की उम्मीद पर बिल्कुल खरा उतरा है। लेखन शैली में इनकी पत्रकारिता के अनुभव का निचोड़ दिखता है। कहानी रुचिकर होने के साथ ही यह दिलो-दिमाग़ पर छा जाती है। उपन्यास को पढ़ते हुए आप खुद को उसी दुनिया में पाते है जो उपन्यासकार ने गढ़ी है। कहानी के रूप में यह एक अभिनव प्रयोग है। यदि आप एक नए प्रयोग के रूप में इस पुस्तक को पढ़ना चाहेंगे तो निराशा नहीं होंगे। अपनी पहली ही कृति से ”दीपक कामी” ने साहित्य जगत में दमदार दस्तक दी है। उपन्यास प्रेमियों को उनका लिखा उपन्यास खूब भा रहा है।

युवा पत्रकार द्वारा लिखे गए उपन्यास को वरिष्ठ पत्रकारों एवं देश की जानी—मानी समाचार एजेंसी ”हिन्दुस्थान समाचार” के भाषायी (उर्दू/गुजराती/तेलगु/असमिया/नेपाली) संपादकों ने लेखन शैली को अद्भुत बताया है। उपन्यास की लेखन शैली व दृश्य गढ़ने की क्षमता इसे एक अलग ही मुकाम पर ले जाती है। उपन्यास की लेखन शैली ऐसी है कि दृश्य आंखों के सामने तैरते नजर आते है। कभी लगता है कि आप खुद ही कहानी का कोई पात्र जी रहे है, तो कभी “कौन है?” है कि तलाश में खुद ही एक सफर पर निकल पड़ते है। पात्र बिल्कुल सजीव लगते है। वहीं, खलनायक रहस्यमय पात्र खूब कौतूहल पैदा करता है। जिन दो शब्दों सस्पेंस व थ्रिलर का जिक्र किया गया है यह उपन्यास उस पर पूरी तरह खरा उतरा है।

पब्लिकेशन की दुनिया में बड़ा मुकाम हासिल कर चुके नोशन प्रेस से प्रकाशित और अमेज़न, फ्लिपकार्ट सहित कई प्लेटफार्म पर उपलब्ध उपन्यास की हजारों प्रतियां प्रकाशित होने के एक महीने के अंदर ही बिक चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *