HindiJharkhand NewsNewsPolitics

झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा की चिंतन मंथन बैठक सम्पन्न

6 सितंबर 2024 को आर्थिक नाकेबंदी करने का ऐलान

राज्यपाल व मुख्यमंत्री को जिला उपयुक्त व प्रखंड पदाधिकारी के माध्यम से पत्र प्रेषित करेंगे। गांव सभा, नुक्कड़ सभा, दीवार सभा व गांव गांव चर्चा करने, समता जजमेंट लागू करने करने को लेकर लोहरदगा व गुमला जिला में मशाल जुलूस करने का निर्णय

झारखंड आंदोलनकारियों को अपने अधिकारों की रक्षा के लिए हथियारबंद आंदोलन करना होगा- पुष्कर महतो

रांची- झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा की चिंतन मंथन बैठक झारखंड विधानसभा स्थित विधायक क्लब में हुई। बैठक की अध्यक्षता विदेशी महतो ने की।संचालन अली हसन अंसारी व स्वागत भाषण दिनेश राम ने किया। मौके पर वायु वृद्धि आंदोलनकारी अल्फ्रेड को शाल भेंट कर सम्मानित किया गया एवं झारखंड आंदोलन के अमर पुरोधा जयपाल सिंह मुंडा, विनोद बिहारी महतो, निर्मल महतो, ए के राय, व देवेंद्र मांझी के नाम पर वृक्षा रोपण विधानसभा परिसर में किया गया।
बैठक में 6 सितंबर 2024 को आर्थिक नाकेबंदी करने, राज्य के झारखंड को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग सहित झारखंड में हो रहे संवैधानिक मूल्यों का अवमानना, झारखंड आंदोलनकारियों के उनके संवैधानिक अधिकारों के तहत लाभ नहीं देने , राज्य में झारखंड आंदोलनकारी पार्टी की सरकार होने के बावजूद आंदोलनकारियों के अस्तित्व, अस्मिता, राजकीय मान सम्मान, अलग पहचान एवं सम्मान पेंशन राशि 50-50 हजार रु.के प्रति सरकार गंभीर नहीं होने के मुद्दे को लेकर को राज्यपाल व मुख्यमंत्री को जिला उपयुक्त व प्रखंड पदाधिकारी के माध्यम से पत्र प्रेषित करने का निर्णय लिया गया। गांव सभा, नुक्कड़ सभा, दीवार सभा व गांव गांव चर्चा करने, समता जजमेंट लागू करने करने को लेकर लोहरदगा व गुमला जिला में मशाल जुलूस निकालने का भी निर्णय लिया गया।
अध्यक्ष विदेशी महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों की उपेक्षा सरकार,माननीयों व राजनेताओं को मंहगा पड़ेगा। लुटेरों का पनाहगाह झारखंड को नहीं बनने देंगे।
झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा के संस्थापक व प्रधान सचिव पुष्कर महतो ने कहा कि झारखंड आंदोलनकारियों को आज अपने अधिकारों की रक्षा व झारखंड अलग राज्य के मूल्यों को स्थापित करने के लिए हथियारबंध्द आंदोलन करने की जरूरत पड़ी तो जरूर करेंगे। लड़े थे और एक और लडाई बाल बच्चों के अधिकारों की रक्षा, l जल जंगल जमीन झारखंड की अस्मिता एवं अस्तित्व की रक्षा के लिए लड़ेंगे ।
केंद्रीय उपाध्यक्ष जितेंद्र सिंह झारखंड आंदोलनकारियों की आवाज गांव-गांव गूंज उठी हैं लड़ेंगे, जीतेंगे, अपने अधिकारों को लेकर रहेंगे,शोषण जुल्म बर्दास्त नहीं करेंगे।

झारखंड आंदोलनकारी संघर्ष मोर्चा के , संयोजक भुवनेश्वर केवट, सरोजनी कच्छप , रोजलीन तिर्की, जिदन कोल, अनिता पाहन, किशोर खंडित, नेहा नवनीता, नंदलाल मेहता, रामजी भगत, बुधन कोल, विनय सिंह, बालकिशुन उरांव, मणिलाल मांझी, अयोध्या महतो, भरत महतो, दिवाकर साहू, दाऊद केरकेट्टा, आनंद सिंह, मस्कल्यान, अजीत प्रजापति, अर्जुन प्रजापति, सुबोध लकड़ा, महबूब अंसारी, कार्तिक महथा, नर्मेश्वर् पांडेय,
सुजात टोप्पो, सोमारी देवी, आर के झा, ठाकुर राम महतो,हाबु लाल गोराई, राजदेव महथा, रतिया इंदवार सहित अन्य उपस्थित थे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *