Cancer treatment without chemotherapy : बिना कीमोथेरेपी भी कैंसर के पीडि़त लोगों को मिलेगा जीवनदान, सेंट्रल यूनिवर्सिटी इवि के प्रोफेसर का शोध

प्रयागराज । लम्बे समय से कैंसर से पीडि़त लोगो के लिए इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी से राहत की बड़ी खबर है। यहां पर शोध करने वाले प्रोफेसर मुनीश पाण्डेय ने ऐसा तरीका खोजा है कि अब कैंसर सेल को मारने के लिए कीमो और रेडिएशन थेरेपी की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसके साथ ही लोगों को कीमो और रेडिएशन थेरेपी से होने वाले साइड इफेक्ट से भी बचाया जा सकेगा। इसके चूहों पर सफल प्रयोग के बाद मानव शरीर पर लागू करने की दिशा में प्रयास अब तेज किया जा रहा है।

इलाहाबाद केन्द्रीय विश्वविद्यालय में बायोकेमेस्ट्री विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा. मुनीश पाण्डेय ने अमेरिकी विज्ञानियों के साथ कैंसर के इलाज में कीमोथेरेपी और उन दवाओं का विकल्प खोज लिया है, जो कैंसर के इलाज के दौरान कैंसर सेल्स के साथ सामान्य सेल को भी नुकसान पहुंचाती हैं। डाक्टर मुनीश ने बताया कि यह सफल प्रयोग 11 विज्ञानियों की टीम ने अमेरिका के क्लेवलैंड क्लीनिक में किया। टीम का नेतृत्व क्लेवलैंड क्लीनिक में कैंसर बायोलाजी के प्रो. डाक्टर यांग ली ने किया। इस टीम ने चूहों पर प्रयोग करते हुए एमआइआर-21 को प्रभावहीन बनाने के लिए उसका एंटी सेंस चूहे में इंजेक्ट किया।

इसके बाद पाया गया कि चूहे के शरीर में बना ट्यूमर धीरे-धीरे छोटा हो गया। कुछ ट्यूमर तो पूरी तरह से खत्म हो गए। यह प्रयोग सालभर अमेरिका में चला। हालांकि, अभी मानव शरीर पर इसका प्रयोग नहीं हुआ है। पहले पायदान पर प्रयोग को सफलता मिलने के बाद अब मानव शरीर पर लागू करने की दिशा में प्रयास तेज कर दिया गया है। शोध औंको जीन नामक प्रतिष्ठित जर्नल में पब्लिशर नेचर स्प्रिंग की ओर से प्रकाशित किया गया है।

डा. मुनीश ने बताया कि कैंसर की बीमारी से शरीर में ट्यूमर बन जाते हैं। कीमोथेरेपी और दवाओं के जरिए इन ट्यूमर्स को खत्म किया जाता है। इलाज की इस प्रक्रिया में कैंसर सेल्स के साथ सामान्य सेल्स को भी नुकसान होता है। शरीर पर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। मरीज को भी काफी पीड़ा होती है। शोध के दाैरान टीम ने पाया कि माइक्रो आरएनए यानी एमआइआर-21 नार्मल सेल्स को खत्म करता है। इससे कैंसर सेल्स और प्रभावशाली हो जाती हैं।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *