Capt Amarinder Singh खट्टर के बयान ने खोली हरियाणा सरकार के किसान विरोधी एजेंडा की पोल

Insight Online News

चंडीगढ़, 30 अगस्त : पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने करनाल में किसानों पर लाठीचार्ज की घटना का बचाव किया और किसान आंदोलन का ठीकरा पंजाब के सिर पर फोड़ा।

कैप्टन ने यहां जारी बयान में कहा कि श्री खट्टर के बयान ने हरियाणा सरकार के किसान विरोधी एजंडा की पोल खोल दी है।

कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आंदोलन के पीछे पंजाब के होने के श्री खट्टर और हरियाणा के उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के आरोपों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कैप्टन ने दोनों को याद दिलाया कि किसानों पर जिस समय पुलिस ने लाठियां बरसाईं, वह भारतीय जनता पार्टी की एक बैठक का विरोध कर रहे थे, किसान हरियाणा से थे, पंजाब से नहीं।

पंजाब के मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के आक्रोश के लिए पूरी तरह से भाजपा जिम्मेवार है औैर संकट इस कदर नहीं गहराया होता अगर भाजपा ने किसानों की चिंताओं काे सुना होता।

उन्होंने श्री खट्टर के उस दावे को भी गलत बताया कि हरियाणा पुलिस ने तभी बलप्रयोग किया जब किसान कानून एवं व्यवस्था बिगाड़ रहे थे और एसडीएम के उस वायरल वीडियो का हवाला दिया जिसमें एसडीएम कथित रूप से पुलिस को किसानों के सिर फोड़ने का निर्देश दे रहे हैं। कैप्टन अमरिंदर ने सवाल किया, “एसडीएम कैसे जानते थे कि किसान पथराव आदि करने वाले हैं जैसा कि श्री खट्टर ने दावा किया है।“

मुख्यमंत्री ने कहा कि किसान अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं और उन्हें अपने व अपने परिवारों को बचाने के लिए पंजाब या किसी अन्य प्रदेश से उकसावे की जरूरत नहीं है।

कैप्टन ने कहा कि कोविड महामारी के बीच भाजपा नीत केंद्र सरकार के कृषि कानून लादने का विरोध देश भर के किसान कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि कानून रद्द करने से भाजपा का इंकार पार्टी और उसके नेतृत्व के निहित स्वार्थों को दर्शाता है, जो पूंजीपति मित्रों को आम आदमी से ऊपर रखते हैं।

उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन खत्म करने के लिए खट्टर सरकार की लगातार कोशिशों, किसानों के लिए विभिन्न भाजपा नेताओं की अभद्र बयानबाजी का खामियाजा पार्टी को भुगतना होगा।

मुख्यमंत्री ने यह भी दावा किया कि किसान आंदोलन दिल्ली सीमाओं पर जाने से पहले दो महीने पंजाब में चलता रहा लेकिन हिंसा की कोई घटना नहीं हुई और अब जब पंजाब के गन्ना किसानों ने आंदोलन किया तो लाठियां नहीं बरसाईं गई, उनसे बात कर मामला सुलझाया गया।

गन्ना किसानों के कैप्टन अमरिंदर को लड्डू खिलाने की श्री खट्टर की टिप्पणी पर कैप्टन ने श्री खट्टर से कहा, “आप कृषि कानून रद्द करवाएं, मैं आपको लड्डू खिलाऊंगा।“

कैप्टन अमरिंदर ने कहा कि वह और उनकी सरकार किसानों के साथ हैं और दिल्ली सीमाओं पर जान गंवाने वाले किसानों के परिजनों को मुआवजा व सरकारी नौकरी दे रहे हैं। उन्होंने भाजपा को चेतावनी दी कि जो सरकार या राजनीतिक दल अपनी आंखों के सामने किसानों की मौत होने दे रहे हैं, वह बच नहीं सकते इसलिए इससे पहले कि देर हो जाए भाजपा को अपना अहम त्यागकर ‘अन्नदाता‘ की चीखें सुननी चाहिए।

महेश, वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *