मवेशी तस्करी मामले में अणुव्रत मंडल को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

Insight Online News

कोलकाता, 11 अगस्त : पश्चिम बंगाल के बहुचर्चित मवेशी तस्करी मामले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बेहद खास बीरभूम जिले के तृणमूल अध्यक्ष और राज्य के सबसे विवादित नेता अणुव्रत मंडल को आखिरकार केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने गिरफ्तार कर लिया।

सीबीआई की टीम गुरुवार सुबह सुबह 12 गाड़ियों में केंद्रीय सशस्त्र बल (सीएपीएफ) के जवानों को लेकर जिले के बोलपुर स्थित मंडल के पैतृक आवास पहुंची। अणुव्रत मंडल के घर को चारों ओर से घेरकर अंदर से दरवाजा लॉक कर दिया गया। सीबीआई की टीम ने उनसे घर के अंदर ही पूछताछ शुरू की और जांच में सहयोग नहीं करने की वजह से उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें आज ही चिकित्सकीय जांच के बाद आसनसोल की विशेष सीबीआई कोर्ट में पेश किया जाएगा।

मवेशी तस्करी मामले में उन्हें सीबीआई ने 10 बार नोटिस भेजा था जबकि केवल एक बार हाजिर हुए थे। पिछले सोमवार को ही हाजिर होने को कहा गया था। वह बीरभूम से कोलकाता आए थे लेकिन सीबीआई दफ्तर जाने के बजाय एसएसकेएम अस्पताल चले गए थे। उन्होंने दावा किया था कि उनकी सेहत खराब है जबकि एसएसकेएम अस्पताल के डॉक्टर ने बताया था कि अस्पताल अधीक्षक के कहने पर उन्हें केवल सफेद कागज पर बेड रेस्ट लिख कर दिया गया था उनकी कोई चिकित्सकीय जांच नहीं हुई थी।

इसके अलावा बुधवार को एक बार फिर सीबीआई की टीम ने उन्हें तलब किया था लेकिन जिला अस्पताल से डॉक्टर की टीम उनके घर पर उनकी मेडिकल जांच के लिए चली गई थी। बाद में पता चला था कि जिला प्रशासन के दबाव में डॉक्टरों को भेजा गया था जिसे लेकर चिकित्सकों के संगठन ने आपत्ति जताई थी। इधर सीबीआई ने स्पष्ट कर दिया था कि अणुव्रत मंडल को पूछताछ के लिए आना ही होगा लेकिन वह नहीं आए।

आरोप है कि 1300 करोड़ से अधिक का मवेशी तस्करी के मामले में अणुव्रत मंडल बड़े पैमाने पर संलिप्त रहे हैं। उनके बॉडीगार्ड और बंगाल पुलिस के सामान्य कॉन्स्टेबल सहगल हुसैन के 100 करोड़ से अधिक रुपये की संपत्ति मिली है जो मवेशी तस्करी के जरिए हासिल हुई है। लगातार पूछताछ के बाद अणुव्रत मंडल की संलिप्तता उजागर हुई थी जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया है।

हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *