CBSE 2022 : केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड एकेडमिक सत्र- 2022 के परीक्षा पैटर्न में बदलाव

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने कोरोना महामारी की मौजूदा स्थिति को देखते हुए एकेडमिक सत्र 2022 के परीक्षा पैटर्न में कई अहम बदलाव किए हैं। सीबीएसई ने सोमवार ( 5 जुलाई 2021) को इस संबंध में डिटेल्ड नोटिफिकेशन जारी किया है। सीबीएसई ने अपने नोटिस में बताया है कि सत्र-2022 में भी आंतरिक मूल्यांकन की मदद से बोर्ड रिजल्ट तैयार किया जाएगा। इतना ही नहीं छात्रों की परेशानी को कम करने के लिए कोर्स को दो भागों में बांटा जाएगा।

पहले 50% कोर्स की परीक्षा टर्म-1 एग्जाम के रूप में नवंबर-दिसंबर 2021 में आयोजित की जाएगी और कोर्स के दूसरे 50% की परीक्षा टर्म-2 एग्जाम/वार्षिक परीक्षा के रूप में मार्च-अप्रैल 2022 में आयोजित की जाएगी। इसके साथ ही सत्र 2022 के लिए बनाई अपनी स्कीम में कई अहम बदलाव किए हैं। सीबीएसई 10वीं, 12वीं के छात्र सीबीएसई की वेबसाइट cbse.nic.in पर जाकर पूरा नोटिफिकेशन देख सकते हैं। सीबीएसई ने अगले साल के परीक्षा पैटर्न में जो बदलाव किए हैं उसकी 12 खास बातें यहां देख सकते हैं-

सीबीएसई परीक्षा 2022 पैटर्न में बदलाव की 12 बातें-
1- 50 फीसदी पाठ्यक्रम वाली दो टर्म एंड परीक्षाएं होंगी।
2- पिछले साल की तरह इस सत्र 2021-22 के लिए भी पाठ्यक्रम घटाया जाएगा।

3- आंतरिक मूल्यांकन, प्रैक्टिकल परीक्षाएं और प्रोजेक्ट वर्क और ज्यादा भरोसेमंद व मान्य बनाने की कोशिश की जाएगी।
4- कक्षा 9, 10 का आंतरिक मूल्यांकन तीन पीरिऑडिक टेस्टों, छात्र के ज्ञान और प्रोजेक्ट वर्क आदि के आधार पर किया जाएगा।

5- कक्षा 11, 12 क आंतरिक मूल्यांकन टॉपिक/यूनिट टेस्ट, प्रैक्टिकल और प्रोजेक्ट रिपोर्ट आदि के आधार पर किया जाएगा।
6- स्कूलों को सभी छात्रों की प्रोफाइल तैयार करनी होगी जिसमें आंतरिक मूल्यांकन का सबूत डिजिटल फॉर्मेट में होगा।

7- आंतरिक मूल्यांकन के मार्क्स सीबीएसई पोर्टल पर अपलोड करने के लिए स्कूलों का पोर्टल की सुविधा दी जाएगी।
8- टर्म -1 की परीक्षा 90 मिनट की होगी। इस पेपर में बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे।

9- टर्म -2 की परीक्षा को वार्षिक परीक्षा माना जाएगा जो दो घंटे की होगी। इस परीक्षा का आयोजन मार्च-अप्रैल में किया जाएगा। परीक्षा न हो पाने की दशा में एमसीक्यू पेपर पर 90 मिनट की परीक्षा का आयोजन कराया जाएगा।

10 – सीबीएसई के लेटेस्ट नोटिफिकेशन के अनुसार, यदि नवंबर-दिसंबर 2021 में टर्म-1 परीक्षा के दौरान हालात ऐसे रहे कि स्कूल पूरी तरह बंद हों तो ऐसे में टर्म 1 की एमसीक्यू आधारित परीक्षा ऑनलाइन/ऑफलाइन मोड से छात्र अपने घर से ही दे सकेंगे। लेकिन टर्म-2 की परीक्षा स्कूलों या परीक्षा केंद्रों में आयोजित की जाएगी।

11- वहीं यदि टर्म-2 की परीक्षा के दौरान यानी मार्च-अप्रैल 2022 में हालात ऐसे रहे कि स्कूल पूरी तरह से बंद हों तो टर्म -1 की परीक्षा के आधार पर ही रिजल्ट तैयार किया जाएगा। इस नियम में टर्म 1 के मार्क्स का वेटेज बढ़ा दिया जाएगा।

12- सीबीएसई ने तीसरे प्रकार के हालात जिसमें टर्म 1 और टर्म 2 दोनों के दौरान स्कूल न खुलें तो छात्रों को दोनों परीक्षाएं घर से ही देनी होंगी। खासकर कक्षा 10 और 12 के छात्रों को। ऐसी स्थिति में रिजल्ट इंटरनल असेसमेंट/प्रैक्टिकल/प्रोजक्ट वर्क और टर्म 1 व 2 के थ्योरी मार्क्स के आधार पर रिजल्ट तैयार किया जाएगा।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *