Chhath Puja : कोविंद, जावड़ेकर और नकवी ने देशवासियों को छठ पूजा की दी शुभकामनाएं

नयी दिल्ली, 20 नवंबर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आस्था के पावन महापर्व छठ पूजा पर देशवासियों को शुभकामनाएं देते हुए शुक्रवार को कहा कि प्रकृति और पर्यावरण के संरक्षण का संकल्प लें तथा कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए पर्व मनाएं।

श्री कोविंद ने अपने संदेश में कहा, “ आस्था के पावन महापर्व, छठ पूजा पर देशवासियों को शुभकामनाएं। मेरी कामना है कि इस वर्ष छठ मैया सभी देशवासियों को आरोग्य और समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करे। आइए, छठ पूजा के शुभ अवसर पर प्रकृति और पर्यावरण के संरक्षण का संकल्प लें तथा कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए पर्व मनाएं।”

नहाय खाय के साथ चार दिन तक चलने वाला महापर्व 18 नवंबर को शुरु हुआ और शनिवार को श्रद्धालुओं के उगते सूर्य को अर्घ्य देने के उपरांत संपन्न होगा।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने शुक्रवार को सूर्य उपासना के महापर्व छठ पूजा के शुभ अवसर पर सभी को हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं। नहाय खाय के साथ चार दिन तक चलने वाला महापर्व 18 नवंबर को शुरु हुआ और शनिवार को श्रद्धालुओं के उगते सूर्य को अर्घ्य देने के उपरांत संपन्न होगा।

श्री जावड़ेकर ने ट्वीट किया, “ सूर्य उपासना के महापर्व छठ पूजा के शुभ अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।” श्री नकवी ने लिखा, “ छठ पूजा महापर्व के पावन अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।”

चार दिनों तक चलने वाले छठ महापर्व का आज तीसरा दिन है । आज शाम को डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा। इसे संध्या अर्घ्य भी कहते हैं. उगते सूर्य को अर्घ्य देने की रीति तो कई व्रतों और त्योहारों में है लेकिन डूबते सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा केवल छठ में ही है। अर्घ्य देने से पहले बांस की टोकरी को फलों, ठेकुआ, चावल के लड्डू और पूजा के सामान से सजाया जाता है. सूर्यास्त से कुछ समय पहले सूर्य देव की पूजा होती है फिर डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देकर पांच बार परिक्रमा की जाती है।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *