Congress News Update : पूंजीपतियों के हवाले किया जा रहा है सार्वजनिक संपत्तियों को, डॉ रामेश्वर

Insight Online News

रांची, 28 मार्च : कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा कि गांव-देहात में एक कहवात है-‘‘पिता कमाए और कपूत गवाएं।’’ देश आज इसी कहावत से रूबरू हो रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में देश के गरीबों, जरूरतमंद और कमजोर वर्गों के विकास की जो बुनियाद रखी गयी थी, उसे तहस नहस किया जा रहा है। सार्वजनिक संपत्तियों को भाजपा शासनकाल में पूंजीपति मित्रों के हवाले किया जा रहा है। एक के बाद एक सार्वजनिक कंपनियों को बेचा जा रहा है।

उरांव रविवार को असम विधानसभा दौरे के क्रम में लरसिंगा टी गार्डेन, अरुणाबन टी गार्डेन और नागर टी गार्डेन में कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि चाय बेचने वाले व्यक्ति ने, जिसे कभी किसी ने चाय बेचते नहीं देखा। वह व्यक्ति चाय बेचते-बेचते आज असम के चाय बागान को बेचने की कोशिश में जुट गया है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी सत्ता में आएगी, तो चाय बगान में काम करने वाले जनजातीय समुदाय के लोगों को अनुसूचित जनजाति का दर्जा प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि वे चुनाव के बाद भी क्षेत्र में आएंगे और उनकी समस्याओं के समाधान को लेकर प्रयास करेंगे। अब देश में राजतंत्र खत्म हो गया है, प्रजातंत्र है। जनता पांच सालों में अपने प्रतिनिधि को चुनती है। चुनी हुई सरकार की यह जिम्मेवारी होती है कि वह लोगों की पढ़ाई, रोजगार, सिंचाई और सुरक्षा की जिम्मेवारी का निर्वहन करें। सरकार पांच वर्षों तक अपने घोषणा पत्र के अनुरूप काम करती है, लेकिन असम के लोगों के साथ पिछले पांच सालों में वादाखिलाफी हुआ है।

दूसरी तरफ लोगों को भी यह मानना है कि कोरोना संक्रमणकाल में सिर्फ कांग्रेस पार्टी ने ही जनहित और लोगों की मुश्किलों को कम करने का प्रयास किया है।

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने बताया कि रामेश्वर उरांव ने लोहरदगा, गुमला, खूंटी और सिमडेगा सहित विभिन्न जिलों से आकर असम के टी बागान में काम करने वाले उरांव, बड़ाइक और मुंडा जनजाति के बीच पहुंच कर चुनावी सभा को संबोधित किया।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *