Congress Ramgarh Session Update : 1940 के रामगढ़ अधिवेशन में कांग्रेस ने देखा था झारखंड प्रदेश का सपना – रामेश्वर उरांव

Insight Online News

रामगढ़, 20 मार्च : कांग्रेस का 53वां अधिवेशन वर्ष 1940 में रामगढ़ की पवित्र धरती पर हुआ था। उसी अधिवेशन के बाद देश में आजादी की मुहिम को तेज कर दिया गया था। उसी का नतीजा है कि आज हम आजाद देश में जी रहे हैं। उसी वक्त कांग्रेस ने झारखंड प्रदेश का सपना देखा था। आज वह सपना साकार है और झारखंड प्रदेश विकास की ओर अग्रसर है।

यह बात शनिवार को रामगढ़ में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सह प्रदेश के वित्त मंत्री व खाद्य आपूर्ति मंत्री रामेश्वर उरांव ने कही। उन्होंने कहा कि रामगढ़ के कांग्रेस अधिवेशन की याद में आज यह स्मृति दिवस मनाया जा रहा है। दामोदर नदी तट पर आयोजित कार्यक्रम में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पंडित जवाहरलाल नेहरू, सरदार वल्लभभाई पटेल, सुभाष चंद्र बोस, मौलाना अबुल कलाम आजाद, डॉ राजेंद्र प्रसाद, डॉ श्रीकृष्ण सिंह, राम नारायण सिंह, केबी सहाय जैसी शख्सियत ने हिस्सा लिया था।

उन्होंने कहा कि झारखंड की जनता ने न सिर्फ उन लोगों का स्वागत किया, बल्कि अधिवेशन में हिस्सा लेने आए ताना भगत और आदिवासी समूह के लोगों ने आजादी की जंग में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। उस मौके पर अधिवेशन के दौरान दो गेट बनाए गए थे। इसमें एक था बिरसा द्वार और दूसरा था झारखंड द्वार।

झारखंड प्रदेश कमेटी के लिए सोनिया गांधी का संदेश
रामगढ़ में आयोजित स्मृति उत्सव को लेकर पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने संदेश भेजा था। उन्होंने कहा कि रामगढ़ की धरती पर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी का 53वां अधिवेशन 1940 में आयोजित हुआ था। उसके लिए मनाए जा रहे स्मृति उत्सव के लिए झारखंड प्रदेश कमेटी को बधाई देती हूं।

साथ ही कहा है कि मौलाना अबुल कलाम आजाद की अध्यक्षता में ऐतिहासिक सत्र तब आयोजित किया गया था, जब फासीवाद चरम पर था। नाजीवाद, लोकतंत्र, नागरिक स्वतंत्रता और बहुलवाद का गला घोंटा जा रहा था। कांग्रेस भारत के एक नए विचार के लिए लड़ाई में सबसे आगे थी। कांग्रेस एक संप्रभु और लोकतांत्रिक भारत के लिए लोगों को एकजुट करने में व्यस्त थी। आज झारखंड प्रदेश कमेटी, कांग्रेस पार्टी के उस 53वें सत्र से प्रेरणा लें और अपने मूल्यों को आगे बढ़ाने में सक्रिय हों।

कांग्रेस पार्टी नहीं बल्कि देश की विचारधारा है : अनूप सिंह
समिति उत्सव में शामिल हुए बेरमो विधायक अनूप सिंह ने कहा कि कांग्रेस सिर्फ पार्टी नहीं बल्कि इस देश की विचारधारा है। भाजपा लगातार कांग्रेस मुक्त भारत का नारा बुलंद करती है। लेकिन, हकीकत यह है कि जब भी आजादी का नाम आएगा, कांग्रेस के नेताओं का नाम उसमें शामिल होगा। देश की कोई ऐसी ताकत नहीं है, जो कांग्रेस को भारत से अलग कर सकता है। कांग्रेस की सोच ने इस देश में रोजगार पैदा किया था। उसका स्पष्ट उदाहरण कोल इंडिया, सेल, भेल है।

कार्यक्रम में मंत्री बादल पत्रलेख, आलमगीर आलम, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत सहाय, रोशन लाल भाटिया , केशव प्रसाद कमलेश, विधायक ममता देवी, अंबा प्रसाद, अकेला यादव, इरफान अंसारी, प्रवक्ता आलोक दुबे, शहजादा अनवर, जलेश्वर महतो, मन्नान मलिक, गीताश्री उरांव, राजेश ठाकुर, रामगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष पंकज तिवारी सहित कई लोग शामिल थे।

हिन्दुस्थान समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *