Corporate sector Crime Update jharkhand: घाटकुरी माइंस केस में सीबीआई के घेरे में उषा मार्टिन

उषा मार्टिन के प्रबंध निदेशक राजीव झंवर को सीबीआई कर रही है तलाश।

अवैध उत्खनन मामले को मैनेज करने व घूस देने में उषा मार्टिन के एमडी पर केस

रांची : घाटकुरी लौह-अयस्क खदान में अवैध उत्खनन को लेकर दर्ज केस मैनेज करने और सीबीआई अफसर को घूस देने के मामले में सीबीआई ने बड़ी कार्रवाई की है। उषा मार्टिन ग्रुप और उनके प्रबंध निदेशक राजीव झंवर समेत 6 के खिलाफ केस दर्ज किया है। अन्य चार आरोपियों में पूर्व सीबीआई एसपी एनएमपी सिन्हा, उषा मार्टिन के अधिकारी राजकुमार कपूर, अपर बाजार रांची के चार्टर्ड अकाउंटेंट विनय जालान और उनके पुत्र पार्थ जालान शामिल हैं। सीबीआई में दर्ज एफआईआर में कहा गया है कि वर्ष 2016 में पश्चिम सिंहभूम की घाटकुरी खदान में उषा मार्टिन कंपनी ने स्वीकृत मात्रा से अधिक खुदाई कर ली थी।

झारखंड के प्रतिष्ठित अखबार दैनिक भास्कर में छपी खबर के मुताबिक, इसे लेकर केस दर्ज किया गया था। मामले की जांच तत्कालीन सीबीआई एसपी एनएमपी सिन्हा को सौंपी गई थी। सूत्रों के अनुसार, सिन्हा को यह मामला मैनेज करने के एवज में 50 लाख रुपए का ऑफर किया गया। इसमें से पहली किस्त के रूप में 25 लाख रुपए बतौर रिश्वत भी दी गई। इसके लिए कंपनी की ओर से सीए विनय जालान दिल्ली गए। शनिवार को सीबीआई ने रांची समेत देश के 8 ठिकानों पर छापेमारी की। सिन्हा और विनय जालान को गिरफ्तार करते हुए सिन्हा के ठिकाने से घूस की रकम जब्त की।

सीबीआई द्वारा दर्ज एफआईआर में उषा मार्टिन के प्रबंध निदेशक राजीव झंवर सहित छह लाेगाें काे अभियुक्त बनाया गया है। इसमें आराेप है कि अवकाशप्राप्त सीबीआई अधिकारी एनएमपी सिन्हा के साथ मिलीभगत कर ‌वर्ष 2016 में दर्ज मुकदमे को अपने पक्ष में कराने के लिए 20 लाख रुपए घूस देने की पेशकश की गई थी। इस काम के लिए उषा मार्टिन के एमडी राजीव झंवर ने अपनी कंपनी के पदाधिकारी राजकुमार कपूर, चार्टर्ड एकाउंटेंट विनय जालान और उनके पुत्र पार्थ जालान काे लगाया गया था। मालूम हो कि वर्ष 2016 में कोल माइंस को लेकर सीबीआई ने उषा मार्टिन कंपनी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

इस मामले में सीबीआई स्पेशल कोर्ट के आदेश से उषा मार्टिन और उसके अधिकारियों के खिलाफ समन जारी था, जिसे मैनेज करने के लिए अवकाशप्राप्त सीबीआई अधिकारी एनएनपी सिन्हा के साथ मिलीभगत कर षडयंत्र रचा गया है। सीबीआई के पूर्व एसपी एनएमपी सिन्हा औैर रांची के अपर बाजार के कार्ट सराय राेड के चार्टड एकाउंटेंट विजय जलान को सीबीआई ने दो दिन पहले गिरफ्तार कर लिया था। जलान पर उषा मार्टिन की ओर से रिश्वत देने का आरोप है। ज्ञात हाे कि सिन्हा एक महीने पहले सीबीआई से रिटायर हुए थे और वे पूर्व सीबीआई निदेशक और वर्तमान ने नार्काेटिक्स कंट्राेल ब्यूराे (एनसीबी) प्रमुख राकेश अस्थाना के ओएसडी रह चुके हैं।

सीबीआई द्वारा रविवार काे जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि गिरफ्तार चार्टर्ड अकाउंटेंट विनय जालान और पूर्व सीबीआई अधिकारी एनएमपी सिन्हा को 9 अक्टूबर तक के लिए रिमांड पर लिया गया है। दर्ज प्राथमिकी में आराेप है कि उषा मार्टिन कंपनी के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले की जांच प्रगति को प्रभावित करने और जांच की दिशा कंपनी के पक्ष में ले जाने के एवज में रिश्वत के रूप में 50 लाख रुपए मांगे गए थे। इसमें पूर्व सीबीआई अधिकारी और चार्टर्ड अकाउंटेंट की मिलीभगत है। छापेमारी के दौरान चार्टर्ड अकाउंटेंट के यहां से 25 लाख रुपए नकद और कागजात बरामद हुए हैं। जिसमे

मालूम हो कि अवैध खनन मामले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर वर्ष 2011 में जस्टिस एमबी शाह की अध्यक्षता में आयोग का गठन किया गया था। शाह आयोग ने जांच के दौरान पाया था कि झारखंड में खनन कर रही सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की कंपनियों ने 22,000 करोड़ रुपए के लौह अयस्क का खनन बगैर वैधानिक अधिकार के किया गया है। झारखंड में 18 कंपनियां बगैर पर्यावरण स्वीकृति के डीम्ड विस्तार के तहत लाैह अयस्क का खनन कर रही थीं। वहीं 22 खदानों में नियमों का उल्लंघन कर खनन किया जा रहा था। इसमें उषा मार्टिन की घाटकुरी माइंस का भी नाम शामिल था। इसमें लौह अयस्क पट्टाधारियों पर लीज की शर्तों का उल्लंघन कर खनन करने का आरोप है।

एनएमपी सिन्हा- अशोका इंक्लेव, पार्ट-2, फरीदाबाद
राजीव झवर- एमडी, उषा मार्टिन
राजकुमार कपूर- अधिकृत हस्ताक्षरी, उषा मार्टिन लिमिटेड
विनय व पार्थ जालान- चार्टर्ड एकाउंटेंट, 48, कार्ट सराय रोड, अपर बाजार, रांची

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *