Corruption Update : ‘धनकुबेर’ निकला भू-अर्जन अधिकारी राजेश कुमार गुप्ता, 50 करोड़ से अधिक की सम्‍पत्ति‍ मिली

पटना। रोहतास के भू-अर्जन पदाधिकारी राजेश कुमार गुप्ता की संपत्ति का हिसाब-किताब लगाना शुरू कर दिया गया है। निगरानी अन्वेषण ब्यूरो की छापेमारी के बाद जमीन-जायदाद के मिले कागजात और मकान की भव्यता देख जांच से जुड़े अधिकारी तक हैरान हैं। कागज पर जमीन-जायदाद आदि संपत्तियों की कीमत भले ही कम दिख रही हो पर इसका बाजार मूल्य करोड़ों में आंका जा रहा है। अधिकारियों को अनुमान है कि भू-अर्जन पदाधिकारी की संपत्ति का मूल्य 50 करोड़ तक पहुंच सकता है।

निगरानी अन्वेषण ब्यूरो ने भू-अर्जन पदाधिकारी राजेश कुमार गुप्ता की जिन संपत्तियों का पता लगाया है, उसमें 31 अचल संपत्तियां हैं। इनमें अररिया के मौजा फारबिसगंज में 9 प्लॉट, अररिया के ही जोगबनी में 1, मौजा सिकटी में 3 प्लॉट हैं। इसके अलावा किशनगंज जिले में अलग-अलग जगहों पर 8 प्लॉट खरीदा गया है। इसके अलावा फारबिसगंज के सदर रोड में दो मंजिला भव्य मकान भी है। वहीं पटना नागेश्वर कॉलोनी और आनंदपुरी स्थित सिटी इन्कलेव में फ्लैट है। कई फ्लैट की खरीदारी को लेकर रकम का भुगतान किए जाने से संबंधित दस्तावेज भी हाथ लगे हैं। सभी संपत्तियां खुद, पत्नी, पुत्र, मां और भाई के नाम पर खरीदी गई है।

  • रांची की 55 हजार वर्गफीट जमीन की होगी जांच

राजेश कुमार गुप्ता की पत्नी अमिता रानी के नाम पर रांची में 1800 वर्गफीट की एक जमीन है। वहीं रांची में ही 55 हजार वर्गफीट जमीन होने की बात सामने आई है। जांच से जुड़े अधिकारियों को आशंका है कि यह जमीन भी काफी कीमती हो सकती है और इसमें बड़े पैमाने पर काला धन खपाया गया है। इस जमीन और वहां हो रहे निर्माण कार्य की छानबीन करने जल्द निगरानी की टीम रांची भेजी जाएगी। इसके अलावा पूर्णिया में भी 4 बीघा जमीन है।

  • 25 पासबुक से हुई लेनदेन की जांच होगी

राजेश कुमार गुप्ता और उनके परिजनों के 25 बैंक खातों का पता चला है। निगरानी ब्यूरो इन खातों से हुई एक-एक लेनदेन की जांच करेगी। सभी पासबुक को अपडेट भी किया जाएगा ताकि इसमें जमा रकम का सही पता चल सके। जल्द ही सभी पासबुक को अपडेट किया जाएगा।

  • 1996 से नौकरी में हैं, 90 लाख होता है वेतन

निगरानी द्वारा दर्ज मुकदमे के अनुसार राजेश कुमार गुप्ता वर्ष 1996 में सरकारी नौकरी में आए। तब से अबतक उनका अनुमानित वेतन 90 लाख रुपए होता है। ऋण से उन्हें 19 लाख की आय हुई जबकि पत्नी का अन्य स्रोतों से अनुमानित आय 10 लाख है। बेटे की अनुमानित आय 15 लाख रुपए बताया जाता है। इसके अलावा उनके भाई की आय 30 लाख आंकी गई है। इसके अलावा भाई और मां के द्वारा बेचे गए जमीन से 6.87 लाख की आमदनी हुई। इस प्रकार उनका और उनके भाई, पत्नी, बेटे और मां की कुल अनुमानित आय 1,70, 87,000 रुपए आंकी गई है।

वहीं राजेश कुमार गुप्ता का अनुमानित खर्च 38 लाख रुपए लगाया गया है। इस हिसाब से परिवार का बचत 1,32,87 000 होना चाहिए पर चल-अलच संपत्ति मिलाकर 2,22,98,984 रुपए होती है। इसमें बड़ा हिस्सा अचल संपत्ति का है जो कि कागज पर की गई खरीद के अनुसार है। हालांकि बाजार भाव के अनुसार इन संपत्तियों की कीमत कई गुना ज्यादा बताई जा रही है।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *