Cycle tender canceled in Jharkhand : साइकिल पर संकट, टेंडर फिर रद्द, 122 करोड़ रुपए की साइकिल तैयार करने का था टेंडर

Insight Online News

  • आठवीं के करीब 3.50 लाख बच्चों को मिलनी थी साइकिल

रांची l राज्य के अंदर सरकारी स्कूल की आठवीं क्लास में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं को साइकिल देने के लिए कल्याण विभाग की ओर से निकाला गया टेंडर रद्द कर दिया गया है। यह टेंडर तीसरी बार रद्द किया गया है।

इस बार भी आठवीं के करीब 3.50 लाख छात्र-छात्राओं को साइकिल उपलब्ध कराने के लिए एक ही कंपनी ने टेंडर डाला था। छात्र-छात्राओं को 122 करोड़ की साइकिल दी जानी थी। अब संबंधित छात्र-छात्राओं को साइकिल की जगह राशि दी जा सकेगी। छात्र-छात्रा इससे खुद साइकिल खरीद सकेंगे। सूत्रों की मानें तो कोहिनूर नाम की कंपनी ने तीनों बार टेंडर डाला। इसके अलावा किसी और कंपनी ने टेंडर नहीं डाला। साइकिल निर्माण करने वाली बड़ी कंपनियों और किसी दूसरी कंपनी के नहीं आने से भी टेंडर को रद्द कर दिया गया। राज्य सरकार ने 2020-21 के लिए साइकिल की राशि की जगह साइकिल खरीद कर देने का निर्णय लिया था। इसके बाद टेंडर की प्रक्रिया शुरू की गई। कल्याण विभाग ने 50 करोड़ रुपए के टर्मओवर वाली कंपनी को टेंडर प्रक्रिया में शामिल होने के लिए योग्य बताया। इससे कई कंपनियों के आने की संभावना थी।

बड़ी कंपनियां टर्मओवर का दायरा कम की वजह से शामिल नहीं हुए। उनका स्पष्ट मानना था कि इसमें छोटी कंपनियां आएंगी और कम दर पर साइकिल तैयार कर देने की बात कहेगी। हो सकता है कि वह इसे पूरा भी नहीं कर सके। ऐसे में टेंडर प्रक्रिया में उनका शामिल होना, न होना बराबर है। अब 2021-22 सत्र के लिए आठवीं के छात्र-छात्राओं को साइकिल देनी है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि सरकार साइकिल की जगह उसकी राशि 4500 रुपए छात्र-छात्राओं के बैंक खाते में दे दे। इससे वे साइकिल खरीद सकेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *