दिल्ली सरकार ने मुख्य सीवर लाइन की सफाई योजना को दी मंजूरी

नई दिल्ली, 03 सितंबर । दिल्ली में सीवरेज नेटवर्क को बेहतर करने की दिशा में दिल्ली सरकार लगातार काम कर रही है। इसी कड़ी में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने किलोकारी एसपीएस (फिल्टर हाउस) से ओखला एसटीपी तक ग्रेविटी डक्ट नंबर-1 की सफाई के 4.8 करोड़ रुपये की परियोजना को मंजूरी दे दी है।

दिल्ली सरकार ने डीजेबी के अधिकारियों के मंथन पर व्यापक स्तर पर सीवर लाइन की सफाई की योजना बनाई है। सिसोदिया ने बताया कि किलोकारी एसपीएस (फिल्टर हाउस) से ओखला एसटीपी तक ग्रेविटी डक्ट नंबर-1 (सीवर लाइन) की में गाद जमा हो जाने के कारण इस लाइन में सीवर के पानी का कम प्रवाह हो रहा है। लेकिन अब जल्द ही इस ग्रेविटी डक्ट की सफाई का काम शुरू कर दिया जाएगा। इससे दिल्ली के कई इलाकों में लोगों को सीवर ओवरफ्लो की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा।

मानसून से पहले ही ग्रेविटी डक्ट नंबर-2 और 3 की सफाई का कार्य कर लिया गया था पूरा

सिसोदिया ने बताया कि 140-एमजीडी ओखला एसटीपी में मौजूदा तीन ग्रेविटी डक्ट्स (सीवर लाइनों) के माध्यम से सीवेज को पहुंचाया जाता है। इन तीन ग्रेविटी डक्ट्स को एनओएस नंबर-1, 2 और 3 में बांटा गया है। ग्रेविटी डक्ट नंबर- 1 और 2, किलोकारी सीवेज पंपिंग स्टेशन से निकलते हैं, जबकि ग्रेविटी डक्ट नंबर-3 श्रीनिवासपुरी में रिंग रोड स्थित कैम्ब्रिज स्कूल के पीछे टैक्सी स्टेंड से शुरू होती है।

विभिन्न एसपीएस जैसे एंड्रयूज गंज, रिंग रोड, प्रगति विहार, बाटला हाउस, ईस्ट ऑफ कैलाश, कालकाजी, तुगलकाबाद, बाटला हाउस आदि को राइजिंग मेन्स के माध्यम से डक्ट नंबर-1, 2 और 3 में पंप किया जा रहा है। इनमें से ग्रेविटी डक्ट नंबर-3 की सफाई का काम मार्च 2022 में पूरा हो गया था। अब इसमें सीवेज का प्रवाह बेहतर हो चुका है। वहीं, केजरीवाल सरकार ने मानसून से पहले ही ग्रेविटी डक्ट नंबर-2 की सफाई का काम पूरा कर लिया था। इसे भी चालू भी कर दिया गया है।

ग्रेविटी डक्ट नंबर- 1 के बाद लोगों को जलभराव की समस्या से मिलेगी राहत

सिसोदिया ने बताया कि वर्तमान में ग्रेविटी डक्ट नंबर-1 की सफाई का कार्य बचा है, इसके अंदर भारी गाद जमा होने के कारण इसमें सीवेज का कम प्रवाह हो रहा है। खासकर भारी बारिश के दौरान एसपीएस से अत्यधिक पंपिंग के कारण बैकफ्लो की स्थिति पैदा हो जाती है।

ऐसे में सीवर का पानी कैप्टन गौर मार्ग पर ओवरफ्लो होता है, जिससे यातायात और पैदल चलने वाले लोगों को आवाजाही में काफी परेशानी का सामना करना पढ़ता है। सीवर लाइन में सीवेज के पानी के बेहतर प्रवाह व लोगों को जलभराव की समस्या से राहत देने के लिए दिल्ली सरकार ने ग्रेविटी डक्ट नंबर- 1 की सफाई शुरू करने की योजना को मंजूरी दी है।

उल्लेखनीय है कि राजधानी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में दिल्ली बोर्ड ने सीवर के पानी को पंप कर एसटीपी तक पहुंचाने के लिए कुल 116 सीवर पंपिंग स्टेशन बनाए गए है। खास बात यह है कि इन सीवर पंपिंग स्टेशनों की निगरानी अब आईओटी डिवाइस के जरिये की जाएगी। इस इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में लगा सेंसर यह सुनिश्चित करेगा कि सीवर पंपिंग स्टेशन में सीवर का गंदा पानी किस लेवल तक भर चुका है।

जैसे ही सीवर का पानी नॉर्मल लेवल से अधिक भर जाएगा, मॉनिटरिंग डिवाइस के माध्यम से इसकी जानकारी दिल्ली जल बोर्ड के अधिकारियों को मिल जाएगी। ऐसे में यह आसानी से पता लग जाएगा है कि अब सीवर पंपिंग स्टेशन (एसपीएस) को चालू करने का वक्त आ गया है, ताकि सीवर का पानी का दबाव न बढ़े।

2025 तक यमुना को साफ करना दिल्ली सरकार का लक्ष्य

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बताया कि दिल्ली सरकार ने यमुना नदी को अगले तीन साल में पूरा साफ करने का लक्ष्य रखा है। इसके तहत दिल्ली के 100 फीसदी घरों को भी सीवर लाइन से जोड़ने का प्लान है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने फरवरी 2025 तक यमुना को साफ करने की जिम्मेदारी जल बोर्ड को दी है, जिस तरह पिछले कार्यकाल में दिल्ली सरकार ने स्कूलों और अस्पतालों का कायाकल्प किया, वैसे ही इस बार यमुना को भी प्राथमिकता के आधार पर साफ करना ही मुख्य मकसद है।

यमुना क्लीनिंग सेल नए एसटीपी, डीएसटीपी का निर्माण, मौजूदा एसटीपी का 10/10 तक उन्नयन और क्षमता वृद्धि, अनधिकृत कालोनियों में सीवरेज नेटवर्क बिछाना, सेप्टेज प्रबंधन; ट्रंक व परिधीय सीवर लाइनों की गाद निकालना, पहले से अधिसूचित क्षेत्रों में सीवर कनेक्शन उपलब्ध कराना, आइएसपी के तहत नालों की ट्रैपिंग, नालियों का इन-सीटू ट्रीटमेंट आदि कार्यों कर रही हैं, ताकि दिल्लीवालों को कोई परेशानी न झेलनी पड़े और उन्हें बेहतर सुविधाएं मिलें।

(हि.स.)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *