Dev Deepavali Varanasi : मोदी का वाराणसी दौरा , ‘देव दीपावली’ पर अरबों की सौगत

वाराणसी, 30 नवंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यहां अरबों रुपये की सड़क परियोजना का लोकार्पण तथा विश्व प्रसिद्ध देव दीपावली महोत्सव का शुभारंभ करने एक दिवसीय दौरे पर आ आएंगे। इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।
आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि अपने करीब सात घंटे की यात्रा की की शुरुआत मिर्जामुराद क्षेत्र के खजुरी में आयोजित उदघाटन समारोह से करेंगे। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-19 के हंडिया (प्रयागराज)-राजातालाब (वाराणसी) खंड की छह लेन वाली चौड़ीकरण परियोजना को राष्ट्र को समर्पित करने के बाद जनसभा करेंगे। इस परियोजना पर 2,447 करोड़ रुपये की लागत आयी है। परिवर्तित छह लेन चौड़ा राजमार्ग 73 किलोमीटर का है, जिससे यात्रा के समय में अब एक घंटा कम लगने की संभावना है।

श्री मोदी के सभा स्थल पर कोरोना वायरस के मद्देनज़र शारीरिक दूरी को ध्यान में रखते हुए करीब पांच हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। 300 फीट चौड़े एवं 433 फीट लंबे जर्मन हैंगर वाले पंडाल में प्रवेश के लिए चार द्वार बनाये गए हैं। एक विशिष्ट लोगों के लिए जबकि तीन आम लोगों के लिए निर्धारित किये गये हैं। मंच की व्यवस्था अलग की गई है।

इस साल फरवरी में कोरोना संकट शुरु होने के बाद करीब नौ माह में प्रधानमंत्री की अपने संसदीय क्षेत्र में यह पहली यात्रा है। 2014 में वाराणसी संसदीय क्षेत्र से चुने जाने के बाद वह विभिन्न कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए 22 बार आ चुके हैं। यह उनकी 23वीं यात्रा होगी। हालांकि, कोरोना संकट के दौरे में भी वह अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से विभिन्न कार्यक्रमों में जुड़े रहे। गत नौ नवंबर को उन्होंने वर्जुअल तरीके से यहां 614 करोड़ रुपये की विभिन्न परियोजनाओं का शिलान्यास एवं उद्घाटन किया था।

श्री मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के खजुरी में आयोजित कार्यक्रम के बाद गंगा तट पर आयोजित देव दीपावली उत्सव की शुरुआत दीये जलाकर करेंगे। गंगा के दोनों तटों पर 11 लाख मिट्टी के दिये समेत असंख्य बिजली के दीप जलाने की तैयारियां पूरी कर ली गई है।
दीपोत्सव के बाद श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन के बाद प्रधानमंत्री यहां अपनी महत्वाकांक्षी परियोजना-
निर्माणधीन कॉरिडोर परियोजना का स्थलीय निरीक्षण करेंगे। अपनी यात्रा की समाप्ति से पहले वह भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली सारनाथ में यहां के पुरातात्विक महत्व को दर्शाने वाले ‘प्रकाश एवं ध्वनि शो’ कार्यक्रम का गवाह बनेंगे, जिसका उद्घाटन उन्होंने इसी महीने की नौ तारीख को किया था । करीब आठ करोड़ रुपये की लागत से तैयार प्रकाश एवं ध्वनि शो में हिंदी फिल्मों के महानायक अभिताभ बच्चन ने आवाज़ दी है।

प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार के पर्यटन विभाग की वेबसाइट ‘पावन पथ’ का भी उद्घाटन करेंगे।
अपनी यात्रा के दौरान श्री मोदी गंगा की लहरों में अलंकनंदा क्रूज पर सवार होकर चेतसिंह घाट पर आयोजित लेजर शो
समेत रौशनी में नहाये 84 गंगा घाटों के अद्भूत नजारे देखेंगे।
प्रधानमंत्री के इस दौरे को लेकर तमाम तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। जिला प्रशासन एवं भारतीय जनता पार्टी की जिला
एवं महागर इकाई की ओर से ज़ोरदार तैयारियां की गई हैं। दर्जनों स्थानों पर पारंपरिक तरीके से स्वागत की तैयारियां की गई हैं।
भाजपा काशी क्षेत्र के मीडिया प्रभारी नवरतन राठी ने बताया कि श्री मोदी के संभावित यात्रा मार्गों पर 20 स्थानों पर हजारों पार्टी कार्यकर्ता ढोल-नगाड़ों एवं फूल-मालाओं के साथ स्वागत करेंगे। उन्होंने बताया के देव दीपावली के मद्देनज़र पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से जगह-जगह साफ-सफाई की है। कार्यकर्ता उनकी आगवानी को लेकर बेहद उत्साहित हैं।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि उत्तर प्रदेश सूचना विभाग की ओर से गंगा की सभी 84 घाटों सहित शहर के विभिन्न स्थानों तथा प्रधानमंत्री के संभावित यात्रा मार्गों पर लगभग लगभग 1000 हार्डिंग, 1200 स्टैंडी के साथ-साथ गंगा घाटों पर दर्शकों को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के लाइव प्रसारण देखने के लिये 12 स्थानों पर बड़े आकर के ‘एलसीडी वॉल’ तथा शहर में लोगों को लाइव प्रसारण देखने के लिये 12 प्रमुख स्थानों पर 12 एलईडी स्क्रीन लगाये गये हैं। संभावित यात्रा मार्ग संत रविदास मंदिर -डीरेका-सारनाथ मार्ग के दोनो तरफ जगह-जगह होर्डिंग लगाये गये हैं तथा उन्हें बिजली के रंग-बिरंगे झालरों से सजाया गया है। 15 घाटों पर धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। करीब 36 कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे।

किसानों के आंदोलन को देखते हुए सुरक्षा के अतिरिक्त इंतज़ाम किये गए हैं। अभेद्य इंतज़ामों के तहत जमीन, आकाश और जल में सुरक्षा निगरानी की जा रही है। सुरक्षा के लिए 11 हजार से अधिक सुरक्षा कर्मियों को जगह-जगह तैनात किया गया है। ड्रोन कैमरों की मदद से भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में निगरानी की जा रही है। शहर की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है। गंगा नदी में आम नावों के परिचालन पर प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की समाप्ति तक रोक लगा दी गई है।

प्रधानमंत्री से मिलने वाले संभावित प्रदेश साकार के मंत्रियों, भाजपा नेताओं एवं अधिकारियों से लेकर सुरक्षा कर्मियों समेत 500 से अधिक लोगों की कोरोना जांच की गई है। इनमें से कई लोगों में कोरोना के लक्षण मिले हैं। संक्रमित लोगों को प्रधानमंत्री से मिलने की इजाज़त नहीं होगी।बश्री मोदी विशेष विमान से सोमवार दोपहर करीब सवा दो बजे लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पहुंचेंगे तथा हवाई, सड़क एवं जल मार्ग से विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होने के बाद रात करीब नौ बजे यहां से दिल्ली लौट जाएंगे।

वार्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *