Drug smuggling busted in Jharkhand : रांची में हुस्न के जाल में फंसाती थी मॉडल, फिर करवाती थी ड्रग्स का अवैध कारोबार, पुलिस ने किया गिरफ्तार

रांची : पुलिस ने रांची में ब्राउन शुगर तस्कराें के एक रैकेट का भंडाफाेड़ कर एक माॅडल सहित दाे लाेगाें काे गिरफ्तार किया है। सुखदेव नगर थाना क्षेत्र के स्वर्णरेखा विद्यानगर निवासी 20 साल की माॅडल ज्याेति कुमारी दिल्ली में माॅडलिंग करती है। पुलिस काे उसके पास से 28.26 ग्राम ब्राउन शुगर मिला है। पुलिस के मुताबिक ज्याेति के इशारे पर ही राजधानी में विभिन्न शैक्षणिक संस्थानाें के विद्यार्थियाें काे इसकी सप्लाई की जाती थी।

सुखदेव नगर थाना प्रभारी ममता कुमारी ने बताया कि पुलिस काे ब्राउन शुगर तस्करी की शिकायत मिली थी। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने साेमवार देर रात न्यू आनंद नगर निवासी हर्ष कुमार काे गिरफ्तार किया। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने ज्याेति काे भी उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक माॅडल दिवाली के समय बड़ी मात्रा में ब्राउन शुगर लेकर रांची पहुंची थी।

वह घर से ही अपने गिराेह के सदस्याें से अलग-अलग जगह ब्राउन शुगर की सप्लाई कराती थी। पुलिस के मुताबिक इस काम में उसका प्रेमी शैलेश कुमार उर्फ गांधी भी पूरा सहयाेग करता था। वह अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। न्यू आनंद नगर निवासी गांधी की तलाश में पुलिस छापेमारी कर रही है।

रांची से पांच साल पहले 12वीं करने के बाद गई थी दिल्ली। दिल्ली से लाैटकर रांची में करने लगी नशे का काराेबार। ज्योति के घर से ब्राउन शुगर के अलावा, वेइंग मशीन और सिल्वर फाॅयल मिले हैं। वह ब्राउन शुगर काे पैक कर सहयाेगी से करवाती थी डिलिवरी। शैलेश कुमार उर्फ गांधी किंगपिन, वही लाता था ब्राउन शुगर। पहचान वालाें से ही फाेन पर हाेता था साैदा।

गिरफ्तार आराेपी हर्ष कुमार ने पूछताछ के दाैरान पुलिस काे बताया कि हाॅस्टल और लाॅज में रहने वाले स्टूडेंट्स के बीच ब्राउन शुगर की काफी डिमांड है। ब्राउन शुगर की डील फाेन पर ही हाेती थी। पुलिस या किसी और काे शक न हाे, इसका पूरा ध्यान रखा जाता था। यही वजह है कि सप्लाई में काफी सावधानी बरती जाती थी। सिर्फ जान-पहचान वालाें काे ही ब्राउन शुगर की सप्लाई की जाती थी।

किसी अनजान व्यक्ति से इसका जिक्र भी नहीं किया जाता था। गिरफ्तार दाेनाें आराेपियाें ने पुलिस काे ब्राउन शुगर तस्करी से जुड़ी कई महत्वपूर्ण जानकारी दी है। इसके आधार पर पुलिस ने आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस की पूछताछ में माॅडल ने पहले ताे तस्करी में शामिल हाेने की बात काे सिरे से नकार दिया। उसने कहा कि ब्राउन शुगर तस्करी के बारे में उसे काेई जानकारी नहीं है। शैलेश कुमार उर्फ गांधी ने उसे एक बैग रखने काे दिया था। जिससे पुलिस काे ब्राउन शुगर मिला है। जबकि उसे पता ही नहीं था कि इस बैग में क्या है। बाद में उसने पूछताछ में कहा कि आमताैर पर एक पुड़िया ब्राउन शुगर की कीमत 500 से लेकर 5000 रुपए तक हाेती है। जिसे जितनी जरूरत हाेती है, उसके हिसाब से उसे ब्राउन शुगर दे दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *