दिल्ली में भी ‘दुमका कांड’! बात नहीं मानी तो बीच सड़क पर 11वीं की छात्रा को सनकी आशिक ने मारी गोली

नयी दिल्ली : दिल्ली के संगम विहार इलाके से भी झारखंड के दुमका कांड जैसी दिलदहला देने वाली वारदात सामने आई है। यहां बीते 25 अगस्त को 11वीं क्लास में पढ़ने वाली 16 साल की एक नाबालिग को इलाके के ही 2 लड़कों ने बीच सड़क पर सरेआम गोली मार दी। लड़की के पिता का आरोप है कि मुख्य आरोपी उनके घर से 100 मीटर की दूरी पर ही रहता था और पिछले कई दिनों से उनकी बेटी का पीछा कर रहा था। पीड़ित छात्रा के पिता का आरोप है कि मुख्य आरोपी ने पहले सोशल मीडिया पर एक हिंदू लड़के के नाम से आईडी भी बनाई थी और बेटी से दोस्ती भी की थी, लेकिन जब बेटी को मुख्य आरोपी का असली नाम पता चला तो उसने उससे दोस्ती तोड़ दी थी. लेकिन इसके बाद भी आरोपी ने लड़की का पीछा करना नहीं छोड़ा।

बता दें कि इस मामले में बॉबी और पवन नाम के आरोपी पहले ही गिरफ्तार किए जा चुके हैं और पुलिस ने दिल्ली के त्रिलोकपुरी से एक तरफा इश्क में पागल मुख्य आरोपी अमानत अली को भी गिरफ्तार कर लिया है। अमानत अली के कहने पर ही उसके दोस्तों ने लड़की को गोली मारी थी। लड़की के कंधे पर गोली लगी थी।फिलहाल पीड़िता अस्पताल से डिस्चार्ज होकर घर आ चुकी है।

पिता का आरोप है कि लगभग एक महीना पहले भी आरोपी और उसके दोस्तों ने पीड़िता के घर की खिड़की का शीशा पत्थर मार कर तोड़ दिया था। जिसकी शिकायत इलाके के बीट हवलदार को की गई थी। लेकिन पुलिस की तरफ से कोई एक्शन नहीं लिया गया और इसी लापरवाही का नतीजा है कि एक महीने बाद आरोपी ने उनकी बेटी को गोली मार दी।

पिता ने बताया कि बीते गुरुवार को उनकी 16 साल की कक्षा 11 में पढ़ने वाली बेटी, अपनी मां और छोटे भाई के साथ कैंब्रिज इंटरनेशनल स्कूल से वापस आ रही थी तो घर से महज 150 मीटर की दूरी पर मुख्य आरोपी के 2 दोस्तों ने उनकी बेटी को पीछे से कंधे के नीचे गोली मार दी थी जिसके बाद लड़की खून से लथपथ होकर जमीन पर गिर पड़ी थी। आनन फानन में उसे पास के ही बत्रा अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां से 2 दिन पहले ही उसे डिस्चार्ज कर दिया गया है. अभी पीड़िता खतरे से बाहर है।

अब परिवार की मांग है कि ये मामला लव जिहाद का है या नहीं उन्हें नहीं पता लेकिन उनकी बिटिया को इंसाफ मिलना चाहिए जिसकी वो हकदार है। पिता की मांग है कि घटना के बाद से हर रोज कोई न कोई नेता उनके घर आता रहता है लेकिन उनकी यही मांग है कि आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।

-Agency

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *